India Times Group
धीरे-धीरे बढ़ रहे पॉजिटिव, नहीं जा रहा कोरोना
 

देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना धीरे-धीरे फिर से दस्तक देता दिखाई दे रहा है। पिछले दो हफ्तों में कोरोना के सक्रिय मरीजों में करीब 35 प्रतिशत से ज्यादा की वृद्धि हुई है। राज्य में देहरादून के बाद अल्मोड़ा जिले में कोरोना के सबसे ज्यादा मरीज मिल रहे हैं। राज्य में कोरोना केसों की संख्या पहले के मुकाबले काफी कम हुई है। लेकिन नवंबर के दूसरे हफ्ते के बाद से कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या में वृद्धि देखी जा रही है।
हालांकि किसी मरीज के गंभीर होने की सूचना नहीं है, बावजूद इसके तीसरी लहर की आशंका के बीच सक्रिय मरीजों की संख्या में वृद्धि होना चिंता की बात है। जानकारों का कहना है कि अधिकतर लोगों को कोरोना के दोनों टीके लग चुके हैं, बावजूद कोरोना के मरीजों का सामने आना भी हैरान कर रहा है। स्वास्थ्य विभाग की टीम कोरोना मरीजों को होम आइसोलेट करने के साथ ही एक्टिव मरीजों के संपर्क में आए लोगों की सैंपलिंग करने के काम में जुटी है।

तिथि    कोरोना केस
7 नवंबर    141
14 नवंबर    177
21 नवंबर    192
शादी समारोह में बरतें सावधानी
जानकारों के अनुसार इस बार काफी शादियां होनी हैं। जो लोग कोरोना के चलते पिछले दो-तीन सीजन में समारोह में जाने से बच रहे थे, वे अब खुलकर परिवार के साथ समारोह में जा रहे हैं। विवाह समारोह में आस-पड़ोस के ही नहीं, बल्कि दूर-दूर से रिश्तेदार पहुंच रहे हैं। ऐसे में स्थितियां थोड़ी भी विपरीत हुईं तो सभी को परेशानी झेलनी पड़ेगी।
वैक्सीनेशन की रफ्तार हुई धीमी
उत्तराखंड में पिछले 50 दिनों में वैक्सीनेशन की स्थिति बहुत धीमी रही है। अब 2021 वर्ष के अंत तक टीकाकरण के लक्ष्य को पूरा कर पाना मुश्किल लग रहा है। सरकार ने 31 दिसंबर तक राज्य में सभी 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा है, इसको पूरा करने के लिए अगले 40 दिन में हर रोज 75 हजार से ज्यादा डोज की जरूरत पड़ेगी।
सक्रिय मरीजों के मामले में दूसरे नंबर पर अल्मो़ड़ा
उत्तराखंड में सक्रिय मरीज या फिर रोज मिल रहे संक्रमित मरीजों में देहरादून जिला सबसे आगे है। 20 नवंबर को यहां पर 132 एक्टिव मरीज थे। वहीं अल्मोड़ा जिले में 23 एक्टिव मरीज हैं। जबकि तीसरे नंबर पर हरिद्वार जिला है, यहां पर 15 एक्टिव मरीज हैं।