हरिद्वार में मकर संक्रांति के पर्व पर बिना कोरोना निगेटिव रिपोर्ट के स्नान नहीं कर पाएंगे श्रद्धालु, ये रहेगा रूट प्लान

हरिद्वार। मकर संक्रांति पर्व पर हरिद्वार में लाखों श्रद्धालुओं के पहुंचने की संभावना है। मकर संक्रांति के स्नान पर्व को लेकर जिला प्रशासन ने एसओपी जारी कर दी है। राज्य के बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को पांच दिन की अवधि की कोविड आरटीपीसीआर जांच की निगेटिव रिपोर्ट साथ लाना अनिवार्य होगा।

श्रद्धालुओं की भीड़ की संभावना के मद्देनजर मेला पुलिस-प्रशासन ने बाहरी राज्यों से आने वाले वाहनों का रूट प्लान जारी करने के साथ पार्किंग स्थल भी निर्धारित कर दिए हैं। शहर में वाहनों का दबाव बढ़ने की स्थिति में रूट डायर्वजन भी लागू किया जाएगा।

भीड़ के सामान्य रहने पर पास धारक एवं गंगा सभा का परिचय पत्र धारक व्यक्ति उपरोक्त प्लान के विपरीत दिशा में भी जा सकेंगे। सामान्य परिस्थितियों में यातायात को सुचारू बनाए रखने के लिए रूट प्लान 13 जनवरी दोपहर 12 बजे से 15 जनवरी की दोपहर दो बजे तक लागू रहेगा। आवश्यक सेवाओं में दूध, तेल, गैस आदि के ट्रक एवं टैंकर पर यह प्रतिबंध नहीं होगा।

मकर संक्रांति को लेकर एसओपी जारी

मकर संक्रांति के स्नान पर्व को लेकर जिला प्रशासन ने एसओपी जारी कर दी है। राज्य के बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को पांच दिन की अवधि की कोविड आरटीपीसीआर जांच की निगेटिव रिपोर्ट साथ लाना अनिवार्य होगा।

हालांकि प्रशासन का कहना है कि राज्य सीमा पर श्रद्धालुओं को रोका नहीं जाएगा। बार्डर में पूर्व की तरह केवल रैंडम सैंपलिंग व्यवस्था ही होगी। ऐसे में कोविड रिपोर्ट की अनिवार्यता को लेकर प्रशासन स्वयं असमंजस से घिरा नजर आ रहा है।

डीएम सी. रविशंकर ने मकर संक्रांति के स्नान पर्व को लेकर एसओपी जारी कर दी। होटल, धर्मशाला, आश्रम गेस्ट हॉउस प्रबंधन को श्रद्धालुओं की थर्मल स्कैनिंग करना अनिवार्य होगा। श्रद्धालुओें के लिए दो गज की दूरी और मास्क पहनना भी अनिवार्य होगा।

वहीं कोविड गाइडलाइन के उल्लंघन पर आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी। बताया कि पूर्व की तरह स्नान पर्व के दिन भी बार्डर पर रैंडम सैंपलिंग की जाएगी।

बताया कि श्रद्धालुओं से कोविड की आरटीपीसीआर जांच की निगेटिव रिपार्ट लाने की अपेक्षा की गई है, जिसकी अवधि पांच दिन निर्धारित होगी। डीएम ने बताया कि किसी भी श्रद्धालु को रोका नहीं जाएगा, लेकिन अगर कोविड रिपोर्ट न लाने का मामला संज्ञान में आता है तो कार्रवाई की जाएगी।

विभिन्न राज्यों की परिवहन निगम की बसें : रोड़वेज की बसें हरिद्वार-रुड़की हाईवे से आकर ऋषिकुल पुल पार कर उत्तराखंड राज्य परिवहन बस अड्डे पर जाएंगी।

इनकी वापसी भी इसी मार्ग से होगी। राष्ट्रीय राजमार्ग पर वाहनों का अधिक दबाव होने पर बसों को मंगलौर बस अड्डे से डाइवर्ट कर लंढौरा-लक्सर से जगजीतपुर तिरछी पुलिया डाइवर्जन से दक्षद्वीप होते हुए बैरागी पार्किंग पर खड़ा करवाया जाएगा। इस पार्किंग स्थल में खड़े होने वाले वाहन श्रीयंत्र टापू पुल, बूढ़ी माता तिराहा, सिंहद्वार चौक और रुड़की राष्ट्रीय राजमार्ग होते हुए वापस जाएंगे।

