India Times Group
कर्ज के बोझ तले दबा पेंटर बेचने वाला था अपना घर, जैकपॉट मिलते ही झटके में बना करोड़पति, बैंकों और रिश्तेदारों के थे 50 लाख रुपए बकाए
 

केरल। लॉटरी का खेल बड़ा ही निराला होता है, जैकपॉट मिलते ही लोग एक झटके में करोड़पति बन जाते हैं। इसके लिए वे कई सालों तक अपनी किस्मत भी आजमाते हैं तब जाकर उनके हाथ जैकपॉट लगता है। लेकिन लॉटरी की एक बड़ी दिलचस्प कहानी केरल से सामने आई है जहां एक शख्स करीब पचास लाख के कर्ज में डूबा था और वह अपना सब कुछ बेचने जा रहा था। तभी उसकी एक करोड़ की लॉटरी निकल आई। दरअसल, यह शख्स केरल के मंजेश्वर का रहने वाला है। पीटीआई की एक रिपोर्ट के मुताबिक शख्स का नाम मोहम्मद बावा है। बावा पर रिश्तेदारों और बैंक का 50 लाख रुपये का कर्ज था। उसने अपनी दो बेटियों की शादी और व्यापार में हुए घाटे से उबरने के लिए यह कर्ज लिया था। कर्ज के चलते बावा अपने नवनिर्मित मकान को औने-पौने दाम में बेचने को तैयार था, लेकिन सौदे से ठीक दो घंटे पहले एक करोड़ की लॉटरी लग गई।

रिपोर्ट के मुताबिक बावा ने महज 2 घंटे पहले ही लॉटरी का रिजल्ट देखा कि वह एक करोड़ रुपए जीत गए हैं। बावा पेशे से एक पेंटर है और 8 महीने पहले ही उन्होंने मकान बनवाया था जो 2 हजार स्क्वायर फीट में है। बावा ने बताया कि वह किराए के मकान में शिफ्ट होने वाले थे। परिवार में पत्नी और पांच बच्चे हैं। दो बेटियों की शादी करा दी है। बावा ने बताया कि बेटियों की शादी और घर को बनाने में वह कर्ज में डूब गए थे।

उन पर बैंकों और रिश्तेदारों के 50 लाख रुपए बकाए थे। जब बावा को किसी की मदद नहीं मिली तो उन्होंने उडुपी जिले के होसंगादी गांव में एक एजेंसी से लॉटरी टिकट खरीदा। जिस दिन उनके घर की डील पक्की होनी थी उसी दिन लॉटरी का रिजल्ट आया। बावा को पता चला कि उनकी लॉटरी लग चुकी है और वह 1 करोड़ जीत चुके है। इस खबर को सुनते ही बावा ने घर बेचने की डील को कैंसिल कर दी। फिलहाल लॉटरी के नतीजे के बाद बावा ने अब अपने घर को न बेचने का फैसला किया है। उनके घर में खुशी का माहौल है। टैक्स के बाद उन्हें करीब 63 लाख रुपये मिलेंगे। बाकी बचे रुपयों से वे अन्य सभी काम निपटाएंगे।