Tuesday, July 27, 2021
Home साहित्य कहानियां मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-9 “बबिता कोमल की कलम से”

मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-9 “बबिता कोमल की कलम से”

“कठे हांडरा हा पूरअ दिन, कोई टेम है औ त्यौहार नअ घरा आबो को….(दिन भर कहाँ थे, क्या यह कोई समय है त्यौहार के दिन घर आने का)”

मैं नजरें झुकाये चुपचाप खड़ा था। मैं सदैव जल्दी ही घर आता हूँ, तब तो कभी कोई शाबासी नहीं देता कि घर के और बच्चे इधर-उधर भटकते रहते हैं पर तुम समय पर आते हो। आज मैं बहुत दिन बाद इतनी मौस-मस्ती करके आय़ा हूँ तो यह भी इन्हें पसंद नहीं आया। मैं सदैव चाहता था कि बाबा मुझसे बातें करे। मेरे हालचाल पूछे, पढ़ाई के बारे में पूछे पर वो तो सामने से निकलते समय भी बात नहीं करते। आज कर रहे हैं तो ऐसे….
यह मेरे विचारों का कारवाँ था जो उनके मुँह से निकलते आगे के कर्कश स्वरों के आगे थम गया था-
“दिन भर इया ही हांडोगा तो फेल हो जाओगा, ध्यान राखजो। इया ही बुद्धि कम है, पूरी ही खत्म हो जावगी।”
मैंने कोई जवाब नहीं दिया। माँ भी उनके साथ मिलकर उलाहना देने लगी थी। बाबा को मेरी मनःस्थिति से कब मतलब रहा था जो आज रहता। वे अपनी भड़ास निकालकर जा चुके थे। माँ उनके अधूरे काम को आगे बढ़ा रही थी मगर में वहाँ से हट गया था। मैं अपने कमरे में आ गया था।

पटाखे फूटाने और दीपक जलाने का सम्पूर्ण उत्साह स्वाहा हो चुका था, कदाचित् उसी आग में जिसमें बीस दिन पहले रावण को जलाया गया था।
दिन भर में कमाई खुशी तिरोहित हो गई थी। एक बार फिर केवल और केवल नकारात्मकता थी जो अंधियारे में दखेल रही थी। एक बार आत्महत्या करने के प्रयास एवं उसमें विफल होने के बाद वैसे कोई विचार अब नहीं आते थे किंतु जब बाबा कभी डाँटते थे तो घर छोड़कर जाने का विचार हावी हो जाता था। आज भी यही हो रहा था।

यहाँ मुझे कोई पसंद नहीं करता। क्या कारण हो सकता है इसका। बाबा मेरे सभी भाइयों से भी कम बात करते हैं पर जब करते हैं बहुत प्यार से करते हैं। न जाने ऐसा क्या है कि मुझसे जब भी बाते करेंगे बस डाँटने के लिए ही या नीचा दिखाने के लिए। वे क्यों नहीं समझते कि मेरा भी आत्म सम्मान है। मुझे कितना बुरा लगता है जब वे किसी के भी सामने मुझे नीचा दिखाते हैं।

पर वे ऐसा करते क्यों है। क्या मैं सच में कमबुद्धि वाला हूँ, क्या मैं बेवकूफ हूँ या वे मुझे कहीं और से उठाकर ले आये हैं। वे खुद भी तो दादाजी की संतान नहीं थे। उनके यहाँ गोद आये थे, कहीं ऐसा तो नहीं कि मैं भी गोद आया हूँ। नहीं ऐसा नहीं हो सकता, गोद तो तब लेते हैं जब खुद का बच्चा न हो। मेरे से पहले तो दो भाई और एक बहन है ही। कहीं कोई मुझे यहाँ छोड़ तो नहीं गया।

उफ्….कैसे कैसे विचार आ रहे हैं। पटाखों की गूंजती आवाज सीने में चित्कार पैदा कर रही है। फुलझड़ियों की खिड़की से आती रोशनी मेरे दिल को जला रही है। हे ईश्वर मैं क्या करूँ। कहाँ जाऊँ। मुझे आप ही कोई रास्ता दिखाओ।
विचारों का कारवाँ नकारात्मकता में डूबता हुआ दूसरी तरफ बढ़ चला था।

मैं सच मैं अच्छा नहीं हूँ। इतनी किताबें पढ़ता हूँ, जानता हूँ कि रागेश्वरी के बारे में ज्यादा नहीं सोचना है पर वह हर पल ख्यालों में रहती है। मुझे इन सब चीजों से दूर रहना है। गीता में कृष्णजी ने लिखा है, हर एक जीव एक आत्मा है। न जाने कैसे फिर मैं केवल शरीर के मोह में डूबा रहता हूँ। और तो और लगभग हर रात को काम वासना के दौर से गुजरता है।
कल से मैं गौमुखासन करुँगा। बाबूराम कहता है कि ऐसा दिन में दस बार करने से पढ़ाई में मन लगता है और सौंदर्य आँखों के आगे नहीं आता।
न जाने मैं किस चीज के लिए व्याकुल है। कुछ ऐसा है जो मुझे परेशान कर रहा है। मुझे क्या चाहिए….हे ईश्वर मेरी मदद करो…

तभी नीचे से आती भाइय़ों के हँसने बोलने की आवाजें एक बार फिर विचारों के जंगल को बाधा पहुँचाती है। फिर घरवाले याद आ जाते हैं, साथ ही कुछ देर पहले पड़ी डाँट….मैं अकेला नीचे नहीं हूँ। सब मौज-मस्ती कर रह हैं पर किसी ने मुझे नहीं बुलाया। किसी को मेरी याद भी नहीं आई कि मैं नीचे क्यों नहीं हूँ। माँ को भी नहीं, वे तो जानती थी कि मैं नाराज होकर अपने कमरे में आया हूँ।

फिर घर छोड़कर जान का विचार मन में हावी होने लगता है। मैं जोर-जोर से रोने लगता हूँ। इतना कि मेरी आवाज बस मुझे ही सुनाई दे। मैं इस तरह नहीं रो सकता कि किसी और को पता चले। मैं मर्द हूँ और मर्द कभी रोते नहीं है, यह काम जनानी का है।

न जाने रोते-रोत कब आँख लग जाती है। आँख खुलती है तब तक सब बदल गया था। अब दिवाली नहीं थी। दिवाली कल थी और आज सड़कें बुझे दीपक और पटाखों के कचरे से अटी पड़ी थी। किसी को परवाह नहीं थी कि मेरी रात कैसी बीती। सब अपनी-अपनी दुनिया में व्यस्त थे। मैं भी पेट की भूख मिटाने माँ के समक्ष पहुँच गया था। उनसे कुछ उम्मीद करके कोई फायदा नहीं था। फिर भी उम्मीदें तो हो ही जाती है जो तुरंत नाउम्मीदी में बदले तो भी तकलीफ ही देती है।

माँ ने कल रात का जिक्र ही नहीं किया। मैं फिर एक बार उदास हो गया। चुपचाप बागान की तरफ बढ़ गया और एक पेड़ की डाल को वहीं पड़ी कुल्हाड़ी उठाकर काटने लगा। ऐसा हम अक्सर किया करते थे क्योंकि यह लकड़ी चूल्हे में जलाने के काम आती थी। न जाने कैसे डाल का एक हिस्सा पीछे की तरफ बने घर के दालान में जा गिरा और वहाँ से एक महिला मेरे ऊपर क्रोध करते हुए आ पहुँची।

वह मुझ पर चिल्ला रही थी, मुझे गालियाँ दे रही थी पर मैं आश्चर्यजनक रूप से उसे देख रहा था। वह अनन्य सुंदरी थी। रात को ईश्वर के करीब रहने के विचार अब तक तिरोहित हो गए थे। मैं खुशी-खुशी अपलक उसको निहार रहा था। उसके द्वारा दी जा रही गालियाँ भी मीठी लग रही थी।
मैंने डाल काटना बंद कर दिया था। वह मुझे शांत खड़ा देखकर लौट चुकी थी और मैं अब भी उन राहों को निहार रहा था…..रागेश्वरी का ख्याल अभी किंचित मात्र भी नहीं था….उसके ख्यालों पर अभी कुछ पल के लिए शायद इस अपूर्व सुंदरी ने कब्जा कर लिया था..

RELATED ARTICLES

मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-12 “बबिता कोमल की कलम से”

मैं कितना स्पेशल था, मेरे लिए जलपाईगुड़ी टेलिग्राम भेजा गया था। कभी-कभी लीक से अलग होने के कितने फायदे होते हैं। आपके लिए सब...

मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-11 “बबिता कोमल की कलम से”

आज शायद डायरी बदली हुई है। मानस की वह डायरी मेरे हाथ में नहीं आई है जिसमें वह कक्षा दस के बाद बाबा द्वारा गुवाहाटी...

मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-10 “बबिता कोमल की कलम से”

डायरी लिखने का मन तब होता है जब मन अशांत हो। मन की शांति किसी डायरी और किसी मित्र की याद नहीं दिलाती। मैं अभी...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

उत्तराखंड में 4 अगस्त तक बढ़ा कोविड कर्फ्यू, स्पा और सैलून के साथ खुलेंगे ये संस्थान, नाइट कर्फ्यू अभी रहेगा बरकरार

देहरादून। उत्तराखंड सरकार ने कुछ और रियायतों के साथ प्रदेश में कोविड कर्फ्यू को मंगलवार सुबह छह बजे से चार अगस्त सुबह छह बजे...

उत्तराखंड में पुलिस ग्रेड पे पर बोले सीएम धामी, सरकार ने स्वयं की पहल, सीएम आवास के मिथक पर कही ये बड़ी बात

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी पूजा-पाठ के बाद सरकारी आवास में शिफ्ट हो गए हैं। इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में...

सीएम के चेहरे पर बोले प्रीतम, क्या मेरा चेहरा बुरा है…? कांग्रेस आलाकमान ने चुनाव में कोई चेहरा घोषित नहीं किया, सत्ता में...

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा के नवनियुक्त नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह सोमवार को सुबह 11 बजे विधानसभा भवन में विधिवत रूप से पदभार ग्रहण कर लिया...

उद्योग मंत्री गणेश जोशी ने दिए नवनियुक्त उद्योग सचिव राधिका झा को औद्योगिक विकास में तेजी लाने के निर्देश

देहरादून। आज नवनियुक सचिव, उद्योगिक विकास, लघु, सूक्ष्म, एवं मध्यम उद्यम, खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग राधिका झा ने कैंप कार्यालय में कैबिनेट मंत्री गणेश...

उत्तर प्रदेश:लखनऊ-योगी मुख्यमंत्री पद के लिए पहली पसंद

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,उत्तर प्रदेश:लखनऊ। स्वतंत्र एजेंसी मैटराइज न्यूज ने प्रदेश के 75 ज़िलों में करवाए गए सर्वे में दावा किया है कि...

नई दिल्ली:वैज्ञानिकों की गंभीर चेतावनी, महाविनाश रोकने के लिए लेना होगा एक्शन

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,नई दिल्ली: वैज्ञानिकों ने एक चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि विश्व में चार ऐसे देश हैं, जो दुनिया...

नई दिल्ली:एम्‍स ने दिया बड़ा बयान,जल्द शुरू होगा बच्चो का टिकाकरण,

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,नई दिल्ली: दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने राहतभरी खबर दी है। उन्होंने...

शिलान्यास सहित जो घोषणाएं की गई है उनको प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण किया जाएगा- सीएम पुष्कर सिंह धामी

मुख्यमंत्री ने सुनी आम जन सहित विभिन्न संगठनों की समस्यायें। शिलान्यास सहित जो घोषणाएं की गई है उनको प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण किया जाएगा-...

डीएम देहरादून ने किया स्मार्ट सिटी के कार्यों का निरीक्षण, सड़को पर गड्ढे मे जलभराव को लेकर जताई नाराजगी

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आर राजेश कुमार ने देहरादून स्मार्ट सिटी में हो रहे कार्यों का अपने स्थलीय निरीक्षण के दौरान आज सर्वे चैक से...

मीराबाई चानू के सिल्वर मेडल जीतते ही खुशी से झूमा देश, “भारत के झंडे को आप पर गर्व है मीरा”, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम...

देहरादून। मीराबाई चानू ने ये कमाल 49 किलोग्राम भारवर्ग की महिला वेटलिफ्टिंग में किया है। स्नैच राउंड में मीराबाई चानू सभी महिला वेटलिफ्टर्स के...

उत्तराखंड में अपग्रेड होंगे 158 आयुर्वेदिक अस्पताल, तीसरी लहर से निपटने को मजबूत होंगी सुविधाएं

देहरादून। कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए इससे निबटने के लिए ग्रामीण और सुदूरवर्ती क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार को प्रभावी...

ट्रांसफर-पोस्टिंग को लेकर उत्तराखंड सरकार के शासनादेश से हुआ बड़ा खुलासा, राजनीतिक दबाव बनाते हैं अधिकारी…

देहरादून। उत्तराखंड में ट्रांसफर और पोस्टिंग के लिए भारतीय प्रशासनिक सेवा के कतिपय अधिकारी राजनीतिक दबाव बना रहे हैं। प्रदेश सरकार ने आईएएस अफसरों...

उत्तराखंड: रुद्रपुर में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का रोड शो, कार्यकर्ताओं में दिखा उत्साह, किसानों ने किया प्रदर्शन

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी शुक्रवार से ऊधमसिंह नगर जिले के दौरे पर हैं। शक्रवार को जब मुख्यमंत्री रुद्रपुर पहुंचे तो किसानों ने उनके दौरे...

आतंकी साजिश नाकाम: जम्मू-कश्मीर में पुलिस ने मार गिराया ड्रोन, पांच किलो आईईडी बरामद

जम्मू-कश्मीर के कनाचक इलाके में पुलिस ने एक पाकिस्तानी ड्रोन को मार गिराया है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक इस ड्रोन के गिरने पर...

“मिशन 2022” के लिए उत्तराखंड कांग्रेस की नई टीम फाइनल, पंजाब फार्मूला उत्तराखंड में भी हुआ लागू

देहरादून। खबर आ रही है कि उत्तराखंड कांग्रेस की नई टीम के के नामों का ऐलान कल होगा। इस टीम में जिन नामों और...