Tuesday, July 27, 2021
Home ओपिनियन सत्तापक्ष के आगे विपक्ष की कमजोर स्थिति

सत्तापक्ष के आगे विपक्ष की कमजोर स्थिति

राज्यसभा के उपसभापति के चुनाव में राजग प्रत्याशी के रूप में जदयू के सांसद हरिवंश नारायण सिंह की जीत इसलिए कहीं अधिक उल्लेखनीय है, क्योंकि एक तो उच्च सदन में बहुमत न होने के बाद भी सत्तापक्ष को विजय हासिल हुई और दूसरे करीब चार दशक बाद यह पद किसी गैर कांग्रेसी दल के खाते में गया। राजग का नेतृत्व कर रही भारतीय जनता पार्टी को यह जीत एक ऐसे समय मिली जब विपक्षी दल महागठबंधन बनाने की तैयारी कर रहे हैं। आगामी विधानसभा चुनावों और साथ ही आम चुनाव के पहले इस नतीजे ने भाजपा के खिलाफ विपक्ष की एकजुटता की कोशिशों की हवा निकाल दी।
कर्नाटक विधानसभा चुनाव में पराजय के बाद भाजपा को सत्ता में आने से रोकने के लिए जद(एस) को समर्थन देने के बाद कांग्रेस 2019 में नरेन्द्र मोदी की राह रोकने के लिए विपक्ष को एकजुट करने की कोशिश में है। इसके लिए राहुल गांधी भी सक्रिय हैं और सोनिया गांधी भी। खुद विपक्ष आरोप जड़ता रहा है कि उसे संस्थाओं के इस्तेमाल से प्रताड़ित किया जा रहा है। राजनीतिक विरोधियों को निशाना बनाने के लिए राजकीय संस्थाओं का इस्तेमाल बढ़ता जा रहा है। चुनावी वर्ष में यह अपने चरम पर पहुंच सकता है। इस संस्थागत हमले के तले विपक्ष छटपटा रहा है और खुद को राज्यसत्ता के मनमाने इस्तेमाल का शिकार बता रहा है।
सत्तापक्ष के हरिवंश ने विपक्ष के हरिप्रसाद को मात देकर यही रेखांकित किया कि कम से कम कांग्रेस के नेतृत्व में महागठबंधन का आकार लेना उतना सहज-सरल नहीं जितना आभास कराया जा रहा है। विपक्षी खेमे में सब कुछ ठीक नहीं, यह तभी प्रकट हो गया था जब महागठबंधन की पैरवी करने वाले दलों ने यह जिम्मेदारी कांग्रेस पर ही डाल दी थी कि वह राज्यसभा उपसभापति के लिए अपने ही सदस्य को प्रत्याशी बनाए। राज्यसभा उपसभापति के चुनाव में अपने प्रत्याशी की हार के लिए राहुल गांधी की रणनीति को ही जिम्मेदार माना जा रहा है। इस पर आश्चर्य नहीं कि इस हार को व्यक्तिगत तौर पर उनके लिए कहीं ज्यादा बड़े झटके के तौर पर देखा गया।
विपक्षी खेमे द्वारा राज्यसभा उपसभापति प्रत्याशी की जिम्मेदारी कांग्रेस को सौंप देने से यही संकेत मिला कि वे या तो जीत को लेकर सुनिश्चित नहीं थे या फिर कांग्रेस से निकटता बढ़ाते हुए नहीं दिखना चाह रहे थे। ध्यान रहे कि विपक्षी दलों में कई दल ऐसे हैं जो कांग्रेस विरोधी राजनीति की उपज हैं। चुनाव नतीजे से यह भी साफ हो गया कि कांग्रेस ने अपने प्रत्याशी के पक्ष में वैसी लामबंदी नहीं की जैसी जरूरी थी। उसकी रणनीति जो भी रही हो, उसे अपने रवैय्ये को लेकर सवालों का सामना इसीलिए करना पड़ रहा है कि वह इस प्रतिष्ठापूर्ण चुनाव के प्रति गंभीर नहीं दिखी।
विपक्ष समझ नहीं पा रहा है कि संस्थागत संकट से कैसे लड़ा जाए। इसके कई कारण हैं। विपक्ष में कई दलों का अतीत इतना दागदार है कि वे गहन संस्थागत सुधारों को लेकर खुद भयाकुल हैं। समाजवादी पार्टी से लेकर तृणमूल कांग्रेस तक कुछ दलों के राजकाज की शैली ऐसी रही है कि वे संस्थागत अखंडता का दावा नहीं कर सकते, आगे बढ़कर संस्थाओं को बचाने की मशाल नहीं थाम सकते। यह भी साफ हो गया है कि सभी विपक्षी दल कांग्रेस का नेतृत्व स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं। कई विपक्षी दल तो ऐसे हैं जो इसके स्पष्ट संकेत भी दे चुके हैं।
जहां ममता बनर्जी खुद प्रधानमंत्राी पद के लिए दावेदारी पेश करती दिख रही हैं, वहीं बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में अपनी शर्तों पर ही कांग्रेस से समझौता करना चाह रही हैं। बसपा के अलावा रालोद के साथ अपना तालमेल पक्का कर रहे समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने भी यह कहकर कांग्रेस की मुसीबत बढ़ाई है कि उत्तर प्रदेश में आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ज्यादा सीटों पर लड़ने की दावेदार नहीं है।
संस्थागत सुधार का काम राजनीतिक रूप से आकर्षक नहीं होता। अधिकतर दल सोचते हैं कि इससे जन गोलबंदी नहीं की जा सकती। हमारी राजनीतिक संस्कृति ऐसी है जो अब भी राजनीतिक सत्ता को व्यक्ति में देखती है। हम लोग सियासी ड्रामे को संस्थागत सुधारों की जंग के बजाय व्यक्तियों के गुणों की जंग के रूप में देखने के आदी हैं जो अक्सर अहम भी होता है। इस ऐतिहासिक पड़ाव पर हालांकि यह धारणा बदलने की सख्त जरूरत है।
हरिवंश का राज्यसभा का उपसभापति बनना यह भी बताता है कि भारतीय जनता पार्टी और जदयू का साथ और प्रगाढ़ हुआ है। भाजपा के घटक दल के किसी नेता को प्रतिष्ठित पद मिलने से गठबंधन धर्म को मजबूती मिलती दिखी है। यह मजबूती भाजपा के नए सहयोगियों की तलाश में सहायक बन सकती है। भाजपा के साथ दोबारा जुड़ने के बाद यह माना जा रहा था कि जदयू के प्रतिनिधियों को केंद्रीय कैबिनेट में जगह मिलेगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। देखना है कि राज्यसभा उपसभापति का पद हासिल करने के बाद जदयू और भाजपा के बीच आपसी समझबूझ कितनी बढ़ती है।
विपक्ष को शायद यह बात अभी तक समझ नहीं आई है अगर वह एकजुट नहीं हुआ तो परेशानियां और बढ़ सकती हैं। इसका थोड़ा अहसास तो उसे है लेकिन साथ ही यह समझदारी भी जरूरी है कि देश की तमाम संस्थाओं को दुरूस्त करना होगा। किसी भी सामाजिक टकराव की स्थिति में संस्थाओं के बगैर न तो विश्वसनीय मध्यस्थता मुमकिन है और न ही कोई ताकतवर ही देश को शासित कर पाएगा। साझा संस्थागत सुधारों की प्रतिबद्धता के बगैर विपक्षी एकता भी कायम नहीं रह पाएगी क्योंकि उसे राज्यसत्ता के मनमाने इस्तेमाल से तोड़ना हमेशा आसान होगा।

-नरेंद्र देवांगन-

RELATED ARTICLES

उत्तराखंड के यमकेश्वर क्षेत्र में बहुउद्देश्यीय बेडू कंपनी द्वारा स्वरोजागर योजना का शुभारंभ

यमकेश्वर। यमकेश्वर में पहाड़ी क्षेत्र में लघु उद्योग स्थापित करने के मध्यनजर यमकेश्वर के वासियों और प्रवासियों के समूह से बना बेडू (Bright Era...

विश्व पर्यावरण दिवस- कहीं हम रक्षक से भक्षक तो नहीं बनते जा रहे हैं ?

हर वर्ष 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस के रूप में मनाया जाता है। हर वर्ष लाखों लोग वृक्षा रोपण करते हैं। उसकी फोटो...

शादी के दिन दिव्यांग हुए राजेन्द्र प्रसाद कुकरेती की जीवटता ने बनाया लेखक, मौत को भी दी चुनौती

आसाढ़ माह के आठ गते यानि 22जून 1988 को शादी का शुभ मुहूर्त था, आँगन के एक कोने पर चूल्हे की भट्टी जल रही...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

उत्तराखंड में 4 अगस्त तक बढ़ा कोविड कर्फ्यू, स्पा और सैलून के साथ खुलेंगे ये संस्थान, नाइट कर्फ्यू अभी रहेगा बरकरार

देहरादून। उत्तराखंड सरकार ने कुछ और रियायतों के साथ प्रदेश में कोविड कर्फ्यू को मंगलवार सुबह छह बजे से चार अगस्त सुबह छह बजे...

उत्तराखंड में पुलिस ग्रेड पे पर बोले सीएम धामी, सरकार ने स्वयं की पहल, सीएम आवास के मिथक पर कही ये बड़ी बात

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी पूजा-पाठ के बाद सरकारी आवास में शिफ्ट हो गए हैं। इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में...

सीएम के चेहरे पर बोले प्रीतम, क्या मेरा चेहरा बुरा है…? कांग्रेस आलाकमान ने चुनाव में कोई चेहरा घोषित नहीं किया, सत्ता में...

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा के नवनियुक्त नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह सोमवार को सुबह 11 बजे विधानसभा भवन में विधिवत रूप से पदभार ग्रहण कर लिया...

उद्योग मंत्री गणेश जोशी ने दिए नवनियुक्त उद्योग सचिव राधिका झा को औद्योगिक विकास में तेजी लाने के निर्देश

देहरादून। आज नवनियुक सचिव, उद्योगिक विकास, लघु, सूक्ष्म, एवं मध्यम उद्यम, खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग राधिका झा ने कैंप कार्यालय में कैबिनेट मंत्री गणेश...

उत्तर प्रदेश:लखनऊ-योगी मुख्यमंत्री पद के लिए पहली पसंद

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,उत्तर प्रदेश:लखनऊ। स्वतंत्र एजेंसी मैटराइज न्यूज ने प्रदेश के 75 ज़िलों में करवाए गए सर्वे में दावा किया है कि...

नई दिल्ली:वैज्ञानिकों की गंभीर चेतावनी, महाविनाश रोकने के लिए लेना होगा एक्शन

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,नई दिल्ली: वैज्ञानिकों ने एक चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि विश्व में चार ऐसे देश हैं, जो दुनिया...

नई दिल्ली:एम्‍स ने दिया बड़ा बयान,जल्द शुरू होगा बच्चो का टिकाकरण,

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,नई दिल्ली: दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने राहतभरी खबर दी है। उन्होंने...

शिलान्यास सहित जो घोषणाएं की गई है उनको प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण किया जाएगा- सीएम पुष्कर सिंह धामी

मुख्यमंत्री ने सुनी आम जन सहित विभिन्न संगठनों की समस्यायें। शिलान्यास सहित जो घोषणाएं की गई है उनको प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण किया जाएगा-...

डीएम देहरादून ने किया स्मार्ट सिटी के कार्यों का निरीक्षण, सड़को पर गड्ढे मे जलभराव को लेकर जताई नाराजगी

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आर राजेश कुमार ने देहरादून स्मार्ट सिटी में हो रहे कार्यों का अपने स्थलीय निरीक्षण के दौरान आज सर्वे चैक से...

मीराबाई चानू के सिल्वर मेडल जीतते ही खुशी से झूमा देश, “भारत के झंडे को आप पर गर्व है मीरा”, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम...

देहरादून। मीराबाई चानू ने ये कमाल 49 किलोग्राम भारवर्ग की महिला वेटलिफ्टिंग में किया है। स्नैच राउंड में मीराबाई चानू सभी महिला वेटलिफ्टर्स के...

उत्तराखंड में अपग्रेड होंगे 158 आयुर्वेदिक अस्पताल, तीसरी लहर से निपटने को मजबूत होंगी सुविधाएं

देहरादून। कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए इससे निबटने के लिए ग्रामीण और सुदूरवर्ती क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार को प्रभावी...

ट्रांसफर-पोस्टिंग को लेकर उत्तराखंड सरकार के शासनादेश से हुआ बड़ा खुलासा, राजनीतिक दबाव बनाते हैं अधिकारी…

देहरादून। उत्तराखंड में ट्रांसफर और पोस्टिंग के लिए भारतीय प्रशासनिक सेवा के कतिपय अधिकारी राजनीतिक दबाव बना रहे हैं। प्रदेश सरकार ने आईएएस अफसरों...

उत्तराखंड: रुद्रपुर में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का रोड शो, कार्यकर्ताओं में दिखा उत्साह, किसानों ने किया प्रदर्शन

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी शुक्रवार से ऊधमसिंह नगर जिले के दौरे पर हैं। शक्रवार को जब मुख्यमंत्री रुद्रपुर पहुंचे तो किसानों ने उनके दौरे...

आतंकी साजिश नाकाम: जम्मू-कश्मीर में पुलिस ने मार गिराया ड्रोन, पांच किलो आईईडी बरामद

जम्मू-कश्मीर के कनाचक इलाके में पुलिस ने एक पाकिस्तानी ड्रोन को मार गिराया है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक इस ड्रोन के गिरने पर...

“मिशन 2022” के लिए उत्तराखंड कांग्रेस की नई टीम फाइनल, पंजाब फार्मूला उत्तराखंड में भी हुआ लागू

देहरादून। खबर आ रही है कि उत्तराखंड कांग्रेस की नई टीम के के नामों का ऐलान कल होगा। इस टीम में जिन नामों और...