India Times Group
छोटे बच्चों की त्वचा को स्वस्थ बनाने के लिए अपनाएं ये सुरक्षित तरीक
 

ज्यादातर लोग डिलीवरी से पहले ही बच्चे की त्वचा को स्वस्थ बनाने के नुस्खे खोजने लगते हैं। हालांकि, डॉक्टरी सलाह के बिना उनकी त्वचा पर कुछ नहीं लगाना चाहिए। वहीं, कई लोग शुरुआती दिनों से ही बच्चे की त्वचा की देखभाल करना शुरू कर देते हैं ताकि उन्हें आजीवन निखरी त्वचा प्रदान हो। आइए आज हम आपको पांच ऐसे टिप्स देते हैं, जिन्हें अपनाकर आप अपने बच्चे की त्वचा को सुरक्षित तरीके से स्वस्थ और चमकदार बनाए रख सकते हैं।

हल्के गर्म तेल से मालिश करें
तेल मालिश एक ऐसा सुरक्षित तरीका है, जिसे अपनाकर आप अपने बच्चे की त्वचा को स्वस्थ और चमकदार बना सकते हैं। हल्के गर्म जैतून के तेल, नारियल के तेल या बादाम के तेल से मालिश करना बच्चे की त्वचा के लिए बहुत अच्छा होता है। ये तेल बच्चे की त्वचा को गहराई से मॉइश्चराइज देने में मदद कर सकते हैं। हालांकि, मालिश करते समय अपने हाथों को बच्चे की त्वचा पर धीरे-धीरे हल्के से फिराएं।

नहलाने के लिए सही तापमान वाले पानी का इस्तेमाल करें
विशेषज्ञों के अनुसार, आप अपने बच्चे को नहलाने के लिए जिस पानी का इस्तेमाल करते हैं, उसका तापमान उसकी त्वचा की स्थिति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ध्यान रहे कि पानी न ज्यादा ठंडा होना चाहिए और न ही गर्म। अत्यधिक तापमान वाला पानी बच्चे की त्वचा पर सूखापन और सुस्ती पैदा कर सकता है और आपके बच्चे की नाजुक त्वचा की बनावट को नुकसान पहुंचा सकता है। इसलिए बच्चे को ऐसे पानी से नहलाएं, जिससे उसे असुविधा न हो।

साबुन का इस्तेमाल न करें
बाल चिकित्सकों की सलाह है कि बच्चे की त्वचा पर हार्श साबुन का इस्तेमाल न करें। इससे उनकी त्वचा को बहुत नुकसान पहुंच सकता है। दरअसल, साबुन कठोर और केमिकल्स से युक्त होते हैं, जो आपके बच्चे की त्वचा को शुष्क और सुस्त बना देते हैं। साबुन की बजाय प्राकृतिक त्वचा क्लींजर जैसे बेसन का इस्तेमाल करें, जो बच्चे की त्वचा की बनावट को खूबसूरत बनाता है।

मॉइश्चराइज जरूर करें
बच्चे को नहलाने के बाद उसकी त्वचा को मॉइश्चराइज जरूर करें। मॉइश्चराइजर लगाने से बच्चे को रूखेपन, जलन और रैशेज जैसी दिक्कतों से आराम मिलेगा। हालांकि, उसके लिए ऐसा मॉइश्चराइजर चुनें, जो खासतौर से बच्चे की संवेदनशील त्वचा को देखते हुए बनाए गया हो और उनकी त्वचा को हाइड्रेट करने के साथ-साथ सुरक्षा भी प्रदान करे। बच्चे की त्वचा पर दिन में दो-तीन बार प्राकृतिक सामग्रियों से युक्त मॉइश्चराइजर लगाना फायदेमंद रहता है।

बच्चे को हाइड्रेट रखें
डिहाइड्रेशन की समस्या भी बच्चे की संवेदनशील त्वचा को रूखा बना सकती है। इसलिए उसको इस समस्या से बचाकर रखना बहुत जरूरी है। इसके लिए मां उनकी मांग के अनुसार उन्हें दूध पिलाती रहें। इससे बच्चों को उचित तरीके से हाइड्रेट रखने में मदद मिलेगी। अगर बच्चा एक या दो साल का है तो उसे पानी के साथ-साथ फलों का रस, छाछ या फिर मिल्कशेक जैसे पेय पदार्थों का सेवन कराएं।