Tuesday, July 27, 2021
Home साहित्य कहानियां मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-8 “बबिता कोमल की कलम से”

मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-8 “बबिता कोमल की कलम से”

तेरह साल के बच्चे की मनःस्थिति को कोई नहीं समझता। न वह छोटा होता है और न ही बड़ा।

ट्यूशन वाले मास्टरजी स्कूल में कम आये नम्बर को ज्यादा करवा देते हैं, ताकि उनकी नौकरी न छूटे, और न ही नाम खराब हो, इसमें बच्चे की क्या गलती है। उसे मौका मिला नहीं पढ़ने का, तो वह क्यों पढ़ेगा।
अब ऐसा न हो पायेगा। या हो पायेगा तो भी तो बाकी विषयों के अध्यापक मजाक उड़ाते हैं, वहाँ रागेश्वरी भी तो रहेगी। क्या करे वह, सबके सामने अपमानित होने से तो अच्छा है कि यह दुनिया छोड़ दी जाए। हाँ, यह अच्छा है।

आम का पेड़ इसके लिए उपयुक्त स्थान होगा। आज से परीक्षा शुरु है। कॉपी में क्या लिखेगा, कुछ भी तो आता नहीं है। हाँ…हाँ….आम का पेड़ ही सारी समस्याओं का हल निकाल कर देगा। फिर जब परीक्षा परिणाम आयेगा तो सभी छात्रों के सामने मास्टरजी नहीं धिक्कार पायेंगे।
वह चल पड़ता है हाथ में वह रस्सी लेकर जो फैक्ट्री में बर्तनों के कार्टुन बाँधने के काम आती है। सुबह के समय बागान में कोई नहीं है। हाथ में एक काठ का टुकड़ा भी है, जिस पर खड़े होकर ईश्वर को अंतिम बार याद करना है और मरते समय उसे हटाकर सभी दुःखों से छुटकारा पा लेना है। धूबड़ी में आई साध्वीजी का प्रवचव सुनने जब माँ के साथ गया था तो वे अपने प्रवचन में कह रही थी-
“मृत्यु के तुरंत पहले यदि ईश्वर को स्मरण करना याद रखा जाए तो स्वर्ग मिलता है।”

वह तो सोच समझकर मरने के लिए प्रस्तुत है, तो ईश्वर साथ होने ही चाहिए। सभी तैयारी हो चुकी है। डाल से रस्सी को बाँध दिया है और दूसरे छोर का फंदा बनाकर गले में डाल लिया है। अब, बस ईश्वर और मैं और नीचे सहारे के लिए पड़े काठ के टुकड़े को लात…….पर यह क्या, नहीं……ऐसा कैसे कर सकता हूँ मैं, मेरे ईश्वर मेरे साथ है, मैं कोई और नहीं हूँ, मैं खुद हूँ, मैं कैसे खुद को मार दूँगा। मैं मर जाऊँगा तो खुद को कहाँ से लाऊँगा।

मुझे जीना होगा। अभी तो रागेश्वरी के साथ भविष्य के लिए देखे सपनों को पूरा करना है। बाबा की तरह धन कमाकर रौब जमाना है। बड़ा सन्यासी बनना है। ईश्वर के बारे में जानना है। कितना कुछ है जो करना है….नहीं…नहीं मैं नहीं मर सकता।

मास्टरजी धिक्कारेंगे, तो मैं सुन लूँगा। अगली बार पूरी मेहनत से पढ़ाई करूँगा और कक्षा नौ पास करूँगा। जानता हूँ कि बाबा के भय से इस कक्षा में मुझे फेल तो कर नहीं सकते….अभी स्कूल जाता हूँ और परीक्षा देता हूँ।
और इस तरह कक्षा आठ में किया गया आत्महत्या का प्रयास ऐन समय स्थगित होने के कारण मैं डायरी में यह वाकया लिखने के लिए प्रस्तुत था और अभी कक्षा दस का अपनी मेहनत के दम पर पास होने का रिजल्ट ले रहा था।

होठों पर मुस्कान थी और आँख में पानी। कितनी बड़ी गलती करने वाला था मैं दो वर्ष पहले….पर अब नहीं…जो बीत गया उसको बदला नहीं जा सकता पर आने वाले को सुधारा जा सकता है। अभी फाइनल परीक्षाओं में छह महीने की देरी है। मैं जीजान से पढ़ाई करूँगा। मुझे कॉटन कॉलेज में एडमिशन लेना है। ऐसा तभी हो पायेगा जब मैं मेहनत करूँगा।

मेरी मदद कौन करेगा इसमें….हाँ भुवेन सर…वे जरुर मेरी मदद करेगें। वे हमेशा से चाहते थे कि मैं अच्छी तरह पढ़ाई करूँ। उन्हें प्रारम्भ से ही लगता था कि मैं यदि मेहनत करूँ तो अच्छे नम्बर ला सकता हूँ पर मैंने कभी उनकी बातों की तरफ ध्यान नहीं दिया। अब नहीं….

