उत्तराखंडः रुड़की बॉर्डर पर कोरोना टेस्टिंग में अव्यवस्थाएं हावी, देखें फोटो

मंगलवार को 11 बजे तक कोई भी कर्मचारी कोविड सेंटर में नहीं पहुंचा था।

रुड़की। लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए उत्तराखंड सरकार ने बिना कोरोना टेस्ट के प्रदेश में बंद कर दियाए हैं। जिन लोगों के पास कोरोना टेस्ट रिपोर्ट नहीं है उनके लिए प्रदेश की सीमाओं पर टेस्टिंग की व्यवस्था की गई है। लेकिन हरिद्वार की ओर से उत्तराखंड आने वाले लोगों की हालत ख़राब हो जा रही है। नारसन बॉर्डर पर पहुंचने वाले लोगों को अव्यवस्थाओं के चलते भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। आगे तस्वीरों में देखिए हालात।

कोरोना टेस्टिंग के लिए कर्मचारियों की भारी कमी के चलते यह काम ठीक से हो ही नहीं पा रहा। मंगलवार को 11 बजे तक कोई भी कर्मचारी कोविड सेंटर में नहीं पहुंचा था।

इस बीच भीड़ इतनी बढ़ जा रही है कि घंटों इंतजार के बाद भी लोगों का टेस्ट नहीं हो पा रहा है। नारसन बॉर्डर पर रोके गए बहुत से लोगों को पता ही नहीं था कि उत्तराखंड के बॉर्डर पर कोरोना का टेस्ट किया जा रहा है।

दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों का कहना है कि निजी लैब की फीस 2400 रुपये है, जो काफ़ी महंगी है और रिपोर्ट में भी एक दिन से अधिक का समय लग रहा है।

रुड़की के जॉएंट कमिश्नर रुड़की के नमामि बंसल ने सोमवार को दावा किया था कि नारसन चेकपोस्ट पर एक मजिस्ट्रेट की नियुक्ति की गई लेकिन यहां कोई भी जिम्मेदार अधिकारी नहीं दिखा। इसकी वजह से  लोगों को सही जानकारी भी नही मिल पा रही है।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *