भतीजी पर शक हाने से चाचा ने ली जान

नैनीताल। 14 अगस्त को लालकुआं में हुई युवती की हत्या का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पूछताछ में आरोपी चाचा ने अपना जुर्म कबूल कर लिया उसे भतीजी के चाल चलन पर शक था इसलिए उसने आरती की हत्या कर दी।

बता दें कि पुलिस ने तीन टीमें गठित की और फॉरेंसिक एक्सपर्ट टीम की भी मदद लेकर आरोपी चाचा को आईपीसी 302 और 201 के तहत गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। लालकुआं से सटी बस्ती में चाचा के घर रह रही एक युवती की गला दबाकर शव टांडा जंगल में फेंक दिया गया था। पुलिस ने हत्या से पहले युवती के साथ दुष्कर्म की भी आशंका जताई थी।

14 अगस्त की सुबह घोड़ानाला लिंक मार्ग पर टांडा के जंगल में शौच के लिए गए विनोद मंडल ने किशोरी का शव पड़ा देखा तो उसने क्षेत्रवासियों और पुलिस को इसकी सूचना दी और पुलिस ने हत्याकांड से जुड़े पहलुओं की पड़ताल शुरू कर दी।

Loading...

पुलिस के अनुसार सहारनपुर की 16 वर्षीय यह यवती अपने चाचा के घर चाची की देखभाल के लिए आई थी। यवती के चाचा ने कहा कि मंगलवार रात लगभग दस बजे परिवार के लोग सो गए थे और रात एक बजे उनकी भतीजी उठी और लघुशंका करने के बाद फिर सो गई। बुधवार सुबह जब उनकी नींद खुली तो भतीजी बिस्तर पर नहीं थी और बाद में लोगों ने बताया कि उनकी भतीजी का शव टांडा जंगल में मिला है।

पुलिस को आशंका थी कि कहीं हत्या के तार आनर किलिंग से जुड़े हैे और युवती की हत्या कर शव घर से करीब 300 मीटर दूर फेंका गया था। चर्चा यह भी है कि आरती को लेकर उसके चाचा-चाची के बीच कहासुनी होती रहती थी।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *