India Times Group
एनएच रूद्रप्रयाग को अधिशाषी अभियंता की तैनाती का इंतजार, नवंबर 2021 से खाली पड़ा है पद
 

रूद्रप्रयाग। चारधाम यात्रा अपने चरम पर है। ऐसे में हर विभाग यात्रा अपनी-अपनी तरफ से यात्रा व्यवस्थाओं को बेहत्तर बनाने पर लगा हुआ है। वहीं इन सबके के बीच एनएच रूद्रप्रयाग में अधिशाषी अभियंता की तैनाती न होने से विपक्ष सवाल खडे कर रहा है। विपक्ष आरोप लगा रहा है कि इस समय यात्रा अपने चरम पर है ऐसे में अधिशाषी अभियंता के न होने से एनएच से जुड़े तमाम काम लटके हुए है। विपक्ष की मांग हे कि जल्द एनएच रूद्रप्रयाग में अधिशाषी अभियंता की नियुक्ति की जाये।

रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड राजमार्ग के भूस्खलन जोन पर सुरक्षा के इंतजाम नहीं
केदारनाथ धाम यात्रा में कई अव्यवस्थाएं देखने को मिल रही हैं। केदारनाथ यात्रा के मुख्य पड़ाव गौरीकुंड में सैकड़ों श्रद्धालु जान जोखिम में डालकर गंगा स्नान कर रहे हैं। तो वहीं, रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड राष्ट्रीय राजमार्ग रुद्रप्रयाग से कुंड तक 60 फीसदी ठीक है। लेकिन कुंड से सोनप्रयाग तक कई जगहों पर राजमार्ग की स्थिति बद से बदतर बनी हुई है। हाईवे पर नारायणकोटी से फाटा के बीच चार बड़े डेंजर जोन हैं, जहां पर वाहन रेंगकर आगे बढ़ रहे हैं। ऑलवेदर रोड परियोजना में शामिल होने के बाद भी हाईवे चौड़ीकरण के नाम पर कुछ स्थानों पर खानापूर्ति की गई है. चट्टानी क्षेत्र में कटिंग से ज्यादा खतरा पैदा किया गया है, जिससे यातायात संचालन में दिक्कतें हो रही हैं। श्रीकेदारधाम होटल एसोसिएशन के सचिव नितिन जमलोकी ने कहा कि ऑलवेदर रोड परियोजना में हाईवे के चौड़ीकरण एवं सुधारीकरण की जो उम्मीद जगी थी, वह एनएच के कछुआ चाल से धूमिल हो गई है। रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड हाईवे के डोलिया मंदिर से फाटा बाजार तक भूस्खलन जोन और उखड़ा डामर यात्रियों के लिए सबसे बड़ी परेशानी बन रहा है। भूस्खलन प्रभावित क्षेत्र में दोनों तरफ से चढ़ाई होने से छोटे वाहनों के संचालन में दिक्कत हो रही हैं. यहां पर उड़ती धूल से और परेशानी हो रही है। यहां, यात्रा ड्यूटी में तैनात पुलिस, होमगार्ड, पीआरडी जवानों का कहना था कि कई वाहनों को धक्का मारकर आगे बढ़ाना पड़ रहा है।