गाडी चाहे नई हो या पुरानी, आप ले सकते हैं VIP नंबर, जानिये क्या करना होगा

नई दिल्ली, ब्यूरो | जब कभी भी हम नई गाडी खरीदते हैं तो उसके रजिश्ट्रेशन के बाद आपके वाहन को नया नंबर मिलता है। ये तो हो गयी नई बात लेकिन जो पुरानी गाड़ी थी उसके नंबर का क्या ? अब लोगों को बताने में या खुद याद करने में ही आपको समय लगा होगा कि मेरी गाड़ी का नंबर क्या है। अब ऐसे में नई गाड़ी खरीदो, और फिर से नया नंबर लो ये भी समस्या है। अब सरकार ने इस समस्या का एक बहुत ही आसान हल निकाला है। सरकार उत्तर प्रदेश के नॉएडा से वाहन नंबर की पोर्टिबिलिटी की योजना प्रारम्भ करने जा रही है। इस योजना के अंतर्गत आप अपने पुराने नंबर पर ही नई गाडी खरीद सकते हैं। यदि नये वाहन पर पुराना नंबर चाहिए हो तो उसमें फीस निर्धारित की गयी है। चार पहिया वाहन है तो 50000 और दो पहिया वाहन है तो 20000 रुपया। साथ ही अगर वाहन पुराना है तो फिर केवल रजिस्ट्रेशन फीस में ही आपका कम बन जाएगा।

Loading...

नंबर पोर्टेबिलिटी के लिए उत्तर प्रदेश परिवहन विभाग ने दो शर्तें रखी हैं। इसमें पहली ये है कि अगर किसी पुराने वाहन का नंबर नए पर लेना है तो उसका रजिस्ट्रेशन कम से कम तीन साल तक वाहन मालिक के नाम रहा होना चाहिए और दूसरी शर्त यह है कि जिस नाम से पुराना वाहन रजिस्टर्ड है उसी नाम से ही नए वाहन का रजिस्ट्रेशन होना चाहिए। इसी के बाद ही नंबर पोर्टेबिलिटी सर्विस का लाभ उठा सकेंगे। इसके अलावा VIP नंबर लेने के लिए नीलामी में शामिल होने पर एक लाख रुपये चुकाने होंगे। इसके बाद अगर कोई बोली लगाता है, तो रकम ज्यादा बढ़ाई जा सकती है। हालांकि, दिलचस्प बात यह है कि पुराने वाहन के नंबर को नए वाहन पर लेने के लिए फीस काफी कम रखी गई है और नीलामी के दौरान पुराना नंबर सस्ता पड़ जाएगा।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *