India Times Group
उत्तराखंड के पहाड़ों में दूर होगी डॉक्टरों की कमी, 245 एमबीबीएस डॉक्टर मिले, जानिए कहां मिली तैनाती
 

देहरादून । उत्तराखंड के पर्वतीय जिले डॉक्टरों की कमी से जूझ रहे हैं। लंबे समय से डॉक्टरों की मांग करने वाले स्थानीय लोगों की मांग पूरी होने जा रही है। राज्य के तीन राजकीय मेडिकल कॉलेजों से पासआउट 245 एमबीबीएस डॉक्टरों को सरकार ने दुर्गम क्षेत्रों में तैनाती दे दी है। शनिवार को स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ.शैलजा भट्ट ने बांड व्यवस्था के अनुसार नए डॉक्टरों के तैनाती आदेश जारी कर दिए हैं, इससे पर्वतीय क्षेत्रों के सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों की कमी से राहत मिलेगी।

राजकीय मेडिकल कालेज देहरादून से 134, हल्द्वानी से 102 और श्रीनगर गढ़वाल से नौ पासआउट एमबीबीएस डॉक्टरों को बांडधारी व्यवस्था के तहत संविदा पर दुर्गम क्षेत्रों में खाली पदों पर तैनात किया गया है। बॉन्डधारी डॉक्टरों को इंटर्नशिप समाप्त होने की तारीख से 20 दिन के भीतर तैनानी स्थल पर सेवाएं देनी होंगी। मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को संबंधित बॉन्डधारी डॉक्टर के तैनाती स्थान पर योगदान देने की रिपोर्ट निदेशालय को भेजी जाएगी। तैनाती स्थल पर ड्यूटी न देने वाले डॉक्टरों से एकमुश्त राशि हर्जाने के रूप में वसूल कर सरकारी कोष में जमा की जाएगी।

स्वास्थ्य मंत्री डॉ.धन सिंह रावत ने कहा प्रदेश में स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को मजबूत करने के लिए सरकार लगातार प्रयासरत है। राजकीय मेडिकल कॉलेजों से पासआउट 245 डॉक्टरों को बॉन्डधारी व्यवस्था के तहत दुर्गम क्षेत्रों में तैनात किया गया है। साथ ही इनमें से कुछ डॉक्टरों को चारधाम यात्रा मार्ग पर पड़ने वाले अस्पतालों में तैनाती दी गई है।