India Times Group
सनातन संस्कृति का प्रतीक है पवित्र छड़ी यात्रा : श्रीमहंत रविन्द्र पुरी महाराज
 
भाजपा सरकार के प्रयासों से पुनः प्रारम्भ हुई पवित्र छड़ी यात्रा : स्वामी यतीश्वरानन्द
श्यामपुर कांगड़ी से जूना अखाड़ा स्थित मायादेवी मंदिर पहुंची पवित्र छड़ी यात्रा

हरिद्वार। श्री पंच दशनाम जूना अखाड़ा द्वारा निकाली जा रही छड़ी यात्रा शुक्रवार को श्यामपुर कांगड़ी पहुंची जहां ग्रामीण विधायक स्वामी यतीश्वरानन्द, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत रविन्द्रपुरी महाराज की उपस्थिति में छड़ी यात्रा के संचालक एवं जूना अखाड़े के अंतराष्ट्रीय सभापति श्रीमहंत प्रेमगिरी महाराज ने पूर्ण विधि विधान से छड़ी पूजन सम्पन्न कराया।
इस अवसर पर ग्रामीण विधायक स्वामी यतीश्वरानन्द ने कहा कि राज्य के विभिन्न जनपदों से छड़ी भ्रमण यात्रा धार्मिक व संस्कृति उत्थान के लिए आयोजित की गयी। 26 दिन की इस यात्रा में संत महापुरूषों का अनुकरणीय योगदान रहा। उन्होंने कहा कि भाजपा के प्रयासों से ही पुनः छड़ी यात्रा प्रारम्भ की गयी है। स्वामी यतीश्वरानन्द ने कहा कि समाज को राष्ट्र के प्रति समर्पित भावना से कार्य करना है। धार्मिक क्रियाकलाप ही लोगों को प्रेरणा देते हैं। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेन्द्र गिरि महाराज ने कहा कि पवित्र छड़ी यात्रा उत्तराखण्ड के विभिन्न जनपदों से धर्मनगरी में पहुंच गयी है। जूना अखाड़ा स्थित मायादेवी मंदिर में छड़ी को पुनः स्थापित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि छड़ी का यात्रा का उद्देश्य राज्य की प्रगति व उन्नति को मार्ग प्रशस्त करेगा। संस्कृति व धार्मिक विरासत को युवा पीढ़ी के समक्ष रखना जरूरी है। उन्होंने कहा कि सनातन संस्कृति के प्रचार-प्रसार में संत समाज लगातार प्रयास कर रहा है। पौराणिक मंदिरों के दर्शन के लिए देश-दुनिया से देवभूमि में श्रद्धालु पहुंचते हैं। प्रतिवर्ष पवित्र छड़ी यात्रा निकाली जायेगी। सरकार के प्रयासों से छड़ी यात्रा पुनः प्रारम्भ हुई है। 13 अखाड़ों के संत महापुरूषों को प्रयास रंग लाया।
छड़ी यात्रा के संचालक एवं जूना अखाड़े के अंतराष्ट्रीय सभापति श्रीमहंत प्रेमगिरी महाराज ने कहा कि उत्तराखण्ड के चारों धाम सहित पौराणिक मंदिरों व तीर्थों की 26 दिनों की यात्रा के पश्चात पवित्र छड़ी यात्रा मायादेवी मंदिर पहुंच गयी है। जूना अखाड़ा के संरक्षक हरि गिरि महाराज एवं 13 अखाड़ों के प्रयासों से पवित्र छड़ी के माध्यम से धर्म का प्रचार-प्रसार किया गया है। मुख्य रूप से प्रदेश का पलायन रूक सके, प्रदेश का चहंुमुखी विकास हो। प्राचीन परम्परा छड़ी यात्रा अवश्य ही धर्म का संदेश समाज को देगी। श्यामपुर कांगड़ी में पवित्र छड़ी यात्रा का पूर्ण विधि विधान से पूजा-अर्चना की गयी। मायादेवी प्रागंण में पवित्र छड़ी को स्थापित जायेगा।  
इस अवसर पर महामंडलेश्वर स्वामी संजय गिरी महाराज, महामंडलेश्वर स्वामी रविगिरी जिमहाराज, छड़ी श्रीमहंत कुश पूरी, श्रीमहंत पुष्कर राजगिरि, छड़ी श्रीमहंत शिवदत्त गिरी, विशम्भर गिरी, पुजारी विशिष्ट गिरी महाराज, अमृत पूरी महाराज, रविगिरी महाराज, थानापति रणधीर गिरी, राघवेंद्र गिरी, दीपेश्वर गिरी, भीष्म गिरी, अमृत गिरी, राजगिरि आदि संतजन मौजूद रहे।