India Times Group
क्या आपको भी रहती हैं बदन दर्द की समस्या, इसके पीछे छुपे होते हैं ये कारण
 

देखा जाता हैं कि पूरे दिन काम करने के बाद लोगों को बदन दर्द की परेशानी का सामना करना पड़ता हैं जो कि स्वाभाविक हैं। लेकिन कई बार ऐसा होता हैं कि आपको बिना किसी शारीरिक श्रम के भी बदन दर्द की समस्या का सामना करना पड़ जाता हैं। ऐसे में लोग बेधडक़ बिना सोचे-समझे पेनकिलर का सेवन करते नजर आते हैं जो कि सेहत के लिए खतरनाक साबित हो सकता हैं। ऐसे में आपको सबसे पहले जरूरत होती हैं यह जानने की कि आखिर बदन दर्द की समस्या के पीछे का कारण क्या हैं और फिर उसके अनुरूप इसका इलाज किया जाना चाहिए। आज हम आपको उन छुपे रहस्यों के बारे में बताने जा रहे हैं जो बदन दर्द का कारण बनते हैं। आइये जानते हैं...

नींद की कमी
आपको हर रात कम से कम 6 से 8 घंटे की नींद की जरूरत होती है। सोते समय, शरीर अपने ऊर्जा संसाधनों को पुन: उत्पन्न करता है जिससे आपको अगले दिन तरोताजा महसूस हो पाता है। नींद की कमी आवश्यक ऊर्जा की पूर्ति में रूकावट पैदा कर सकती है। जिसके वजह से आप बॉडी पेन का अनुभव कर सकते हैं।

डिहाइड्रेशन
डिहाइड्रेशन यानी शरीर में पानी की कमी। शरीर में पानी की कमी भी शरीर में दर्द का कारण बन सकता है। डिहाइड्रेशन की वजह से शरीर श्वास और पाचन सहित कई प्रक्रियाओं को ठीक से नहीं कर पाता है, इससे शारीरिक दर्द महसूस हो सकता है। पीला पेशाब, चक्कर आना, थकावट और बार-बार प्यास लगना डिहाइड्रेशन के लक्षण होते हैं। डायरिया की स्थिति शरीर में दर्द पैदा कर सकती है, क्योंकि डायरिया की वजह से भी शरीर में पानी की कमी हो जाती है।

खून में आयरन की कमी
रक्त में आयरन की कमी को एनीमिया कहते हैं। जब रक्त में आयरन की कमी हो जाती है तब शरीर को इस अवस्था का सामना करना पड़ता हैं। इसके कमी से शरीर को ऑक्सीजन और पौष्टिकता की प्राप्ति कम हो पाती है जिसके कारण शरीर को थकान और दर्द का अनुभव होता है।

तनाव लेने से होता है बॉडी पेन
शरीर में दर्द का एक प्रमुख कारण तनाव है। तनाव सीधे तौर पर हमारी जीवनशैली को प्रभावित करता है। तनाव शरीर में उच्च हृदय गति, रक्तचाप में वृद्धि और सिरदर्द पैदा कर सकता है। तनाव की वजह से कंधे, पैरों और कमर की मांसपेशियों में दर्द का अहसास हो सकता है। इसलिए इससे बचना चाहिए।

विटामिन डी की कमी
यह एक वसा में घुलनशील विटामिन है जो हड्डी के निर्माण के लिए महत्वपूर्ण हैं। इसके अलावा, विटामिन डी कैंसर कोशिका वृद्धि को कम करने, संक्रमण को नियंत्रित करने और सूजन को कम करने में मदद कर सकता है। ऐसे में विटामिन डी का निम्न स्तर शरीर में लगातार और क्रोनिक दर्द का कारण बन सकता है।

गठिया है बदन में दर्द की वजह
गठिया की गंभीरता एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति और यहां तक कि दिन-प्रतिदिन भिन्न होती है। कुछ लोगों में केवल कुछ जोड़ प्रभावित होते हैं। वहीं, अन्य लोगों में संपूर्ण शरीर प्रणाली प्रभावित हो सकती है। यही कारण है कि गठिया या जोड़ों की सूजन भी दर्द और दर्द का कारण बन सकती है।

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम
क्रोनिक थकान सिंड्रोम में शारीरिक या मानसिक गतिविधि के साथ लक्षण अक्सर खराब हो जाते हैं। गंभीर थकान के अलावा, लक्षणों में हल्की संवेदनशीलता, सिरदर्द, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, ध्यान केंद्रित करने में परेशानी, मिजाज और अवसाद शामिल हैं।

फ्लू और अन्य संक्रमण
फ्लू हमारे शरीर में बुखार का कारण बनता है। इससे हमारे पीठ, पैरों और बाहों की मांसपेशियों में दर्द का अहसास हो सकता है।