India Times Group

बिना दवाइयों के भी दूर किया जा सकता हैं दांतों का दर्द, आजमाए ये 10 घरेलू उपाय

 

दांत हमारे शरीर का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं जो भोजन को सही तरीके से चबाने का काम करते हैं। लेकिन दांतों को ठीक से ब्रश न करना या नियमित समय अंतराल में सोने से पहले मीठा खाना और मुंह को न धोना जैसी साधारण गलतियों की वजह से दांतों को नुकसान पहुंचता हैं। दांतों में आई किसी भी प्रकार की समस्या दिखने में आम होती हैं, लेकिन इसके दीर्घगामी परिणाम बहुत गंभीर हो सकते हैं। मसूड़ों में सूजन, दांतों में कमजोरी और सडऩ जैसी कई समस्याओं के कारण दांतों में दर्द हो सकता है। दांत में उठा दर्द बढऩे पर बहुत तकलीफदायक हो सकता हैं। लेकिन जरूरी नहीं हैं कि दांतों का दर्द दूर करने के लिए दवाइयों का सेवन किया जाए। आज इस कड़ी में हम आपको कुछ ऐसे घरेलू उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनकी मदद से बिना दवाइयों के भी दांतों का दर्द दूर किया जा सकता हैं। आइये जानते हैं इनके बारे में...

नमक पानी के गरारे
दांतों के दर्द को दूर करने के लिए नमक पानी के गरारे को बहुत ही असरदार घरेलू उपाय माना जाता रहा है। गुनगुने पानी में नमक मिलाकर उससे कुल्ला करने से दांतों के दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है। नमक का पानी प्राकृतिक रूप से कीटाणुनाशक होता है जो दांतों के बीच फंसे खाद्य अवशेषों को निकालने और उसके कारण होने वाले दर्द को कम करने में काफी मददगार हो सकता है। नमक के पानी से कुल्ला करने से मसूड़ों के सूजन के कारण होने वाले दर्द में भी राहत मिलती है।

आइस पैक का ठंडा सेंक
अगर आपका चेहरा सूज गया है, तो पहले 24-36 घंटों के लिए अपने गाल पर आइस पैक लगाएं। यह दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। अगर आपके दांत का कोई हिस्सा टूट गया है या ढीला हो गया है, तो आपके मसूड़ों में सूजन के साथ तेज दर्द हो सकता है। सूजन का मतलब यह भी हो सकता है कि आपके दांत की जड़ों में फोड़ा, मवाद या गंदगी हो।

लौंग का तेल
दांत में दर्द होने पर लौंग काफी असरदायक मानी गई है। यह घरेलू इलाज है, जो कई लोग करते हैं। दांत के दर्द को कम करने के लिए या सूजन को हटाने के लिए लौंग का तेल रुई में डुबाकर इसे जहां दर्द या सूजन हो वहां रखें, आपको कुछ ही देर में आराम मिल जाएगा। लौंग के तेल में एंटी-फंगल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं जो बैक्टीरिया को दूर करने में कारगर हैं।

लहसुन
लहसुन आसानी से घरों में उपलब्ध होता है। लहसुन में मौजूद एलिसिन मुंह के अंदर बैक्टीरिया को खत्म करने में कारगर होता है। बैक्टीरिया के कारण मुंह में कैविटी का खतरा बढ़ जाता है और दातों में तेज दर्द हो सकता है। दर्द होने पर लहसुन की एक कली लेकर दांत में दबा लें उससे राहत मिल सकती है।

सरसों का तेल
सरसों का तेल लगभग हर घर में खाना पकाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। दांत दर्द में राहत पाने के लिए लंबे समय से इसका इस्तेमाल होता आया है। इसके लिए तेल में चुटकी भर नमक मिक्स कर मसूढ़ों की मालिश करने से दांतों के दर्द से राहत पाई जा सकती है।

अमरूद के पत्ते
अमरूद एक ऐसा फल है जिसे स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। साथ ही इसकी पत्तियां भी गुणों से भरपूर होती हैं। दांत दर्द में अमरूद की ताजी पत्तियां चबाने से दर्द में आराम मिल सकता है।

नींबू
नींबू को स्वाद और सेहत दोनों के लिए खूब इस्तेमाल किया जाता है। ये विटामिन सी से भरपूर होता है और दांत दर्द में राहत पहुंचा सकता है। इसके लिए आपको दांत के दर्द वाली जगह पर नींबू का एक टुकड़ा लगाना है, इससे दर्द कम किया जा सकता है।

नीम
नीम को उसके एंटी-बैक्टीरियल गुणों के लिए जाना जाता है। यह दांतों की सडऩ के साथ प्लाक को भी दूर करती है। आज भी ऐसे कई लोग हैं जो नीम से बनी दातुन का इस्तेमाल करते हैं। आप नीम के तेल को दांतों की सडऩ से छुटकारा पाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं, साथ ही नीम की दातुन से दांतों को साफ भी किया जा सकता है।

पिपरमिंट
पिपरमिंट एंटीबैक्टीरियल और एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है। इसमें मौजूद मेन्थॉल सेंसिटिव हिस्से को कुछ समय के लिए सुन्न कर देता है जिससे दर्द में आराम मिलता है। दर्द होने पर पिपरमिंट टी पी सकते हैं।

वेनीला अर्क
वेनिला अर्क में अल्कोहल होता है। शराब थोड़ी देर के लिए दर्द वाली जगह को सुन्न कर देगी, और वेनिला में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट इसे ठीक करने में मदद करते हैं। अपने दर्द वाले दांत और मसूड़े पर इसे थोड़ी मात्रा में लगाने के लिए अपनी उंगली या कॉटन बॉल का इस्तेमाल करें।