India Times Group
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रीतम सिंह ने करवाया 4 न्यूज़ पोर्टल के ख़िलाफ़ मुकदमा दर्ज
 

देहरादून। जब आप खबरों को लिखने से पहले पूरी तरह सोच विचार नहीं करते, अपने सूत्रों पर आँख मूंद कर भरोसा कर लेते हैं तो ऐसा हो सकता है। अब अगर आपके पास पुख्ता सबूत हैं तो बहुत अच्छा। नहीं हैं तो फिर प्रीतम सिंह ही कुछ कर सकते हैं।

पत्रकार साथियों को पत्रकारिता सिद्धांतों का पालन कुछ इस तरह जरूर करना चाहिए।

1 :- आप जो भी प्रकाशित करते हैं, उसमें पूरी तरह, निष्पक्ष और सटीक रहें, अपने स्रोतों और उद्धरणों को ध्यान से देखें, संभव हो बातचीत को सहमति के साथ रिकॉर्ड करें और वाक्यांशों को इस तरह से न बनाएं कि अर्थ का अनर्थ हो जाये। इसके अलावा, साक्षात्कार के विषय को अक्षरशः ज्यो का त्यों ही प्रस्तुत करे। साक्षात्कार की रिकॉर्डिंग या फोन कॉल सुरक्षित रखे और विश्वसनीय स्रोतों का उपयोग करें। Recording Phone Calls and Conversations और Journalism Skills and Principles के सिद्धांत देखें।

2 :- केवल वही लिखें जिसके आपके पास प्रमाण हों, कहे गए शब्दों के उपयोग की अनुमति प्राप्त करें और अपने तथ्यों को अच्छे से जांच लें। केवल विश्वसनीय स्रोतों से जानकारी लें।
आप वही कहें जो आप जानते हैं और जो आप साबित कर सकते हैं। आप जो कह रहे हैं उससे अवगत रहें बयानों की सटीकता को नियंत्रित करें और अस्पष्टता से बचें।

3 :- अपने शोध और अन्य दस्तावेजों का रिकॉर्ड रखें। यदि आप किसी व्यवसाय या व्यक्ति के बारे में संभावित रूप से आलोचनात्मक या हंगामाखेज बयान देने जा रहे हैं, तो आपको यह साबित करने में सक्षम होना चाहिए कि आपका कथन सत्य है और तथ्यों पर आधारित है, इसलिए जहां भी संभव हो सबूत इकट्ठा करें।
यदि रिकॉर्ड रखने के लिए ऑडियो या वीडियो की ज़रूरत है तो यह महत्वपूर्ण है कि आप लिखित रूप में उसकी स्पष्ट सहमति प्राप्त करें।
हमेशा अपने तथ्यों की जांच करें और विश्वसनीय स्रोतों का उपयोग करें। बिना तथ्यों के यह न मानें कि कहीं और लिखी गई बात सच है।

4 :- याद रखें कि आप मानहानिकारक बयान के पुनर्प्रकाशन के लिए उत्तरदायी हो सकते हैं। इसलिए जब बार-बार आरोप लगाने की बात हो तो सावधानी से चलें। भले ही आप किसी संभावित मानहानिकारक ट्वीट को सामान्य रूप से री-ट्वीट करते हैं तब भी आप पर मुकदमा होने का जोखिम है।

5 :- अगर आप किसी चीज़ पर अपनी राय दे रहे हैं, तो यह स्पष्ट कर दें कि यह आपका व्यक्तिपरक मूल्यांकन है और इसे अच्छी भावना के साथ प्रस्तुत किया गया है।

6 :- यदि आप जानते हैं कि आप जो लिख रहे हैं वह मानहानिकारक है, तो जांच लें कि आपको उस पर रिपोर्ट करने का अधिकार है या नहीं। कुछ विषय हैं जिन पर आपको रिपोर्ट करने का अधिकार है, भले ही वह मानहानिकारक हो या नहीं। लेकिन इस बात से अवगत रहें कि मानहानि और मानहानि कानून देश के अनुसार अलग-अलग होते हैं और ब्रिटेन की कानूनी प्रणाली विशेष रूप से प्रेस के खिलाफ मानहानि के मुकदमों के प्रति सहानुभूति रखती है।

7 :- मानहानि के मुकदमे अधिक समय तक चलने वाले और खर्चीले होते हैं। ऐसे में अगर आप कोई मामला जीत भी जाते हैं तो भी अपना बचाव करने की लागत बहुत बड़ी हो सकती है। अतः मामले में आने वाले खर्चे को जानें और अपने भविष्य की सुरक्षा के लिए प्रोफ़ेशनल इन्डेमनिटी या लायबिलिटी इन्शुरन्स पर विचार करें – खासकर यदि आप एक फ्रीलांसर हैं।