India Times Group
आयुर्वेदिक यूनिवर्सिटी में नौकरी दिलाने का झांसा देकर 1.42 करोड़ रुपये की ठगी करने वाली महिला को किया पुलिस ने गिरफ्तार
 

देहरादून।  आयुर्वेदिक यूनिवर्सिटी में नौकरी दिलाने का झांसा देकर युवाओं से 1.42 करोड़ रुपये की ठगी में वर्ष 2019 से फरार चल रही महिला को एसओजी और नेहरू कॉलोनी पुलिस ने मुंबई से गिरफ्तार किया है। आरोपी महिला पर 15 हजार रुपये का इनाम घोषित था। गिरफ्तार करने वाली टीम को एसएसपी दलीप सिंह कुंवर ने दस हजार रुपये और ईनाम देने की घोषणा की।

एसएसपी ने बताया कि वर्ष 2019 में आजाद डिमरी ने नेहरू कॉलोनी थाने में केस दर्ज कराया था। आरोप था कि ओजस्वी एसोसिएट नाम से फर्म संचालित करने वाले मृणाल धूलिया और उनकी पत्नी योगिता धूलिया ने उत्तरांखड आयुर्वेदिक यूनिवर्सिटी में फार्मासिस्ट के पदों पर नौकरी लगवाने और सरकार से 90 पदों का सृजन कराने के एवज में कई बेरोजगारों से 1.42 करोड़ वसूल लिए।

घटना के बाद से दोनों आरोपी फरार चल रहे थे। मृणाल को जुलाई 2020 को गिरफ्तार कर लिया था जबकि योगिता फरार थी। गिरफ्तारी के लिए उस पर 15 हजार रुपये का ईनाम घोषित किया गया। पुलिस को पता चला कि योगिता रायगढ़, महाराष्ट्र में रह रही है। दून पुलिस ने महाराष्ट्र में छापेमारी कर उसे गिरफ्तार कर लिया।

वहां वह अपनी पहचान छिपाकर कंप्यूटर सेंटर में कंप्यूटर शिक्षिका की नौकरी कर रही थी। योगिता मूलरूप से  धूलकोट, राजवाट कोटद्वार, पौड़ी गढ़वाल की रहने वाली है। पुलिस ने उसे 12  ए-विंग गार्डिनिया तलोजा रायगढ़ नवी मुम्बई को वहां कोर्ट में पेश कर ट्रांजिट रिमांड पर दून लाया गया। यहां रविवार को कोर्ट में पेश किया गया।