भुवेन मास्टरजी मेरी बात सुनकर बहुत खुश हुए। वे पढ़ाने के लिए तैयार थे, तब भी जब उन्हें घोष मास्टरजी ने ऐसा न का सुझाव दिया था, कक्षा दस में मुझे पढ़ाने से उनका नाम खराब हो सकता था क्योंकि मेरे जैसे कमजोर छात्र पर समय बर्बाद करके कुछ नहीं होने वाला।

भुवेन मास्टरजी ने उनके अमूल्य सुझाव को बेकार सुझाव समझकर दूसरे कान से निकाल दिया था। अब वास्तविक पढ़ाई शुरु हुई थी। एक ही लक्ष्य था, कॉटन कॉलेज में दाखिला….

आज पढ़ने का मन नहीं था। दिवाली का मौका था इसलिए दोस्तों के साथ कुछ मौज-मस्ती करने का मन हो गया था। बहुत दिन बाद खेलने का मौका मिला तो दिल खुश हो गया। बाबूराम के पास बताने के लिए कितनी सारी बातें थी। भूत की बातें जिसको उसने बहुत बार देखा था, उस लड़की की बातें जो बचपन में हमारे साथ पढ़ती थी और अब गुवाहाटी पढ़ती है, कुछ दिन पहले उसे अचानक बाजार में मिल गई थी और नजरें मिलते ही अपनी माँ के पीछे ऐसे छुप गई थी जैसे प्रेमिका वर्षो बाद अपने प्रेमी को देखकर शर्मा जाती है।

हम सभी बचपन की बातें करने लगे।
तब हम कितने खुश थे। दिन भर खेलना और खाना। पढ़ाई की कोई चिंता ही नहीं थी। अब कितने दुःखी है। कभी घर का काम तो कभी पढ़ाई। कभी कुछ बच्चे वाली हरकत कर देते हैं तब माँ और बाबा पल में कह देते हैं-
“तुम अब बड़े हो गए हो, बच्चों सी हरकतें छोड़ दो।”
कभी कुछ ऐसा कर देते हैं जो उनकी नजर में बच्चों को करना चाहिए तो पल में कान पकड़कर माँ गाल में तमाचा जड़ कर कह देती हैं-
“बच्चे हो बच्चे की तरह रहो, अभी से बड़ा बनने की हिम्मत मत करो….”
समझ में ही नहीं आता कि हम छोटे है या बड़े।
हम बहुत देर तक आपस में एक-दूसरे का दुःख बाँटते रहे थे। मन का भार हल्का हो गया था। शाम घिरने वाली थी और दिवाली थी। घर में पूजा प्रारम्भ होने वाली थी। मुनिमजी के साथ मिलकर पूरी फैक्ट्री में वैसे ही दीपक सजाने का मन हो गया था जैसे बचपन में सजाते थे। छोटे भाइयों के साथ मिलकर ढेरों पटाखे छुड़ाने थे इसलिए मैं तेज कदमों से घर की तरफ लौट आया था।
राह में फूटते पटाखे आनन्द दे रहे थे। बाहर होती रोशनी आज भीतर में भी रोशनी प्रज्वलित कर रही थी क्योंकि दोस्तों से उनके बारे में जानकर अहसास हुआ था कि मैं अकेला ही दुःखी नहीं हूँ, वे भी दुःखी है। दूसरों को दुःखी देखकर अपना दुःख कम हो जाता है, ऐसा ही मेरे साथ हुआ था।

दरवाजे पर ही बाऊजी मिल गए थे। न जाने कितने दिन बाद आज वो मुझसे बात करने वाले थे क्योंकि उन्होंने मुझे पुकार लिया था। यह पुकार सामान्य नहीं थी। यह वैसी पुकार थी जो वे किसी को तब देते थे जब वे उस पर अत्यधिक क्रोध में होते थे…..आज न जाने मैंने ऐसी कौनसी गलती कर दी थी….मेरा ह्रदय काँपने लगा था। कुछ देर पहले तक बसी दिल की खुशी पलक झपकते ही नदारद हो गई थी और उसके स्थान पर डर ने अपना कब्जा कर लिया था….

RELATED ARTICLES

मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-12 “बबिता कोमल की कलम से”

मैं कितना स्पेशल था, मेरे लिए जलपाईगुड़ी टेलिग्राम भेजा गया था। कभी-कभी लीक से अलग होने के कितने फायदे होते हैं। आपके लिए सब...

मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-11 “बबिता कोमल की कलम से”

आज शायद डायरी बदली हुई है। मानस की वह डायरी मेरे हाथ में नहीं आई है जिसमें वह कक्षा दस के बाद बाबा द्वारा गुवाहाटी...

मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-10 “बबिता कोमल की कलम से”

डायरी लिखने का मन तब होता है जब मन अशांत हो। मन की शांति किसी डायरी और किसी मित्र की याद नहीं दिलाती। मैं अभी...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

उत्तराखंड में 4 अगस्त तक बढ़ा कोविड कर्फ्यू, स्पा और सैलून के साथ खुलेंगे ये संस्थान, नाइट कर्फ्यू अभी रहेगा बरकरार

देहरादून। उत्तराखंड सरकार ने कुछ और रियायतों के साथ प्रदेश में कोविड कर्फ्यू को मंगलवार सुबह छह बजे से चार अगस्त सुबह छह बजे...

उत्तराखंड में पुलिस ग्रेड पे पर बोले सीएम धामी, सरकार ने स्वयं की पहल, सीएम आवास के मिथक पर कही ये बड़ी बात

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी पूजा-पाठ के बाद सरकारी आवास में शिफ्ट हो गए हैं। इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में...

सीएम के चेहरे पर बोले प्रीतम, क्या मेरा चेहरा बुरा है…? कांग्रेस आलाकमान ने चुनाव में कोई चेहरा घोषित नहीं किया, सत्ता में...

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा के नवनियुक्त नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह सोमवार को सुबह 11 बजे विधानसभा भवन में विधिवत रूप से पदभार ग्रहण कर लिया...

उद्योग मंत्री गणेश जोशी ने दिए नवनियुक्त उद्योग सचिव राधिका झा को औद्योगिक विकास में तेजी लाने के निर्देश

देहरादून। आज नवनियुक सचिव, उद्योगिक विकास, लघु, सूक्ष्म, एवं मध्यम उद्यम, खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग राधिका झा ने कैंप कार्यालय में कैबिनेट मंत्री गणेश...

उत्तर प्रदेश:लखनऊ-योगी मुख्यमंत्री पद के लिए पहली पसंद

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,उत्तर प्रदेश:लखनऊ। स्वतंत्र एजेंसी मैटराइज न्यूज ने प्रदेश के 75 ज़िलों में करवाए गए सर्वे में दावा किया है कि...

नई दिल्ली:वैज्ञानिकों की गंभीर चेतावनी, महाविनाश रोकने के लिए लेना होगा एक्शन

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,नई दिल्ली: वैज्ञानिकों ने एक चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि विश्व में चार ऐसे देश हैं, जो दुनिया...

नई दिल्ली:एम्‍स ने दिया बड़ा बयान,जल्द शुरू होगा बच्चो का टिकाकरण,

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,नई दिल्ली: दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने राहतभरी खबर दी है। उन्होंने...

शिलान्यास सहित जो घोषणाएं की गई है उनको प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण किया जाएगा- सीएम पुष्कर सिंह धामी

मुख्यमंत्री ने सुनी आम जन सहित विभिन्न संगठनों की समस्यायें। शिलान्यास सहित जो घोषणाएं की गई है उनको प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण किया जाएगा-...

डीएम देहरादून ने किया स्मार्ट सिटी के कार्यों का निरीक्षण, सड़को पर गड्ढे मे जलभराव को लेकर जताई नाराजगी

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आर राजेश कुमार ने देहरादून स्मार्ट सिटी में हो रहे कार्यों का अपने स्थलीय निरीक्षण के दौरान आज सर्वे चैक से...

मीराबाई चानू के सिल्वर मेडल जीतते ही खुशी से झूमा देश, “भारत के झंडे को आप पर गर्व है मीरा”, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम...

देहरादून। मीराबाई चानू ने ये कमाल 49 किलोग्राम भारवर्ग की महिला वेटलिफ्टिंग में किया है। स्नैच राउंड में मीराबाई चानू सभी महिला वेटलिफ्टर्स के...

उत्तराखंड में अपग्रेड होंगे 158 आयुर्वेदिक अस्पताल, तीसरी लहर से निपटने को मजबूत होंगी सुविधाएं

देहरादून। कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए इससे निबटने के लिए ग्रामीण और सुदूरवर्ती क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार को प्रभावी...

ट्रांसफर-पोस्टिंग को लेकर उत्तराखंड सरकार के शासनादेश से हुआ बड़ा खुलासा, राजनीतिक दबाव बनाते हैं अधिकारी…

देहरादून। उत्तराखंड में ट्रांसफर और पोस्टिंग के लिए भारतीय प्रशासनिक सेवा के कतिपय अधिकारी राजनीतिक दबाव बना रहे हैं। प्रदेश सरकार ने आईएएस अफसरों...

उत्तराखंड: रुद्रपुर में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का रोड शो, कार्यकर्ताओं में दिखा उत्साह, किसानों ने किया प्रदर्शन

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी शुक्रवार से ऊधमसिंह नगर जिले के दौरे पर हैं। शक्रवार को जब मुख्यमंत्री रुद्रपुर पहुंचे तो किसानों ने उनके दौरे...

आतंकी साजिश नाकाम: जम्मू-कश्मीर में पुलिस ने मार गिराया ड्रोन, पांच किलो आईईडी बरामद

जम्मू-कश्मीर के कनाचक इलाके में पुलिस ने एक पाकिस्तानी ड्रोन को मार गिराया है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक इस ड्रोन के गिरने पर...

“मिशन 2022” के लिए उत्तराखंड कांग्रेस की नई टीम फाइनल, पंजाब फार्मूला उत्तराखंड में भी हुआ लागू

देहरादून। खबर आ रही है कि उत्तराखंड कांग्रेस की नई टीम के के नामों का ऐलान कल होगा। इस टीम में जिन नामों और...