कांट्रैक्ट कैरिज एवं छोटे वाहन : इनको मंगलौर बस अड्डे से डाइवर्ट कर लंढौरा-लक्सर से जगजीतपुर तिरछी पुलिया डाइवर्जन से दक्षद्वीप होते हुए बैरागी पार्किंग पर खड़ा कराया जाएगा। इस पार्किंग स्थल में वाहन श्रीयंत्र टापू पुल से बूढ़ी माता तिराहे से सिंहद्वार चौक से रुड़की राष्ट्रीय राजमार्ग से वापस जाएंगे।

हल्के वाहन : मंगलौर बस अड्डे से डाइवर्ट कर लंढौरा-लक्सर से जगजीतपुर तिरछी पुलिया डाइवर्जन से दक्षद्वीप होते हुए बैरागी कैंप होकर चंडी चौक होते हुए चमगादड़ टापू मैदान पर पार्क कराए जाएंगे। पार्किंग स्थल भरने पर इस मार्ग से आने वाले वाहन धोबी घाट में बने बहुमंजिला पार्किंग स्थल पर पार्क होंगे। यहां पार्क होने वाले वाहन रुड़की राष्ट्रीय राजमार्ग से वापस जाएंगे।

बडे़ वाहन : वाहनों को भगवानपुर, झबरेड़ा, पुहाना मंगलौर से डाइवर्ट कर लंढौरा-लक्सर से जगजीतपुर तिरछी पुलिया से मात्रसदन पुल, दक्षद्वीप से बैरागी कैंप पर पार्क कराया जाएगा। इनकी वापसी बूढ़ीमाता तिराहा से सिंहद्वार से होगी।

छोटे वाहन : हल्के वाहन भगवानपुर, झबरेड़ा, पुहाना मंगलौर से डाइवर्ट कर लंढौरा-लक्सर से जगतीतपुर तिरछी पुलिया से मात्रसदन पुल से दक्षद्वीप से बैरागी होते हुए चंडी चौक होकर चमगादड़ टापू मैदान पर पार्क होंगे। पार्किंग स्थल भरने पर वाहनों को धोबीघाट में बने बहुमंजिला पार्किंग स्थल पर खड़ा करवाया जाएगा। यहां पार्क होने वाले वाहन रुड़की राष्ट्रीय राजमार्ग से वापस जाएंगे।

नजीबाबाद से आने वाले वाहन यहां खड़े होंगे

बड़े वाहन: विभिन्न राज्यों की परिवहन बसें छोड़कर जिन वाहनों को हरिद्वार आना है, वे नीलधारा में बने पार्किंग स्थल पर पार्क की जाएगी। पार्किंग भरने पर वाहनों को गौरी शंकर पार्किंग स्थल पर खड़ा करवाया जाएगा। जीएमयू एवं टीजीएमओयू की बसें नीलधारा में इनके लिए बने बस अड्डे से ही संचालित होंगी। विभिन्न राज्यों के परिवहन की बसें चंडीघाट पुल पार कर दिल्ली बाईपास होकर ऋषिकुल नया पुल पार कर रोडवेज एवं अंतरराज्यीय बस अड्डे पर पार्क होंगी। इन वाहनों की वापसी ऋषिकुल नया पुल से बायें मुड़कर इसी मार्ग से होगी।

छोटे वाहन: वाहनों को चमगादड़ टापू पार्किंग पर पार्क कराया जाएगा। पार्किंग भरने पर वाहनों को धोबीघाट एवं नीलधारा में बने पार्किंग स्थल पर खड़ा कराया जाएगा।

व्यवसायिक वाहन: ईंट, बजरी, रेत के वाहन भी निर्धारित समय पर ही हरिद्वार, ऋषिकेश, देहरादून के लिए जा सकेंगे।

