दिल्ली के वातावरण को ध्यान में रखते हुए जनरेटर पर लगा प्रतिबन्ध

दिल्ली NCR, ब्यूरो | दिल्ली में मानसून तथा कुछ और कारकों के चलते वायु प्रदुषण का आंकड़ा बढ़ गया है। इसके ऊपर रोक लगाने के लिए दिल्ली सरकार ने ग्रेडेड रेस्पोंस एक्शन प्लान लागू कर दिया है।पहले तक केवल दिल्ली में ही जनरेटर के ऊपर प्रतिबन्ध लगाया गया था लेकिन अब एनसीआर में भी ये नियम लागू कर दिया गया है। एनसीआर में दो साल की छूट के बाद पहली बार जनरेटर पर प्रतिबन्ध लगा है। अब से एनसीआर में भी डीजल जनरेटर नहीं चलाए जायेंगे। शहर में रहने वालों का कहना है कि वे इस सब के लिए अभी तैयार नहीं हैं। इसके ऊपर EPCA ने बयान दिया कि आपको इस सब कि तैयारी के लिए दो साल दिए गये थे।  यदि आप इस सब के लिए अभी भी तैयार नहीं हैं तो इसमें सरकार का कोई कसूर नहीं है। हम जनता की जिंदगियों के साथ खिलवाड़ नहीं कर सकते ।

Loading...

EPCA का कहना है कि सिर्फ दिल्ली में जेनरेटर पर बैन लगाने से कुछ नहीं होगा, अगर आसपास के शहरों में जेनरेटर चलते रहेंगे तो बहुत जल्द दिल्ली में रहने वाले लोगों के फेफड़ों में गैस के अलावा कुछ नहीं रहेगा। इसी के साथ EPCA ने नियम बताते हुए कहा कि  नोएडा और ग्रेटर नोएडा की सभी रिहायशी इमारतों में जेनरेटर नहीं चलेंगे। इस बारे में सभी हाउसिंग सोसाइटियों में नोटिस लगा दिए गए हैं। लेकिन कुछ ऐसी सेवाएं हैं जिनकों इससे छूट मिलेगी। दिल्ली-NCR के सभी अस्पताल, दिल्ली मेट्रो, दिल्ली एयरपोर्ट, दिल्ली के सभी ISBT और हाउसिंग सोसाइटियों के लिए लिफ्ट, कॉमन एरिया और एलीवेटर्स पर ही केवल इसकी छूट दी जायेगी।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *