India Times Group
योग भारतीय संस्कृति का प्राण है: विज्ञान देव
 

ऋषिकेश। नवनिर्मित विहंगम योग इंटरनेशनल सेंटर में स्थापित सद्गुरु सदाफल देव महाराज की प्रतिमा का अनावरण प्रधानमंत्री के छोटे भाई पंकज मोदी ने किया। इस दौरान संस्कृत छात्रों ने स्वस्तिवाचन मंत्रों का उच्चारण किया। संस्थान संस्थापक विज्ञान देव महाराज ने कहा कि योग भारतीय संस्कृति का प्राण है।

सोमवार को कैलाशगेट स्थित शीशमझाड़ी में नवनिर्मित योग इंटरनेशल सेंटर के उद्घाटन अवसर पर संस्थान संस्थापक विज्ञान देव महाराज ने पत्रकारवार्ता में बताया कि संस्थान 13 सामाजिक प्रकल्प गोपालन, वृद्धाश्रम, निर्धन छात्रों की सहायता, निर्धन कन्याओं का विवाह, स्वास्थ्य शिविर, पौध रोपण आदि पर कार्य कर रही है। साथ ही योग से आम लोगों को जोड़ने का काम हो रहा है। बताया कि निरंतर योग करने से मनुष्य का तनाव भी कम होता है और योग व्यायाम ही नहीं अपितु मनुष्य को शांति की ओर ले जाने का मार्ग भी है। उन्होंने कहा कि ध्यान भारतीय संस्कृति की पहचान है। इसे देखते हुए ऋषिकेश में विहंगम योग सेंटर का भी प्रारंभ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मनुष्य को अपने जीवनकाल में रक्तदान अवश्य करना चाहिए। एक यूनिट रक्तदान किए जाने से तीन चार लोगों का जीवन बचाया जा सकता है। मौके पर दौरान रामवृक्ष दास, भारत भूषण दास, पंडित रवि शास्त्री, योगेश पाटिल, नितिन आदि मौजूद रहे।