लक्सर की ओर से आने वाले वाहन की पार्किंग

बड़े वाहन : जगजीतपुर तिरछी पुलिया डाइवर्जन से दक्षद्वीप होते हुए बैरागी कैंप पार्किंग पर पार्क कराया जाएगा। पार्किंग स्थल में पार्क किए वाहन श्री यंत्र टापू पुल से बूढ़ी माता तिराहे से सिंहद्वार चौक से रुड़की राष्ट्रीय राजमार्ग से वापस जाएंगे।

छोटे वाहन : समस्त छोटे वाहन चमगादड़ टापू पार्किंग पर पार्क कराए जाएंगे। पार्किंग भरने पर वाहनों को धोबी घाट में खड़ा करवाया जाएगा और इसी मार्ग से वाहनों की वापसी होगी।

देहरादून, ऋषिकेश से आने वाले वाहनों की पार्किंग

बड़े वाहन: विभिन्न राज्य परिवहन की बसें रोडवेज बस अड्डे में पार्क कराई जाएंगी। कॉन्ट्रैक्ट एवं अन्य बसें मोतीचूर एवं ऋषिकुल में खड़ी होंगी।

छोटे वाहन: वाहनों को पावन धाम स्थित पार्किंग एवं चमगादड़ टापू में खड़ा कराया जाएगा। पार्किंग स्थल भरने पर देहरादून की ओर से आने वाले वाहनों को नेपाली तिराहे से डायवर्ट कर चीला मार्ग से गौरीशंकर पार्किंग में लाया जाएगा।

बीएचईएल एवं रोशनाबाद से आने वाले वाहनों की पार्किंग

हरिद्वार में यातायात सामान्य होने पर सभी प्रकार के वाहनों को हरिद्वार क्षेत्र में निर्धारित पार्किंग स्थलों तक लाया जा सकेगा। नगर के पार्किंग स्थलों के भरने पर धीरवाली में बनाए गए पार्किंग स्थल पर खड़ा कराया जाएगा।

शहर में वाहनों का दबाव बढ़ते ही होगा रूट डायवर्जन

स्नान पर्व पर पार्किंग स्थलों की क्षमता से अधिक वाहनों के हरिद्वार पहुंचने की स्थिति में दूसरा प्लान भी तैयार किया गया है। शहर में दवाब बढ़ने पर बाहर से आने वाले यातयात को अन्य संपर्क मार्गों से निकाले जाने की संभावना हो सकती है। इसके लिए इस तरह यातायात डायवर्जन योजना क्रियान्वित की जाएगी।

  1. सहारनपुर से आने वाले वाहनों को रुड़की, धनौरी, पथरी रोह पुल से सलेमपुर (पथरी पावर हाउस) होते हुए सिडकुल चौराहे से होकर हिन्दुस्तान लीवर लिमिटेड के पास बने चौराहे से चिन्मय डिग्री कालेज, शिवालिक नगर चौक होते हुए मध्य मार्ग से धीरवाली पार्किंग स्थल पर पार्क किया जाएगा।
  2. हरिद्वार में वाहनों का दबाव अधिक होने की स्थिति में दिल्ली की तरफ से देहरादून जाने वाले वाहनों को रुड़की से ही भगवानपुर, छुटमलपुर से देहरादून भेजा जाएगा।
  3. ऋषिकेश की तरफ से दिल्ली जाने वाले वाहनों को ऋषिकेश से वीरभद्र बैराज, चीला मार्ग से नजीबाबाद रोड से मंडावली, मंडावर, मुजफ्फरनगर होते हुए दिल्ली भेजा जाएगा।
  4. देहरादून से मुरादाबाद की दिशा में जाने वाले वाहनों को नेपाली तिराहा से डायवर्ट कर श्यामपुर बीरभद्र बैराज चीला मार्ग से होकर नजीबाबाद भेजा जाएगा।
  5. मुरादाबाद से देहरादून आने वाले वाहनों को चंडीघाट पुल से डायवर्ट करके चीला मार्ग से होकर बीरभद्र से श्यामपुर, नेपाली तिराहा से भेजा जाएगा। यातायात डायवर्जन लागू होने की स्थिति में डायवर्जन प्वाइंट पर संबंधित थाना प्रभारी एवं सेक्टर पुलिस अधिकारी स्वंय मौजूद रहकर डायवर्जन प्रभावी रूप से सुनिश्चित कराएंगे। उपरोक्त व्यवस्था 13 जनवरी की शाम पांच बजे से लागू होगी।
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *