India Times Group
उत्तरा स्टेट एंपोरियम में मिलेंगे उत्तराखंडी उत्पाद: धामी
 

ऋषिकेश। सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि रानीपोखरी में बने उत्तरा स्टेट एंपोरियम हाट में सभी उत्तराखंडी उत्पाद मिलेंगे। इससे क्षेत्र के महिला समूहों को एक बाजार मिलेगा और उत्तराखंडी संस्कृति का संरक्षण व प्रचार-प्रसार भी होगा।
बुधवार को रानीपोखरी में श्यामा प्रसाद मुखर्जी मिशन योजना के तहत कार्यक्रम आयोजित हुआ। कार्यक्रम में सीएम पुष्कर सिंह धामी ने 161 लाख की लागत से बने उत्तरा स्टेट एंपोरियम हाट का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि अब उत्तराखंड के सभी उत्पाद एक ही जगह पर मिल सकेंगे। यहां हर्षिल से लेकर मुनस्यारी तक के उत्पाद उपलब्ध होंगे। हर छोटी जगह से कई प्रकार के उत्पादों को यहां एक बाजार मिल सकेगा। यहां से ऋषिकेश भी पास है और एयरपोर्ट भी है। साथ में देहरादून, हरिद्वार हाईवे भी है। इससे आसानी से लोग यहां पहुंच सकेंगे। पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि उत्तरा शब्द नारीत्व के लिए है और यह उत्तराखण्ड से भी जुड़ा है। ग्राम्य विकास मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद ने कहा कि स्वयं सहायता समूहों का प्रचार-प्रसार बड़े स्तर पर करने का ये एक खास प्रयास है।

2950 वर्गफीट में फैला है यह उत्तरा स्टेट एंपोरियम हाट
मुख्य विकास अधिकारी नितिका खंडेलवाल ने बताया कि ये उत्तराखंड का पहला स्टेट एम्पोरियम है। यहां राज्य के सभी उत्पाद एक ही जगह पर मिल सकेंगे। बताया कि इसका क्षेत्रफल 2950 वर्गफीट है। इसकी कुल लागत 161 लाख रुपये है। यह प्रीफेब्रिकेटेड सामग्री से निर्मित भवन है। इस केंद्र में 6 विभागों ट्राइफेड, उद्योग, यूजीवीएस, जायका एवं एनआरएलएम के स्वयं सहायता समूहों-उत्पादक समूहों-संघो एवं शिल्पियों द्वारा निर्मित उत्पादों का प्रदर्शन एवं विपणन किया जाएगा।

परिसर का विस्तारीकरण
मुख्य विकास अधिकारी नितिका खंडेलवाल ने बताया कि रूर्बन क्लस्टर के रानीपोखरी ग्रांट में सप्ताह के दो दिनों मंगलवार एवं शुक्रवार को हाट का आयोजन किया जाता है। रूर्बन मिशन की ओर से इस हाट परिसर का विस्तारीकरण किया जा रहा है, साथ ही यहां प्रकाश के लिए सोलर लाइट की स्थापना की जा रही है। इसकी कुल लागत 138 लाख है।

इन योजनाओं का मिलेगा लाभ
- रानीपोखरी में 138 लाख रुपये की लागत से ग्रामीण हाट के लिए अवस्थापना सुविधाओं का विकास कार्य किया जाएगा।
- उत्तरा स्टेट एम्पोरियम एवं मल्टी एक्टिविटी सेंटर रानीपोखरी परिसर में अनाज, दाल आदि की पैकेजिंग के लिए 250 वर्गमीटर स्थान में अवस्थापना सुविधाओं का विकास कार्य किया जाएगा। इसकी लागत 161 लाख रुपये है।
- स्वयं सहायता समूहों को बैंक ऋण-ब्याज प्रतिपूर्ति सहायता दी जाएगी। इसकी कुल लागत 244.74 लाख रुपये है।
- सीएलएफ को अनुदान 5 लाख प्रति सीएलएफ दिया जाएगा, इसकी लागत 85 लाख रुपये है।
- स्वयं सहायता समूहों के स्वावलंबन के लिए आर्थिक सहायता 2000 रुपये प्रति माह मिलेगी। कुल लागत 158.52 लाख रुपये है।
- क्लस्टर में पेयजल संबंधित कुल 19 योजनाओं का निर्माण कुल 2400 लाख की लागत से होगा।
डोईवाला क्षेत्र में होंगे ये काम- अठूरवाला विस्थापित क्षेत्र से घमंपुर को जोड़ने वाला जाखन नदी पर पुल, कुडियाल गांव को जोड़ने वाली दो सड़कों का कुल दो किलोमीटर सड़क निर्माण, रानीपोखरी के थानो स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का उच्चीकरण, लिस्ट्राबाद में पेयजल समस्या के निपटारे के लिए नलकूप का निर्माण आदि काम डोईवाला में होंगे।
यह रहे मौजूद: मुख्य विकास अधिकारी नितिका खंडेलवाल, संजीव सैनी, करण बोहरा, बृज भूषण गैरोला, ब्लॉक प्रमुख भगवान सिंह पोखरियाल, प्रधान सुधीर रतूड़ी, विजय भट्ट, विनय कंडवाल, विक्रम नेगी, खंड विकास अधिकारी भगवान सिंह नेगी, लोनिवि के अधिशासी अभियंता देवेंद्र कुमार आदि उपस्थित रहे।