India Times Group
चार धाम यात्रियों से होटल व हेली टिकट बुकिंग के नाम पर ठगी करने वाले आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार
 

गोपेश्वर। चारधाम यात्रा पर आ रहे यात्री सावधान हो जाएं,  क्‍योंकि यात्रियों से होटल व हेली टिकट बुकिंग के नाम पर ठगी करने वाले पांच हजार के ईनामी आरोपित को पुलिस ने भरतपुर राजस्थान से तमंचा और कारतूस के साथ गिरफ्तार किया है।

आरोपित को पुलिस रिमांड पर जनपद चमोली लाया गया है। काफी समय से फरार चल रहे आरोपित को पकड़ने के लिए राजस्थान में दबिश दे रही थी। आरोपित दिल्ली व हरियाणा में भी वांटेट है। आरोपित का एक साथी पूर्व में पकड़ा जा चुका है।

बदरीनाथ में होटल बुकिंग पर ठगी की शिकायत पर दर्ज किया था मामला

पुलिस अधीक्षक श्वेता चौबे ने बताया कि कोतवाली बदरीनाथ में बीते 26 मई को होटल बुकिंग के नाम पर यात्रियों से ठगी की शिकायत मिलने पर अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया था। मामले में पहले ही एक आरोपित हकिमुद्दीन निवासी राधानगरी थाना कामां जिला भरतपुर (राजस्थान) को भरतपुर राजस्थान से गिरफ्तार किया था।

विवेचना में बिलाल उर्फ भूवला निवासी ग्राम घोघोर थाना कैथवाड़ा तहसील कामा जिला भरतपुर राजस्थान की संलिप्तता मुख्य आरोपित के रूप में सामने आई थी। जो विगत काफी समय से फरार चल रहा था। पुलिस टीम ने आरोपित बिलाल उर्फ भूवला को भरतपुर राजस्थान में उसके घर से भागते हुए स्थानीय पुलिस के सहयोग से गिरफ्तार किया। उसके पास एक तमंचा व एक जिंदा कारतूस बरामद होने पर थाना कैथवाड़ा में मुकदमा पंजीकृत किया गया। आरोपित को रिमांड पर चमोली लाया गया। आरोपित के खिलाफ आर्म्स एक्ट में थाना कैथवाडा भरतपुर (राजस्थान) और थाना राजेन्द्र पार्क गुड़गांव व साइबर क्राइम आउटर नार्थ डिस्ट्रिक दिल्ली में भी मुकदमा पंजीकृत है।

यात्री इन बातों का रखें खास ध्‍यान
-अधिकृत वेबसाइट से ही होटल बुकिंग करें।
-गूगल में वेबसाइट सर्च करने के बाद सबसे ऊपर आने वाली वेबसाइट को ही अधिकृत वेबसाइट न मानें।
-बिना जांच परख के किसी भी वेबसाइट को खोलने से बचें, पहले संबंधित वेबसाइट को लेकर पूरी जानकारी जुटा लें।
-वेबसाइट को पूरी तरह से परखने के बाद ही पेमेंट करें।
-अगर आनलाइन भुगतान कर रहे हैं तो वेबसाइट पर दर्ज फोन नंबर और बैंक अकाउंट नंबर की जांच होटल और धर्मशाला से फोन पर संपर्क कर जरूर करें।
– यदि कोई भी व्यक्ति ठगी का शिकार होता है तो तत्काल नजदीकी थाना एवं साइबर हेल्पलाइन नंबर 1930 पर सूचना दें।