शिव प्रसाद को अगले दिन भी नहीं मिली जमानत, आखिर क्या है वजह !

देहरादून, उत्तराखंड | शुक्रवार की सुबह पर्वतजन के सम्पादक शिव प्रसाद सेमवाल को पुलिस द्वारा अनुचित रूप से गिरफ्तार किया गया था। कारण तो पता लगा नहीं और साथ ही जुडिशल मजिस्ट्रेट ने जमानत देने से भी इनकार कर दिया। गिरफ्तारी के बाद पुलिस द्वारा तरह-तरह की कहानी बना रही है। दरअसल शुक्रवार की सुबह शिव प्रसाद को बिना वारंट के गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद शिव प्रसाद को थाने में लाकर सीओ की मौजूदगी में जबरन हस्ताक्षर करवाए गये। आपको बता दें की शिव प्रसाद की गिरफ़्तारी की बाद से पूरे उत्तराखंड  पत्रकार जगत में काफी गर्म माहौल बना हुआ है। साथ ही एसओ के ऊपर कई सारे सवाल उठाये जा रहे हैं।

shiv prasad semwal के लिए इमेज परिणाम

Loading...

दरअसल शिव प्रसाद काफी लम्बे समय से घोटालेबाजों के घोटालों का खुलासा करते आ रहे हैं। इन घोटालों में सत्ता पक्ष तथा विपक्ष दोनों तरफ से हिस्सेदारी रहती है। इसके अनुसार अनुमान लगाया जा रहा है कि पुलिस द्वारा ये हथकंडा सरकार को खुश करने के लिए अपनाया गया है। अगर ऐसा ही चलता रहा तो देवभूमि का पत्रकारिता विभाग खतरे में आ जाएगा। देवभूमि ही नहीं बल्कि पूरे देशभर में ही पत्रकार सुरक्षित नहीं हैं। दरअसल जो भी पत्रकार देशभर में हो रहे घोटालों का खुलासा करते हैं, उनको या तो पैसों से चुप करवा दिया जाता है या फिर शिव प्रसाद की ही तरह उन्हें किसी मामले में फंसाकर जेल में डाल दिया जाता है। जनता की सुरक्षा करना पुलिस का कर्तव्य है, लेकिन यदि पुलिस ही ऐसे कार्य करेगी तो सुरक्षा कौन करेगा।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *