India Times Group
युवा सीएम के कड़क फैसलों से युवाओं में जगी आस, पैसों के बदले नौकरी दिलाने वाले नैक़्सेस का किया सफ़ाया
 

देहरादून। उत्तराखण्ड में यूकेएसएसएससी भर्ती धांधली मामले में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर उत्तराखण्ड एसटीएफ ने एक के बाद एक सिलसिलेवार तरीक़े से जाँच करते हुए क़रीब 33 आरोपियों पर कारवाई कर दी है। अधीनस्थ चयन आयोग के सचिव को निलम्बित किया जा चुका है। मुख्यमंत्री के इस निर्णय के बाद जहां एक ओर प्रदेश में पैसों के बदले नौकरी दिलाने वाले गिरोह का पर्दाफाश हुआ है वहीं दूसरी ओर मुख्यमंत्री धामी का क़द और बढ़ा है।

सीएम धामी के कड़े रुख़ से जनता के बीच यह स्पष्ट संदेश गया है कि पैसों के बदले नौकरी दिलाने वाले नैक़्सेस का सफ़ाया करने की हिम्मत किसी ने दिखाई है तो वो पुष्कर सिंह धामी ही हैं। मुख्यमंत्री धामी ने अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश देते हुए कहा है कि दोषियों को चिन्हित कर उनकी अवैध संपत्ति को ज़ब्त करने के साथ गैंगस्टर एक्ट में कार्यवाही की जाए।

जिन परीक्षाओं में गड़बड़ी हुए है उन्हें निरस्त कर नए सिरे से आयोजित किया जाए और जो परीक्षाएं साफ सुथरे ढंग से गतिमान हैं उन्हें सुचारू रुप से समय पर संपन्न कराया जाए। मुख्यमंत्री ने दागी व्यक्तियों को की नियुक्ति निरस्त कर उनके विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही के भी निर्देश दिए हैं । सीएम ने एसटीएफ को फ्री हैंड दिया है। उसी का नतीजा है कि प्रदेश में भर्ती माफिया पर शिकंजा कसा है। उधर सीएम ने दरोगा भर्ती की विजिलेंस जांच के निर्देश भी दे दिये हैं। अब प्रदेश के युवाओं में आस जगी है।