इसरो करेगा एक और अंतरिक्ष मिशन की तैयारी, 2021 तक मिल सकती है कामयाबी

बेंगलूरू, एजेंसी | इसरो अध्यक्ष के. शिवन ने शनिवार को आइआइटी दिल्ली, के स्वर्ण जयंती दीक्षांत समारोह में कहा कि चंद्रयान-2 मिशन के बारे में आपने सुना है। प्रौद्योगिकी के लिहाज से हम सॉफ्ट लैंडिंग में कामयाब नहीं हुए पर चंद्रमा की सतह से 300 मीटर दूर तक सभी प्रणालियां चलती रहीं। इसरो भविष्य में सॉफ्ट लैंडिंग के लिए सारे अनुभव का इस्तेमाल करेगा। चंद्रमा के दक्षिणी हिस्से में लैंडिंग के दोबारा प्रयास पर उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर प्रयास करेगा। चंद्रयान-2 कहानी का अंत नहीं हुआ है। इसरो अध्यक्ष ने भविष्य की परियोजनाओं पर कहा कि आदित्य एल-1 सौर मिशन और मानव मिशन गगनयान पर भी काम चल रहा है। आने वाले महीनों में कई उन्नत उपग्रह भी प्रक्षेपित किए जाएंगे। दिसंबर या जनवरी में लघु उपग्रह प्रक्षेपण यान (एसएसएलवी) का पहला प्रक्षेपण भी हो सकता है। इसके अलावा सेमीक्रायोजेनिक इंजन का परीक्षण भी जल्द शुरू होगा।

Loading...

सूत्रों के मुताबिक इसरो चंद्रयान-3 मिशन की तैयारी में जुट गया है। इसमें केवल लैंडर भेजने की योजना है। इससे पहले चंद्रयान-2 मिशन में आर्बिटर के साथ लैंडर व रोवर भेजा गया था। मिशन 2021 में हो सकता है। इसरो अध्यक्ष के. शिवन ने शनिवार को आइआइटी दिल्ली, के स्वर्ण जयंती दीक्षांत समारोह में कहा कि इसरो भविष्य में सॉफ्ट लैंडिंग के लिए सारे अनुभव का इस्तेमाल करेगा। इसरो अध्यक्ष के. शिवन ने शनिवार को आइआइटी दिल्ली, के स्वर्ण जयंती दीक्षांत समारोह में कहा कि चंद्रमा के दक्षिणी हिस्से में लैंडिंग के दोबारा प्रयास पर उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर प्रयास करेगा।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *