India Times Group
नए एफ-35 लड़ाकू विमान पर अमेरिका ने लगाई रोक, इंजन पार्ट में लगा था ‘मेड इन चाइना’ मेटल
 

वॉशिंगटन। अमेरिका ने नए एफ-35 लड़ाकू विमान लेने से मना कर दिया है। यह इसलिए क्योंकि इसके इंजन पार्ट में चाइनिज मटेरियल का इस्तेमाल किया गया था। एयरक्राफ्ट मेकर लॉकहीड मार्टिन ने इस बात की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि लड़ाकू विमान के इंजन में जिस मैग्नेट का इस्तेमाल किया गया था, वो ‘मेड इन चाइना’ था। इसके बाद पेंटागन ने इस पर रोक लगा दी।

डिफेंस कॉन्ट्रैक्ट मैनेजमेंट एजेंसी ने 19 अगस्त को एफ-35 जॉइंट प्रोग्राम ऑफिस को सूचित किया था कि एफ -35 के टर्बोमशीन में इस्तेमाल होने वाले मेटल का उत्पादन चीन में किया गया था। कार्यालय के प्रवक्ता रसेल गोमेरे ने द हिल को इसकी जानकारी दी। गोमेरे ने कहा कि रक्षा नियमों को ध्यान में रखते हुए प्रोग्राम ऑफिस ने नए एफ -35 लड़ाकू विमान की स्वीकृति पर अस्थायी रूप से रोक लगा दिया। बता दें कि लॉकहीड विमान बनाता है, टर्बोमशीन हनीवेल का प्रोडक्ट है।

बयान में कहा गया है कि सावधानी की वजह से इसकी डिलीवरी पर अस्थायी रूप से रोक लगा दी गई है। मैग्नेट संवेदनशील कार्यक्रम की जानकारी के लिए कोई एक्सेस प्रदान नहीं करता है और वर्तमान में उपयोग में आने वाले एफ-35 के लिए कोई सुरक्षा समस्या नहीं है. एफ-35 ज्वाइंट प्रोग्राम ऑफिस ने भी पुष्टि की कि यह हिस्सा पांचवीं पीढ़ी के लड़ाकू विमानों के उड़ान संचालन को प्रभावित नहीं करता है, जो पहले से ही सेवा में हैं।