India Times Group
टूटी सड़कों से सरकार देख रही है विकास के सपने
 

झज्जर सड़क से परेशान ग्रामीणों ने शासन प्रशासन के खिलाफ अनदेखी का लगाया आरोप। जब देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के गांव को जाने वाली यह रोड इतना खस्ताहाल है तो आम ब्रांच की रोडो का क्या हाल होगा अंदाजा लगाया जा सकता है।

अमित अमोली, देहरादून। पौड़ी जिला मुख्यालय से कालेश्वर की ओर अपने गांव गुमांई जाने वाली लंबे समय से खराब सड़क से परेशान शिकायतकर्ता दिल्ली निवासी अर्जुन सिंह ने राज्य सरकार को इसकी शिकायत लिखी थी। अर्जुन ने  मुख्यमंत्री शिकायत पोर्टल पर लिखकर राहगीरों की आपबीती बताई थी। उन्होंने 27 जुलाई को शिकायत पोर्टल पर पौड़ी जिला मुख्यलय से कालेश्वर लगभग 30 कि.मी तक मार्ग की बेहद खराब स्थिति को लेकर शिकायत भेजी थी। 28 जुलाई को सरकार से प्राप्त जवाब में उन्हें बताया गया है कि वर्तमान में इस मार्ग का चयन प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अन्तर्गत 9 से 28 कि.मी हेतु हुआ है। जिसमे से 1 से 5 किमी में खण्ड द्वारा पैच मरम्मत का कार्य करवाया जा चूका है। बाकि भाग में मरम्मत, सुधारीकरण का कार्य किया जाना बाकी है।


पौड़ी जिला प्रधान संगठन के अध्यक्ष कमल रावत ने बताया है। यह सड़क तीन दर्जन से अधिक गांव के रोज आने-जाने का मात्र एक प्रमुख मार्ग है। पूर्व में जिला प्रशासन व शासन में बैठे जनप्रतिनिधियों अधिकारियों से मुलाकात कर सड़क स्थिति से अवगत कराया गया था। लेकिन आजतक इसका दोबारा डामरीकरण सुधारीकरण का कार्य किया गया है। क्षेत्र पंचायत की बैठक में भी कई बार संबंधित विभाग व जिला प्रशासन को अवगत करा चुके हैं। लेकिन आज तक कोई भी कार्यवाही देखने को नहीं मीली है। जब राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के गांव को जाने वाली यह रोड इतना खस्ताहाल है। आम ब्रांच की रोडो का क्या हाल होगा अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं।

शिकायतकर्ता का कहना है बारिश होते ही सड़क के खड्डे जलमग्न हो जाते है। सड़क की रोड़ियां निकलने से वाहन फिसलने का खतरा बना रहता है। सड़क ढहने का भी डर बना हुआ है। यह मार्ग का उपयोग पौड़ी मुख्यलय, चिकत्सालय, उच्च शिक्षण संस्थानों, नौकरी जाने वालों, जिला न्यायलय, पौड़ी आई.एस.बी.टी और मुख्य बाजार आदि में दैनिक और जरूरी कामों के लिए उपयोग किया जाता है। इस मार्ग में कोई बड़ी घटना होने की शंका से इंकार नहीं किया जा सकता। क्या साशन-प्रशासन को जागने के लिए क्या कोई बड़ी घटना का इंतजार करना होगा।