उत्तराखंड के मठाली गाँव का 30 सालों का इंतज़ार हुआ ख़त्म, गाँव के लोगों ने सरकार को दिखाया कैसे होता है काम

आज आप जहाँ भी देखें कोरोना वायरस से पूरी दुनिया को अस्त-व्यस्त कर के रख दिया है, सबको अपने ही घरों में कैद कर के रख दिया है कोई किसी से कोई सम्बन्ध नहीं रखना चाहता। सबको डर सता रहा है कि हमारा क्या होगा। कैसे बचा जाये इस आफत से। लेकिन इस सबके बावजूद उत्तराखंड के पौडी गढ़वाल, लैंसडौन विधानसभा ब्लॉक जैहरीखाल, मठाली गाँव के लोगों ने अपनी हिम्मत का लोहा मनवा दिया है। जहाँ लोग अपने घरों से निकलने को तैयार नहीं हैं वहीं मठाली गाँव के लोगों ने कुछ ऐसा कर दिखाया कि जिस काम से सरकार ने अपने हाथ पीछे खिंच लिए थे और 30 सालों से मठाली गाँव के लोग परेशान थे वह काम गाँव के लोगों ने अपने हाथों में ले लिया और महज 7 दिनों में ही 1.5 किलोमीटर सड़क बना सरकार को दिखा दिया की काम कैसे किया जाता है।

गांव के युवाओं ने उस सपने को पूरा कर दिखाया, जिसकी मांग वो पिछले करीब 30 सालों से कर रहे थे। चुनाव में नेता उनको सपना दिखाते तो थे, लेकिन कभी पूरा नहीं करते थे। लाॅकडाउन के दौरान गांव के युवा गांव लौटे, अनलाॅक का इंतजार किया और फिर तय किया कि वो अपने बूते गांव तक सड़क पहुंचाएंगे और अपने मिशन को पूरा करने में जीजान से जुट गए। उन्होंने जो ठाना उसे पूरा करके भी दिखाया।

गांव के युवा दीपेंद्र सिंह नेगी ने बताया कि गांव के लोगों को 2 किलोमीटर पैदल चलना पड़ता था। सरकार से गुहार लगाई पर उन्होंने भी 500 मीटर तक ही सड़क दी। पिछले 2 साल से सड़क का काम बंद पड़ा था। सरकार और लोक निर्माण विभाग को मठाली लिंक मार्ग को पूरा करने की मांग की। कई बार पत्र लिखे, लेकिन कोई समाधान नहीं हुआ। सरकार और सरकार विभागों की मनमानी और असंवेदनशीतला ने ग्रामीणों को अपने खर्च पर सड़क का काम पूरा करने के लिए मजबूर कर दिया। फिर ग्रामीणों तय किया कि वो खुद ही सड़क का निर्माण करेंगे और सभी लोग काम में जुट गए।

लोगों ने 7 दिनों मे ही 1.5 किलोमीटर सड़क कटा कर गांव को शहर से जोड़ दिया। सड़क के गांव तक पहुंचने पर जो चमक गांव के बुजुर्गां के चहरों पर देखने को मिली, वो इतना बताने के लिए काफी थी कि वो कब से इस पाल का इंतजार कर रहे थे। अब उनको उम्मीद है कि गांव में तरक्की करेगा। बुजुर्गों ने युवाओं को शुभकामनाएं दी, आशीर्वाद दिया और उम्मीद जताई कि आने वाले समय में भी गांव के युवा इसी तरह मिलकर काम करेंगे। गांव को तरक्की की ओर लेकर जाएंगे।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *