India Times Group
एबी डिविलियर्स ने लिया क्रिकेट से संन्यास, बोले- 37 की उम्र में वो आग इतनी तेज नहीं जल रही
 

नई दिल्ली। दक्षिण अफ्रीका के दिग्गज खिलाड़ी एबी डिविलियर्स ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों को अलविदा कह दिया है। इसी के साथ उनके 17 साल के करियर पर विराम लगा। डिविलियर्स ने सोशल मीडिया पर लंबे पोस्ट के जरिए अपने संन्यास की घोषणा की है। डिविलियर्स ने अपने पोस्ट में लिखा, मेरी यात्रा शानदार रही, अब मैंने क्रिकेट से पूरी तरह संन्यास लेने का फैसला किया है अपने घर के पीछे बड़े भाइयों के साथ खेलना शुरू किया था और तब से लेकर आज तक मैंने इस खेल का खूब लुत्फ उठाया। अब 37 साल की उम्र में वो आग इतनी तेज नहीं जल रही है। उन्होंने आगे कहा, अपने बड़े भाइयों के साथ घर के आंगन में खेलने से लेकर अब तक मैंने पूरे आनंद और उत्साह के साथ यह खेल खेला। अब 37 की उम्र में वो आग इतने अच्छे से नहीं जल रही है।

एबीडी ने लिखा, आखिरी बात मैं जानता हूं कि मेरे परिवार, माता-पिता, भाई, पत्नी डेनियल और बच्चों के समझौते के बिना यह कुछ भी संभव नहीं था। मैं अपनी जिंदगी के अगले अध्याय पर ध्यान दूंगा, जहां अपने परिवार को सबसे पहले रख सकूं। मैं प्रत्येक टीम साथी, प्रत्येक विरोधी, प्रत्येक कोच, प्रत्येक फिजियो और प्रत्येक स्टाफ सदस्य को धन्यवाद देना चाहता हूं, जो इसी राह पर चले हैं। दक्षिण अफ्रीका और भारत में मुझे जो समर्थन मिला, उसका मैं आभारी हूं। क्रिकेट मेरे लिए काफी शानदार रहा। चाहे टाइटंस हो या प्रोटियाज या फिर आरसीबी। दुनिया की कोई भी टीम हो, इस खेल ने मुझे अकाल्पिनक अनुभव और मौके दिए, जिसका मैं हमेशा आभारी रहूंगा। एबी डिविलियर्स ने दक्षिण अफ्रीका के लिए 114 टेस्ट, 228 वनडे और 78 टी20 इंटरनेशनल मैच खेले है। डिविलयर्स की घोषणा का मतलब है कि उन्होंने आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के साथ अपना करार खत्म कर लिया है।

दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज ने 2011 में आरसीबी के लिए पहला मैच खेला था और फिर 10 सीजन में उसका प्रतिनिधित्व किया। एबी डिविलियर्स ने अपने फैसले के बारे में कहा, आरसीबी में मेरा लंबा और शानदार समय रहा। 11 साल बीत गए और लड़कों को छोडऩा बहुत अजीब लग रहा है। हां इस फैसले पर पहुंचने में मुझे बहुत समय लगा, लेकिन काफी सलाह के बाद मैंने अपने जूते टांगकर परिवार के साथ समय बिताने का फैसला किया। मैं आरसीबी प्रबंधन, मेरे दोस्त विराट कोहली, टीम के साथी, कोच, सपोर्ट स्टाफ, फैंस और पूरे आरसीबी परिवार का शुक्रियाअदा करना चाहता हूं, जिन्होंने मुझ पर भरोसा किया और इन सोलों में हमेशा समर्थन किया।