RTI एक्टिविस कलगराम को क्यों लुभाने में लगे हैं सिंचाई विभाग के अधिकारी, जानिए क्या है पूरा मामला…

सिंचाई विभाग के अधिकारी आजकल परेशान हैं कि करें तो क्या करें इसकी वजह है आरटीआई कार्यकर्ता कलगराम। कारण आरटीआई कार्यकर्ता कलगराम के द्वारा मांगी गई सूचनाएं सिंचाई विभाग के गले की फांस बन गई है।
जानकारी के मुताबिक आरटीआई कार्यकर्ता कलगराम ने सूचना के अधिकार के तहत 16 जनवरी को मैंदरथ नहर से संबंधित चार बिंदुओं पर जानकारी मांगी। लेकिन एक माह का समय पूरा हो चुका है। अब तक विभाग की ओर से मांगी गयी जानकारी नहीं दी गयी।

आरटीआई कार्यकर्ता कलगराम के मुताबिक विभागीय अधिकारी सूचना देने के बजाय आरटीआई कार्यकर्ता के घर जाकर समझौते के प्रयास में लगे हुये है। आपको बता दें कि मैंदरथ नहर 1978 में 4 किमी 700 मीटर बनी थी। लेकिन गांव की आधा कृषि भूमि पर विभाग काश्तकारों को सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध नहीं करा पाया है।

आरटीआई कार्यकर्ता कलगराम का कहना है कि चार बिंदुओं पर सूचना मांगी गयी। लेकिन विभाग सूचना नहीं दे रहा है। कहा कि मैंदरथ गांव के आसपास के मंजरे खेड़े मे सिंचाई विभाग लघु सिंचाई विभाग के द्वारा जमोली, डडोली में भी लाखों के प्रोजेक्ट बनाकर सरकारी धन का दुरुपयोग किया जा रहा है। कहा कि सचिव के निर्देश के बाद भी एक माह से सूचना उपलब्ध न कराना विभागीय अधिकारी आरटीआई कानून का उल्लंघन कर रहे है। कहा कि इस मामले में अब सूचना आयोग में अपील दर्ज की जायेगी।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *