यमकेश्वर के दशरथ मांझी : यमकेश्वर के इन ग्रामीणों ने तीन किमी0 सड़क बनाने के बाद अब श्रमदान से पुलिया निर्माण कार्य शुरू

शुरु से ही सृजनात्मक कार्यों के लिये सुर्खियों मे रैहने वाली क्षेत्र पंचायत बूंगा की ग्राम सभा बूंगा एक बार फिर विकास कार्यों को लेकर चर्चा मे है। दुर दृष्टी सोच रखने व सदैव क्षेत्र विकास के लिये चिंतित रहने वाले क्षेत्र पंचायत सदस्य पूर्व सैनिक सुदेश भट्ट, जिनके नेतृत्व मे हाल मे ही श्रमदान द्वारा तीन किमी की सडक मोहन चट्टी से वीर काटल जिसे समस्त ग्रामीणों ने दिन रात एक कर 29 दिन मे खोदकर क्षेत्र को पुरे देश मे चर्चा ओर आकर्षंण का केंद्र बनाकर रखा व एक एतिहासिक उपलब्धि हांसिल करी।

अब सडक से आगे सबसे बडी दिक्कत थी पुलिया निर्मांण की जिसके लिये कई बार आश्वासन व घोषंणायें हो चुकी। लेकिन 2014 से आज तक ये योजना धरातल पर अवतरित नही हो पायी, जिस कारण बरसात मे बूंगा वीर काटल मंगल्या गांव व आस पास के गांव मोहन चट्टी व मुख्य बजार ऋषिकेश से कट जाते हैं। जिस कारण आने जाने मे ग्रामीणों को विकट समस्याओं से जुझना पडता था। इस समस्या के समाधान के लिये सुदेश भट्ट एक बार फिर आगे आये व ग्रामीणों व क्षेत्र के नागरिकों से स्वत ही पुलिया बनाने का आवाहन करते हुये सहयोग की अपील करी। ग्रामीण अपने क्षेत्र पंचायत के साथ कंधे से कंधा मिलाकर एकजुटता का परिचय देते हुये दिल खोलकर सहयोग मे आगे आये इस सेतु निर्मांण मे जहां ग्रामीण निर्मांण कार्य मे निर्मांण स्थल पर निस्वार्थ भाव से खुब मेहनत कर रहे हैं पुलिया निर्मांण का आज बैदिक मंत्रोचारण के बीच समाज सेवी पशु प्रेमी बूंगा गांव निवासी श्री जगदीश भट्ट जी द्वारा शिला पुजन कर परंपरानुसार निर्मांण कार्य का शुभारंम्भ कर दिया गया। पंडित कांता प्रसाद भट्ट व पंडित रामलाल भट्ट के द्वारा बैदिक मंत्रोचारण का पाठ पढा गया व ग्रामीणों ने खुशी मे मिठाईयां बांटी।

इस एतिहासिक कार्य में निर्मांण सामग्री हेतु बूंगा निवासी उद्योग पति श्री मदन भट्ट जी समाज सेवी पशु प्रेमी व ब्यवसायी श्री जगदीश भट्ट जी एवं पंडित रामलाल भट्ट जी का विशेष योगदान है। इनके अलावा वीर काटल गांव के प्रवासी अपने-अपने स्तर से योगदान व सहयोग कर रहे हैं। क्षेत्र पंचायत बूंगा द्वारा समस्त सहयोगियों व प्रोत्साहन कर्ताओं निर्मांण कार्य मे लगे ग्रामीणों समेत क्षेत्र के समस्त नागरिकों का हार्दिक धन्यवाद किया गया। सुदेश भट्ट ने बताया कि जून मध्य तक बरसात से पहले इस पुलिया को पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *