Tuesday, July 27, 2021
Home साहित्य कहानियां मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-11 “बबिता कोमल की कलम से”

मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-11 “बबिता कोमल की कलम से”

आज शायद डायरी बदली हुई है।
मानस की वह डायरी मेरे हाथ में नहीं आई है जिसमें वह कक्षा दस के बाद बाबा द्वारा गुवाहाटी में पढ़ने के लिए इंकार कर देने के दुःख को उकेर रहा था। यह उसके बहुत बाद की कहानी है। तब की जब धूबड़ी से बी.कॉम करके लॉ कॉलेज में भी एडमिशन ले लिया था।
लगता है समय अचानक से पाँच या सात वर्ष आगे बढ़ गया है। अब कलम नन्हे बच्चे के हाथों से नहीं वरन एक युवा के हाथों से चल रही है जो नया-नया जवान हुआ है। मैं भी डायरियों के अंबार में पुरानी डायरी को तलाशने का प्रयास नहीं कर रही हूँ। बस, वो ही उकेर रही हूँ जो समक्ष आ गया है क्योंकि जानती हूँ कक्षा दस के आगे की कहानी भी कभी न कभी आँख के सामने लिखित रुप में फिर आ ही जायेगी।

डायरी में लिखे अक्षरों की बनावट आश्चर्यजनक रूप से बदल गई है। अब समझने और पढ़ने में उतना जोर नहीं डालना पड़ रहा जितना सात वर्ष पहले पड़ता था अर्थात कल पड़ रहा था। यह अंतराल एक दिन का नहीं है, सात वर्ष का है, यही मानकर मैं आगे की कहानी को अपने शब्द दे रही हूँ-

बाबूराम कितना ज्यादा बोलता है। यदि यह नेपाल का न होता तो मैं अब तक इससे अपने संबंध खत्म कर चुका होता। न जाने किस दिन इसका नेपाल रहना मेरे काम आ जाए। वह लगातार बोल रहा है और मैं सुनने के लिए मजबूर हूँ। वह साथ पढ़ने वाली लड़की के किस्से सुना रहा है। मुझे उसमें कोई इंटरेस्ट नहीं है क्योंकि मेरे पास सुनाने के लिए कुछ भी नहीं है। रागेश्वरी की शादी हो चुकी है, शायद वह दो-तीन बच्चों की माँ भी बन चुकी है। उसे देखे ही सालों हो गए हैं।

मैं उसके घर लगातार जाता रहा था फिर भी कभी उसे अपने प्यार का इजहार नहीं कर पाया। मेरा प्यार इकपरफा था औऱ वह उसी में खत्म भी हो गया। रागेश्वरी को पर ऐसा नहीं करना चाहिए था। उसके बारे में जो सुना था उसके बाद उससे नफरत हो गई थी। अब समय के साथ उससे इतनी नफरत नहीं थी पर उसे अपने म्यूजिक मास्टरजी के साथ प्रेम नहीं करना था।

किया तो भी कम से कम इस हद तक नहीं करना था कि उनके बच्चे की माँ ही बन जाए। बाबा के बाहर रहने और माँ के ज्यादा दखलअंदाजी नहीं करने का मतलब यह तो नहीं है कि उनकी ही आँखों के आगे कुछ भी करो, और जब पानी सिर से ऊपर चला जाए तो हथियार डाल दो। डॉक्टर साहब प्रतिष्ठित आदमी थे, ऐसे कैसे किसी भी मास्टर से अपनी बेटी का ब्याह कर देते। वे बच्चा गिरवा देना चाहते थे पर इसके लिए भी देर हो गई थी।

एक मात्र रास्ता यही था कि गुपचुप तरीके से घर में डिलीवरी करवाई जाए और बच्चा होते ही उसे गला घोंटकर मार दिया जाए। घर की और बेटी की इज्जत बचाने के लिए एक नन्ही जान को दाँव पर लगाना ज्यादा बड़ी कीमत नहीं है।

पेट को लाख छिपा लिया गया था पर आग से उठते धुएँ को कोई लाख चाहकर भी छिपा नहीं सकता। लपटें बाहर दिखे न दिखे आकाश में फैला धुंधलका सच बयान कर ही देता है।
यहाँ भी ऐसा ही थी। हर कोई दबी चुबान में चटर्जी खानदान की बड़ी सी कोठी के पीछे होती छोटी-छोटी बातों को अपने अंदाज से बताने का प्रयास करता था।

न जाने कितना झूठ था और कितना सच पर यह सच था कि चटर्जी बाबू ने अपने ही नाती या नातिन की हत्या की थी। उसके बाद आनन-फानन में रागेश्वरी की शादी एक ठिगने आदमी के साथ कर दी थी। हाँ, वह लड़का नहीं था, आदमी ही था, देखने में लगता था जैसे डॉक्टर चटर्जी से कुछ वर्ष ही छोटा हो।

मैं रागेश्वरी से उस दौर में नफरत करने लगा था इसलिए उस नाटे-ठिगने बेहुदे आदमी से मुझे कुछ लेना-देना नहीं था। एक बार फिर उसकी यादें ताजा हो आई थी क्योंकि रागेश्वरी के भाई रोमन की शादी थी। रोमन के ही छोटे भाई मोंटू से इन दिनों मेरी अच्छी दोस्ती हो गई थी। मोंटू चाहता था कि मैं उसके साथ शादी में जलपाईगुड़ी जाऊँ।

मैंने आज तक किसी बंगाली शादी को इतने करीब से नहीं देखा था। मैं बारात में जाना चाहता था पर बाबा मुझे इसकी इजाजत देंगे इसके चांस बहुत कम थे। वैसे आजकल बाबा अधिक दखलअंदाजी नहीं करते थे। मोंटू खुद घर आकर शादी का न्यौता देकर था, साथ ही बाबा औऱ माँ को भरोसा भी देकर गया था कि वहाँ मेरे खाने पीने की सारी व्यवस्था अलग से की जाएगी, यहाँ तक कि वहाँ इस बारे में जानकारी दे दी गई है कि उनके साथ एक मारवाड़ी लड़का आ रहा है।

बाबा ने एक दिन सोचने का समय लिया था औऱ फिर जाने की इजाजत दे दी थी। आखिर देते भी क्यों नहीं, मोंटू के बाबा का समाज में अच्छा नाम था। खासकर बंगाली समाज में तो उनकी तू ती बोलती थी। मेरे उस परिवार के साथ बढ़ती घनिष्ठता का उन्हें कालांतर में किसी न किसी तरह फायदा हो ही सकता था।

एक बार फिर रागेश्वरी का चेहरा आँखों के आगे तैर आया था। वह किसी और की हो गई थी किंतु उनकी खूबसूरती एख बार फिर दिलोदिमाग पर छाने लगी थी। न जाने अब कैसी लगती होगी। उसने कुछ भी किया हो, आज तो उसे देखकर अपनी आँखों को तृप्त कर ही सकता हूँ।
पूरी रात उसके ख्यालों में ही बीत गई थी। कल उसके साथ एक ही बस में बैठकर जलपाईगुड़ी तक की यात्रा करनी थी इसलिए मन रोमांचित था पर साथ में उसके पति के भी होने का अहसास मन में वितृष्णा ला रहा था….

न जाने आज का दिन कैसा जाने वाला था……मैं खुद का अक्श उस गिलास में देखकर इतरा रहा था जिससे पानी पी रहा था। मुझ जैसे हसीन बाँके नौजवान की जगह ठिगने मोटे की जीवनसंगिनी बनकर रागेश्वरी ने अपने ही पैर पर तो कुल्हाड़ी मारी थी…..
अब कुछ नहीं हो सकता था….उसे वैसे ही जीना था और मुझे मेरी तरह ही…

RELATED ARTICLES

मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-12 “बबिता कोमल की कलम से”

मैं कितना स्पेशल था, मेरे लिए जलपाईगुड़ी टेलिग्राम भेजा गया था। कभी-कभी लीक से अलग होने के कितने फायदे होते हैं। आपके लिए सब...

मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-10 “बबिता कोमल की कलम से”

डायरी लिखने का मन तब होता है जब मन अशांत हो। मन की शांति किसी डायरी और किसी मित्र की याद नहीं दिलाती। मैं अभी...

मानस की डायरी….. कहानी संग्रह का भाग-9 “बबिता कोमल की कलम से”

“कठे हांडरा हा पूरअ दिन, कोई टेम है औ त्यौहार नअ घरा आबो को....(दिन भर कहाँ थे, क्या यह कोई समय है त्यौहार के...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

उत्तराखंड में 4 अगस्त तक बढ़ा कोविड कर्फ्यू, स्पा और सैलून के साथ खुलेंगे ये संस्थान, नाइट कर्फ्यू अभी रहेगा बरकरार

देहरादून। उत्तराखंड सरकार ने कुछ और रियायतों के साथ प्रदेश में कोविड कर्फ्यू को मंगलवार सुबह छह बजे से चार अगस्त सुबह छह बजे...

उत्तराखंड में पुलिस ग्रेड पे पर बोले सीएम धामी, सरकार ने स्वयं की पहल, सीएम आवास के मिथक पर कही ये बड़ी बात

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी पूजा-पाठ के बाद सरकारी आवास में शिफ्ट हो गए हैं। इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में...

सीएम के चेहरे पर बोले प्रीतम, क्या मेरा चेहरा बुरा है…? कांग्रेस आलाकमान ने चुनाव में कोई चेहरा घोषित नहीं किया, सत्ता में...

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा के नवनियुक्त नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह सोमवार को सुबह 11 बजे विधानसभा भवन में विधिवत रूप से पदभार ग्रहण कर लिया...

उद्योग मंत्री गणेश जोशी ने दिए नवनियुक्त उद्योग सचिव राधिका झा को औद्योगिक विकास में तेजी लाने के निर्देश

देहरादून। आज नवनियुक सचिव, उद्योगिक विकास, लघु, सूक्ष्म, एवं मध्यम उद्यम, खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग राधिका झा ने कैंप कार्यालय में कैबिनेट मंत्री गणेश...

उत्तर प्रदेश:लखनऊ-योगी मुख्यमंत्री पद के लिए पहली पसंद

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,उत्तर प्रदेश:लखनऊ। स्वतंत्र एजेंसी मैटराइज न्यूज ने प्रदेश के 75 ज़िलों में करवाए गए सर्वे में दावा किया है कि...

नई दिल्ली:वैज्ञानिकों की गंभीर चेतावनी, महाविनाश रोकने के लिए लेना होगा एक्शन

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,नई दिल्ली: वैज्ञानिकों ने एक चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि विश्व में चार ऐसे देश हैं, जो दुनिया...

नई दिल्ली:एम्‍स ने दिया बड़ा बयान,जल्द शुरू होगा बच्चो का टिकाकरण,

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,नई दिल्ली: दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने राहतभरी खबर दी है। उन्होंने...

शिलान्यास सहित जो घोषणाएं की गई है उनको प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण किया जाएगा- सीएम पुष्कर सिंह धामी

मुख्यमंत्री ने सुनी आम जन सहित विभिन्न संगठनों की समस्यायें। शिलान्यास सहित जो घोषणाएं की गई है उनको प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण किया जाएगा-...

डीएम देहरादून ने किया स्मार्ट सिटी के कार्यों का निरीक्षण, सड़को पर गड्ढे मे जलभराव को लेकर जताई नाराजगी

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आर राजेश कुमार ने देहरादून स्मार्ट सिटी में हो रहे कार्यों का अपने स्थलीय निरीक्षण के दौरान आज सर्वे चैक से...

मीराबाई चानू के सिल्वर मेडल जीतते ही खुशी से झूमा देश, “भारत के झंडे को आप पर गर्व है मीरा”, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम...

देहरादून। मीराबाई चानू ने ये कमाल 49 किलोग्राम भारवर्ग की महिला वेटलिफ्टिंग में किया है। स्नैच राउंड में मीराबाई चानू सभी महिला वेटलिफ्टर्स के...

उत्तराखंड में अपग्रेड होंगे 158 आयुर्वेदिक अस्पताल, तीसरी लहर से निपटने को मजबूत होंगी सुविधाएं

देहरादून। कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए इससे निबटने के लिए ग्रामीण और सुदूरवर्ती क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार को प्रभावी...

ट्रांसफर-पोस्टिंग को लेकर उत्तराखंड सरकार के शासनादेश से हुआ बड़ा खुलासा, राजनीतिक दबाव बनाते हैं अधिकारी…

देहरादून। उत्तराखंड में ट्रांसफर और पोस्टिंग के लिए भारतीय प्रशासनिक सेवा के कतिपय अधिकारी राजनीतिक दबाव बना रहे हैं। प्रदेश सरकार ने आईएएस अफसरों...

उत्तराखंड: रुद्रपुर में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का रोड शो, कार्यकर्ताओं में दिखा उत्साह, किसानों ने किया प्रदर्शन

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी शुक्रवार से ऊधमसिंह नगर जिले के दौरे पर हैं। शक्रवार को जब मुख्यमंत्री रुद्रपुर पहुंचे तो किसानों ने उनके दौरे...

आतंकी साजिश नाकाम: जम्मू-कश्मीर में पुलिस ने मार गिराया ड्रोन, पांच किलो आईईडी बरामद

जम्मू-कश्मीर के कनाचक इलाके में पुलिस ने एक पाकिस्तानी ड्रोन को मार गिराया है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक इस ड्रोन के गिरने पर...

“मिशन 2022” के लिए उत्तराखंड कांग्रेस की नई टीम फाइनल, पंजाब फार्मूला उत्तराखंड में भी हुआ लागू

देहरादून। खबर आ रही है कि उत्तराखंड कांग्रेस की नई टीम के के नामों का ऐलान कल होगा। इस टीम में जिन नामों और...