एक ही दल करेगा एक साथ एवरेस्ट की चार चाटियों को फतह !

भारत का एक ही दल पहली बार एवरेस्ट शृंखला में शामिल चार चोटियों का आरोहण एक साथ करेगा। इस बड़े अभियान की जिम्मेदारी केंद्र सरकार ने नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (निम) उत्तरकाशी को सौंपी है, और पर्वतारोहण के इतिहास में भारत के लिए 2020 का साल खास होने वाला है।

इंडियन एवरेस्ट मैसिफ एक्सपीडिशन नाम के यह अभियान निम के प्रधानाचार्य कर्नल अमित बिष्ट के नेतृत्व में होगा। निम उत्तरकाशी (उत्तराखंड) से और जवाहर इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनियरिंग एंड विंटर स्पोट्र्स (जिम) पहलगाम (जम्मू-कश्मीर) में इस अभियान की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं।

युवा कल्याण एवं खेल मंत्रालय और इंडियन माउंटेनियरिंग फाउंडेशन भारत सरकार की ओर से यह पहल युवाओं को प्रोत्साहित करने के लिए की गई है, इसके साथ ही निम के प्रधानाचार्य कर्नल अमित बिष्ट कहते हैं कि देशभर से इस अभियान के लिए आवेदन मंगाये गए उसके बाद इन एक हजार आवेदनों की जांच के बाद सौ युवक-युवतियों का चयन प्रशिक्षण के लिए हुआ और उनका प्रशिक्षण 10 जून से शुरू हो चुका है। इनमें से 50 युवक-युवतियांें का एक दल निम के प्रशिक्षण क्षेत्र ढ़करानी ग्लेशियर क्षेत्र में प्रशिक्षण ले रहे हैं, जो प्रशिक्षण के समापन पर समुद्रतल से 18600 फीट ऊंचे द्रोपदी का डांडा (डीकेडी) का आरोहण करेंगे। जबकि, 50 युवक-युवतियां (जिम) पहलगाम में प्रशिक्षण ले रहे हैं, यह दल सितंबर में सतोपंथ चोटी के आरोहण के लिए जाएगा। Related image

जवाहर इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनियरिंग एंड विंटर स्पोट्र्स (जिम)

Loading...

Related image

नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (निम) उत्तरकाशी

कर्नल बिष्ट ने आगे बताया कि दिसंबर में सभी चयनित युवक-युवतियों को लेह के खार्दूंगला में प्रशिक्षण दिया जाएगा जिसमें इन सौ युवक-युवतियों में से 30-32 सर्वश्रेष्ठों का चयन किया जाएगा। यह पहला अवसर होगा, जब एवरेस्ट शृंखला में शामिल चार चोटियों के एक साथ आरोहण के लिए एक ही टीम जाएगी इंडियन एवरेस्ट मैसिफ एक्सपीडिशन-2020 का यह अभियान अप्रैल और मई में आयोजित होगा।

बता दें कि एवरेस्ट शृंखला में माउंट एवरेस्ट (8,848 मीटर) के अलावा माउंट ल्होत्से (8,516 मीटर), माउंट नुपत्से (7,861 मीटर), माउंट पुमोरी (7,161 मीटर) चोटी आदि शामिल

नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (निम) ने दर्जनों नामचीन पर्वतारोही दिए हैं। इनमें एवरेस्ट फतेह करने वाली भारतीय महिला सुश्री बछेंद्री पाल, संतोष यादव, डॉ. हर्षवंती बिष्ट, कृष्णा पाटिल, सुमन कुटियाल, सरला नेगी, अरुणिमा सिन्हा, जुड़वां बहनें नुंग्शी व ताशी और पूनम राणा जैसे कई प्रख्यात पर्वतारोही शामिल हैं। यही नहीं, निम एवरेस्ट और शीशा पांग्मा समेत तीन दर्जन से अधिक चोटियों पर तिरंगा फहरा चुका है। इस संस्थान में चलने वाले एडवेंचर, बेसिक, एडवांस, सर्च एंड रेस्क्यू और मैथड ऑफ इंस्ट्रक्शन कोर्स सहित कई स्पेशल, रॉक क्लाइंबिंग और स्कीइंग कोर्स में करीब 30 हजार देशी-विदेशी पर्वतारोही प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके हैं। वहीं, सर्च एंड रेस्क्यू कोर्स कराने वाला निम एशिया का इकलौता संस्थान है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *