फील गुड संस्था ने जलाशय के निर्माण के साथ हरेला माह में लगाये हजारों पेड़, प्रकृति को दे रहे हैं संरक्षण

फीलगुड संस्था के संस्थापक सुधीर सुन्द्रीयाल ने जहॉ पहाड़ों कृषि बागवानी में अपना मुकाम हासिल किया ही है साथ ही वह प्रकृति के संरक्षण में अपनी टीम के साथ लगे हुये हैं। मई जून जुलाई के महीने में उन्होने जगह जगह जाकर, न केवल समाज को जगाया बल्कि खुद ही आगे आकर जलाशय का निर्माण किया, और गॉव गॉव, धार हर खाळ में जाकर हरेला के तहत हजारों पेड़ों को रोपा। वह पर्यावरण संरक्षण की मुहिम को लेकर आगे बढ रहे है।

इसी कड़ी में उन्होने बताया किजून-जुलाई के महीने अति ब्यस्ततम महीने रहे हैं। कई गांवों में, कई ग्रामोत्सवों में, अन्य मंचों के कई कार्यक्रमो में सहभाग का मौका मिला। ये दो महीने बहुत लोगों से मिलने और बहुत कुछ सीखने के थे। वृक्षारोपण और जल संरक्षण के बड़े बड़े कार्य जुलाई में चलते रहे जो अगस्त तक चलते रहेंगे। 28 जुलाई को कल्जीखाल ब्लाक के घंडियाल और सरोल गांव भर्मण कार्यक्रम था जिसमें श्री ओंकार नेगी जी और उनके गांव की जमीन में संभावित बागवानी के लिए धरातलीय अवलोकन किया गया जिसमें श्री ओंकार नेगी जी,  अन्नू पन्त जी, श्रीमती मीना जी, विजय नेगी जी आदि लोग थे।29 जुलाई को अपने गाँव डबरा में पुनः बड़ी इलायची और कुछ फलदार पेड़ लगाए गए।

30 जुलाई को समाजसेवी कवींद्र इस्टवाल जी,  श्री देवेश रावत आदमी जी, श्री सुनील चौहान जी के साथ चौंदकोट युवा मोर्चा नौगांवखाल द्वारा  आयोजित भंडारा और वृक्षारोपण में भाग लिया। इसी दिन हम सब लोग दो अन्य गांवों रणस्वा और धरासू के कार्यक्रमों में भाग लेने पहुंचे। ततपश्चात रात्रिविश्राम ग्राम डबरा में हुआ।

Loading...

31 जुलाई को हम लोग गवाणी पहुंचे। हम लोग अन्य जगहों वृक्षारोपण कर चुके थे लेकिन फीलगुड नॉलेज एंड इंफॉर्मेशन सेंटर छूट गया था। इसलिए 31 जुलाई का वृक्षारोपण कार्य गवाणी सेंटर , सरस्वती शिशु मंदिर गवाणी, और कन्या जूनियर हाई स्कूल गवाणी में किया गया। इस कार्यक्रम में भी सर्व श्री कवीन्द्र इस्टवाल जी,  देवेश रावत आदमी जी, जय प्रकाश नवानी, सुधीर सुन्दरियाल , सुनील चौहान जी, विनोद गौनियाल जी, कन्या जूनियर हाई स्कूल के श्री बीरेंद्र रावत जी स्कूल बच्चों सहित, श्री रघुवीर सिंह जी अपने शिशुमंदिर के बच्चों सहित, दिब्या बुड़ाकोटी, नेहा बुड़ाकोटी, कमल सिंह रावत, मुकेश ढोंडियाल, प्रदीप ढोंडियाल,  आदि सब लोगों ने वृक्षारोपण किया और बाद में जलपान किया।

1 अगस्त को ग्राम धरासू में फीलगुड एक्स्ट्रा एक्टिविटी क्लॉस शुरू करने के लिए एक गोष्ठि का आयोजन किया गया जिसमें ग्राम प्रधान धरासू, मातृशक्ति धरासू, मैं सुधीर सुन्दरियाल, कवीन्द्र इस्टवाल जी, देवेश आदमी जी, सुनील चौहान जी, मुकेश ढोंडियाल जी, और गाँव के अन्य सदस्य शामिल थे। इस गांव में एक्स्ट्रा एक्टिविटी क्लॉस जो ऊना के सहयोग से होती हैं उसको शिक्षा संचालक के रूप में तमन्ना नेगी लेंगी।

यह बहुत बड़ा गांव है। यहां 65 से ज्यादा फौज से रिटायर्ड लोग हैं। इस गांव में अभी खेतीबाड़ी हो रही है। एक उचित मार्गदर्शन इस गांव में काफी कुछ करवा सकता है।  । कल 2 तारिख को भास्कर द्विवेदी जी और उनकी टीम के कार्यक्रम में शामिल हुआ जिसमें  रेशम उत्पादन के लिए 500 शहतूत के पेड़ लगाए गए।

Loading...

One thought on “फील गुड संस्था ने जलाशय के निर्माण के साथ हरेला माह में लगाये हजारों पेड़, प्रकृति को दे रहे हैं संरक्षण

  • 03/08/2019 at 3:48 PM
    Permalink

    बधाई। बहुत सुंदर और नेक कार्य के लिये आप सबको हार्दिक शुभकामनायें

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *