एक स्कूल ऐसा भी जहाँ कक्षा 3 की मासूम बिटिया को बेरहमी से पिटा शिक्षकों ने, पीठ पर डंडे के दर्जनों गहरे घाव 108 से लेकर जाना पड़ा अस्पताल

धूरा सूखीढांग निवासी रमेश सिंह की पुत्री सीमा (8) राप्रावि चौड़ाकोट में कक्षा तीन में पढ़ती है। शुक्रवार को वह स्कूल से घर लौटी तो कपड़े बदलते वक्त उसकी पीठ पर डंडे के गहरे घाव देख मां दंग रह गई। पूछने पर मासूम ने माता-पिता को बताया कि गिनती नहीं सुना पाने के कारण स्कूल के शिक्षक और शिक्षिका ने उसकी डंडे से पिटाई की है।

इस पर छात्रा के माता-पिता स्कूल पहुंचे लेकिन तब तक शिक्षक स्कूल से जा चुके थे। छात्रा के पिता रमेश सिंह और गांव के कुछ अन्य लोग घायल छात्रा को 108 वाहन से टनकपुर संयुक्त चिकित्सालय लाए जहां चिकित्साधिकारी डॉ. आफताब अंसारी ने छात्रा का उपचार किया। डॉ. अंसारी ने बताया कि छात्रा को डंडे से पीटा गया है। उसकी पीठ पर एक दर्जन से अधिक गहरे घाव हैं। उपचार के बाद छात्रा को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। छात्रा को लेकर उसके पिता एसडीएम कार्यालय पहुंचे, लेकिन वह नहीं मिले। उधर मामले में शिक्षकों से संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन संपर्क नहीं हो पाया।

मासूम छात्रा सीमा के पिता रमेश सिंह का कहना है कि उनकी बेटी को शिक्षकों द्वारा पीटे जाने की यह दूसरी घटना है। एक सप्ताह पूर्व भी शिक्षकों ने उसकी बेटी की पिटाई की थी, लेकिन तब इतना नहीं पीटा था। उनका कहना है कि बेटी की पीड़ा को देख वे आहत हुए हैं। ऐसे शिक्षकों को वे किसी सूरत में माफ नहीं करेंगे।

मासूम छात्रा को पीटने की घटना का पता चलते ही कुछ शिक्षक नेता आरोपी शिक्षकों को बचाने की कोशिश में जुट गए हैं। सूत्रों के मुताबिक घटना के उजागर होने के बाद कुछ शिक्षक नेता सक्रिय हो गए हैं, जो समझौता कराकर आरोपी शिक्षकों को बचाने की कोशिश में लगे हैं।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *