जनसंख्या नियंत्रण कानून के समर्थन में 31 जनवरी को देहरादून में महासम्मेलन का आयोजन

देहरादून। जनसंख्या नियंत्रण कानून के समर्थन में देशभर में तमाम सामाजिक संगठन आगे आ रहे हैं। उत्तराखंड में भी इस कानून के समर्थन में बड़ी संख्या में समाजसेवी संगठन लोगों को जागरूक करने के साथ खुलकर इस कानून का समर्थन कर रहे हैं। आज देहरादून के प्रेसक्लब में सम्पूर्ण भारतवर्ष में जनसंख्या नियंत्रण कानून लागू किए जाने को लेकर जनसंख्या समाधान फाउंडेशन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रविंद्र गुजर्र ने प्रेसवार्ता की।

भारत को इस्लामिक गुलामी से कोई नहीं बचा सकता- गुर्जर
जनसंख्या समाधान फाउंडेशन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रविंद्र गुजर्र ने कहा कि वर्तमान में भारत में एक वर्ग जनसंख्या वृद्धि के बल पर भारत को गुलाम बनाना चाहता है। अगर भारत में जल्द ही चीन की तरह जनसंख्या नियंत्रण कानून नहीं बना तो भारत को इस्लामिक गुलामी से कोई नहीं बचा सकता। जनसंख्या वृद्धि के दम पर ही हिन्दुओं को कश्मीर, बंगाल, केरल जैसे राज्यों में प्रताड़ित किया जा रहा है। जनसंख्या समाधान फाउंडेशन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रविंद्र गुजर्र ने कहा कि अगर वर्तमान सरकार ये कानून न बना पाई तो जनसंख्या विस्फोट के कारण मोदी जी के अहम लक्ष्य देश को विकसित बनाने से पिछड़ जायेगा और 1947 की तरह फिर से भारत को धर्म के आधार पर विभाजन की पीड़ा से गुजरना पड़ेगा। इसलिये हम सब को आगे आकर वर्तमान सरकार को स्वयं के अस्तित्व की रक्षा हेतु ये कठोर जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने को मजबूर करना चाहिए।

देश गृहयुद्व को ओर जा रहा है- गुर्जर
रविंद्र गुजर्र ने कहा कि जनसंख्या विस्फोट से उत्पन्न संसाधन, सामाजिक, आर्थिक एंव पर्यावरण संकट से देश गृहयुद्ध की ओर जा रहा है। देश की आर्थिक स्थिति दिन प्रतिदिन बिगड़ती जा रही है। उसका मुख्य कारण है देशभर में बढ़ते असिमित जनसंख्यां का बढ़ना। यही जनसंख्या देश को दीमक के तरह से बर्बाद करने में तुला हुआ है यदि जनसंख्यां की बृद्धि पर शीघ्र अंकुश नहीं लगाया गया तो आने वाले समय में हमारी आर्थिक व सामाजिक स्थिति बद से बत्तर हो जायेगी। उन्होंने सरकार से मागं करते हुए कहा कि इससे निपटन के लिए जल्द ही जनसंख्या कानून संसद में पारित होना चाहिए ।

चीन की आर्थिक हालत आज भारत से बेहत्तर-गुर्जर
जनसंख्या समाधान फाउंडेशन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रविंद्र गुजर्र ने कहा कि अगर यह कानून नहीं बना तो देश अपने आर्थिक स्थिति से कभी उभर नहीं पायेगा और यह सही वक्त है कि इस बढ़ते जनसंख्यां को रोकने में समाज का हर वर्ग अपने घरों से निकलकर आएं तभी जनसंख्यां को नियंत्रण करा जा सकता है। संस्था के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने जनसंख्यां नियंत्रण पर अपने पडोसी देश चीन का उदाहरण देते हुए कहा कि जिस स्थिति से आज हिन्दुस्तान गुजर रहा है ठीक ऐसी ही पूर्व में चीन की भी थी। परंतु चीन सबसे पहले जनसंख्यां को नियंत्रण करने का काम किया। जिसके बाद आज चीन की आर्थिक हालत हिंदुस्तान से बेहत्तर है।

31 जनवरी को देहरादून में महासम्मेलन का आयोजन
जनसंख्या समाधान फाउंडेशन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने बताया कि उनकी संस्था देश के अलग अलग राज्यों में आम जनसभा के माध्यम से जनसंख्यां को रोकथाम करने के लिए जागरूकता अभियान चलाने का काम कर रही है। इस अभियान में अब लोगों का रुझान अब बेहत्तर मिल रहा है और लोग इसे सराहनीए कदम बता रहे है। उन्होंने बताया यही अभियान अब देहरादून के राजधानी से भी किया जा रहा है और इस अभियान को सफल बनाने के लिए देहरादून के सूर्या फार्म में 31 जनवरी को बड़ा सम्मेलन किया जा रहा है।

सम्मेलन में गरजेंगे ये दिग्गज
सम्मेलन के मुख्य अतिथि इंद्रेश जी, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ होंगे। विशिष्ठ अतिथि देहरादून के प्रथम नागरिक व मेयर सुनील उनियाल गामा, व कार्यक्रम के अतिथि अनिल कुमार ,राष्ट्रीय अध्यक्ष, जनसंख्या समाधान फाउंडेशन, लोकेश प्रजापति, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, पिछड़ावर्ग आयोग, प्रशांत चैधरी ,वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता के साथ साथ जनसख्यां नियंत्रण के संयोजक श्रीमती ममता सहगल जैसी हस्तियां सम्मेलन में अपने विचार विकट करेंगें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *