उत्तराखंडः शहीद चंद्रशेखर आज़ाद की प्रतिमा को लेकर भाजपा में अंतर्कलह

2017 में शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद की प्रतिमा को लेकर पूर्व मेयर यशपाल राणा और विधायक प्रदीप बत्रा के बीच खूब तनातनी हुई थी।

रुड़की में शहीद चंद्रशेखर आज़ाद की प्रतिमा को लेकर भाजपाई आपस में ही भिड़ गए हैं।

रुड़की में शहीद चंद्रशेखर आज़ाद की प्रतिमा को लेकर भाजपाई आपस में ही भिड़ गए हैं। 2017 में शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद की प्रतिमा को लेकर पूर्व मेयर यशपाल राणा और विधायक प्रदीप बत्रा के बीच खूब तनातनी हुई थी। स्थिति इतनी बिगड़ गई थी कि दोनों के समर्थकों में मारपीट तक हो गई थी और मामला हाईकोर्ट पहुंच गया था। एक बार फिर मामला गरमा रहा है और शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद की प्रतिमा को लेकर बीजेपी विधायक और बीजेपी कार्यकर्ता आमने-सामने आ गए हैं।

अब बीजेपी कार्यकर्ताओं का कहना है कि विधायक ने अपने निजी स्वार्थ के लिए इस प्रतिमा कोहटाया था। उस समय कार्यकर्ताओं को पता नहीं था कि ऐसा किया क्यों गया है लेकिन अब वह समझ गए हैं। चन्द्रशेखर की प्रतिमा को पुराने स्थान पर ही पुनर्स्थापित किए जाने की मांग को लेकर हाल ही में बीजेपी कार्यकर्ताओं ने नारेबाज़ी की की थी।

स्थानीय पार्षद शक्तिसिंह राणा ने कहा यह भी आरोप लगाते हैं कि इसमें सरकारी धन का भी दुरुपयोग भी किया गया था। दरअसल शहीद चंद्रशेखर आज़ाद की प्रतिमा को महज़ 200 मीटर हटाकर चंद्रशेखर चौक पर लगाया गया है।

हालांकि विधायक प्रदीप बत्रा का कहना है कि प्रतिमा को लेकर कोई विवाद नही हैं और कुछ लोग अपने राजनीतिक रोटियां सेंक रहे हैं। वह दावा करते है कि वह जो करते हैं शहर के भले के लिए करते हैं।

लेकर विधायक और कार्यकर्ता में अंतर्कलह दिख रही है जो धीरे-धीरे बढ़ रही है। बीजेपी पर यह अंतर्कलह विधानसभा चुनावों में भारी पड़ सकती है क्योंकि नगर निगम चुनावों में पार्टी की यह अंतर्कलह उसके लिए नुकसानदेह साबित हुई थी। इसलिए बीजेपी के लिए अच्छा यही होगा कि वह समय रहते इस असंतोष पर काबू पा ले।

Source link

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *