भारतीय वायुसेना को आज मिलेंगे चार चिनूक हेलीकॉप्टर, जानते हैं क्या है इसकी खासियत

भारतीय वायुसेना के बेड़े में आज 4 ‘चिनूक हेलीकॉप्टर’ शामिल हो रहे हैं। यह हेलीकॉप्टर अमेरिकी कंपनी बोइंग द्वारा बनाए गए। भारत ने अमेरिका से ऐसे 15 चिनूक सीएच-47आई हेलीकॉप्टर ख़रीदे हैं जिनमें से 4 आज भारत की वायुसेना के बेड़े में शामिल हो जायेंगे और जल्द ही बाकी के भी शामिल होंगे। अमेरिका ने आतंकी सरगना ओसामा बिन लादेन को मारने के लिए जो मिशन चलाया था उसमे यह चिनूक हेलीकॉप्टर का अहम योगदान रहा है। जानते हैं क्या है इसकी खासियत:-

Loading...

चिनूक हेलीकॉप्टर में एकीकृत डिजिटल कॉकपिट मैनेजमेंट सिस्टम है। चिनूक में कॉमन एविएशन आर्किटेक्चर कॉकपिट और एडवांस्ड कॉकपिट जैसी विशेषताएं हैं। इस हेलिकॉप्टर में एक बार में गोला बारूद, हथियार के अलावा सैनिक भी जा सकते हैं। इसे रडार से पकड़ पाना मुश्किल है। यह भारी मशीनों, तोपों को उठाकर ले जा सकता है। 20000 फीट की ऊंचाई तक उड़ सकता है। यह 10 टन तक के वजन को उठाकर कहीं भी ले जा सकता है। यह 280 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ सकता है। इसकी ऊंचाई 18 फीट और चौड़ाई 16 फीट है।

इसे दो पायलट उड़ा सकते हैं। दुनिया के 26 देशों में इसका इस्तेमाल किया जाता है और इन देशों में अब भारत भी जुड़ गया है। वियतनाम युद्ध, लीबिया, ईरान, अफगानिस्तान समेत इराक में भी यह हेलीकॉप्टर बड़ी और निर्णायक भूमिका निभा चुका है। भारत में इसका विशेष उपयोग किया जाएगा।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *