कश्मीर के तनाव में भी अहम भूमिका निभाती यह दो महिला अधिकारी

जम्मू-कश्मीर। 2013 बैच की आईएएस अधिकारी डॉक्टर सैयद सहरीश असगर की नियुक्ति जम्मू-कश्मीर प्रशासन में सूचना निदेशक के पद पर हुई है। कश्मीर में धारा 370 हटने और राज्य के विभाजन के बाद अब उनका काम क्राइसिस मैनेजमेंट का हो गया और उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि उनकी नई जिम्मेदारी कश्मीर घाटी में अपने प्रियजनों से हजारों किलोमीटर दूर बैठे लोगों की उनसे फोन पर बात कराने या उन्हें डॉक्टरों से मिलवाने की भी होगी, पिछले आठ दिनों से वह लोगों की परेशानियों को हल कर रही हैं।

श्रीनगर में पीडी नित्या 2016 बैच की आईपीएस अधिकारी हैं, उनकी जिम्मेदारी राम मुंशी बाग और हनव दागजी गांव के क्षेत्रों को देखने की है। 40 किलोमीटर के इस संवेदनशील क्षेत्र में न केवल डल झील का क्षेत्र और राज्यपाल का आवास आता है बल्कि यहां की इमारतों में वीआईपी लोगों को हिरासत में रखा गया।

बता दें कि असगर और नित्या यह दोनों ही महिला अधिकारी हैं जो इस समय घाटी में तैनात हैं। बाकी महिला अधिकारियों को या तो जम्मू में या लद्दाख में तैनात किया गया है। असगर एक साल के बेटे की मां हैं, उनके पास एबीबीएस की डिग्री है और वह जम्मू में प्रैक्टिस कर चुकी हैं लेकिन अपनी प्रैक्टिस छोड़कर उन्होंने आईएएस की परीक्षा दी थी।

Loading...

सहरीश असगर कहती हैं कि एक डॉक्टर होने के नाते मैं मरीजों का इलाज कर रही थी, लेकिन आज घाटी की चुनौतियां अलग हैं। इसमें कड़ाई और नरमी एक साथ चाहिए। उनके पति पुलवामा जैसे संवेदनशील क्षेत्र के कमिश्नर हैं। मुझे खुशी होगी अगर महिलाएं समाज में बदलाव ला पाएंगी।

छत्तीसगढ़ की रहने वाली 28 साल की नित्या के लिए कई बार चुनौतियां बढ़ जाती हैं। इससे पहले वह एक सीमेंट कंपनी में प्रबंधक के तौर पर कार्य करती थीं। नेहरू पार्क के उप-विभागीय पुलिस अधिकारी नित्या ने कहा कि नागरिकों को सुरक्षित करने के अलावा मुझे वीवीआइपी लोगों की सुरक्षा की देखरेख करनी होती है। यह छत्तीसगढ़ की मेरी जिंदगी से काफी अलग है।

उन्हें कई बार गुस्साए लोगों का सामना करना पड़ता है। जिसमें रिटेल व्यापारी से लेकर निजी स्कूल के अध्यापक तक शामिल होते हैं। वह एक केमिकल इंजीनियर हैं वह हिंदी और कश्मीरी भषा बहुत अच्छी परह बोल सकती हैं, इसके अलावा उन्हें तेलुगू बोली भी अच्छी तरह आती हैं।उन्होंने कहा मैं छत्तीसगढ़ के दुर्ग से हूं जहां हमेशा शांतिपूर्ण माहौल रहता है। लेकिन मुझे चुनौतियां पसंद हैं।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *