रेलवे स्टेशन अधीक्षक कार्यालय में धरने पर महिला कर्मचारी

हरिद्वार रेलवे में कार्यरत बुकिंग क्लर्क एक महिला कर्मचारी ने विभागीय कर्मचारी नेता के उपर उत्पीड़न व अभद्र व्यवहार करने के गंभीर आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग पर महिला कर्मचारी ने स्टेशन अधीक्षक कार्यालय के आगे धरना देकर बैठ गई। धरने पर बैठी महिला कर्मचारी ने बताया कि वह बीस सालों से बुकिंग क्लर्क का काम करती आ रही है। निरीक्षण में भी उसका काम हमेशा अव्वल रहा। कुंभ जैसे मेलों में वह लाखों करोड़ों रूपया बैंक में जमा कराने जाती रही। अपने काम में उसने कभी कोई कमी नहीं की।

महिला कर्मी ने बताया कि उसकी ड्यूटी सुबह 9 से शाम 5 बजे तक रेगूलर रहती है। एक दिन उसे बताये बगैर अचानक उसकी ड्यूटी का समय सुबह 7 से रात 7 बजे तक कर दिया गया। उसने कर्मचारी नेता से रोस्टर दिखाने और डयूटी बदलाव के लिखित आदेश देने को कहा लेकिन उसे आज तक कोई लिखित आदेश नहीं दिए गए। बल्कि कर्मचारी नेता उसे अपनी नेतागिरी की धौंस दिखाकर अभद्र व्यवहार पर उतर आया है। आरोप लगाया कि वह न्याय मांगने के लिए रेलवे के सभी निचले अधिकारियों से मिली। लेकिन कर्मचारी नेता के आगे सभी बेबस नजर आ रहे है।

Loading...

मामला समाप्त करने और उसे मनाने के लिए उसकी डयूटी प्रतीक्षालय में लगा दी गई। उसका आरोप है कि सब मौखिक किया जा रहा है। कहीं कोई लिखित आदेश देने को तैयार नहीं है। लगातार हो रहे उत्पीड़न के खिलाफ उसे मजबूरन स्टेशन अधीक्षक कार्यालय के आगे धरना देना पड़ रहा है। इस पर स्टेशन अधीक्षक एमके सिंह का कहना है कि मामला मेरे संज्ञान में है, वरिष्ठ अधिकारियों को इस मामले की पूरी जानकारी दे दी गई है, आगे आने वाले आदेशानुसार कार्यवाही की जायेगी।

इस दौरान धरने पर बैठी महिला कर्मचारी को मनाने के लिए कई कर्मचारी आए। महिला कर्मी ने उन सभी से कहा कि आप लोग चुप क्यों है, कर्मचारी नेता जो करता है उसे सब को बताए। अधिकांश ने महिला को सही ठहराते हुए दबी जुबान में कर्मचारी नेता के व्यवहार को गलत बताया।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *