अवैध शराब कारोबारियों का अड्डा बना कोलागाड

पौड़ी जिले के पोखडा विकासखण्ड की पट्टी कोलागाड 1 व 2 में अवैध शराब का धन्धा वर्षो से फल फूल रहा है। विकास की दौड़ में अपनी मूलभूत सुविधाओं से मरहूम चौबट्टाखाळ विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत आने वाले कोलागाड क्षेत्र की सभी 9 ग्रामसभाओं की तस्वीर राज्य के उन अति पिछड़े क्षेत्रो से इतर नही है जहाँ शिक्षा,स्वास्थ्य चिकित्सा और सड़क पानी जैसी मूलभूत सुविधाओ का अभाव साफ देखा जा सकता है । वर्षो से विकास की दौड़ में पिछडे कोलागाड क्षेत्र को चौबट्टाखाळ की पूंछ कहा जा सकता है ।प्रशासन की लापरवाही के कारण मूलभूत सुविधाओ की बाट जोह रहा यह क्षेत्र जहां एक ओर अवैध शराब कारोबारियों व माफियाओं के लिये काफी मुनाफ़े वाला क्षेत्र साबित हो रहा है तो वही दूसरी ओर आबकारी राजस्व को भी भारी चूना लगा रहा है । शराब का यह अवैध कारोबार दोनो कोलागाड पट्टियों में खूब फल फूल रहा है जिससे क्षेत्र के युवाओं का भविष्य खतरे में है।

गौरतलब है कि कोलागाड क्षेत्र में पहले से ही शिक्षा व्यवस्था चौपट हो चुकी है और तीनों अशासकीय विद्यालय जहां एक ओर शिक्षकों की कमी,जर्जर भवन व मूलभूत सुविधाओं की मार झेल रहे है वहीं दूसरी और शराब माफियाओं की क्षेत्र में बढ़ती सक्रियता से सभी 9 ग्रामसभाएं अवैध शराब के अड्डों से बिक रही शराब के कारण नशे का शिकार हो रहीं हैं। क्षेत्र में सक्रिय शराब माफिया यहां शिक्षा प्रबन्ध तंत्र पर भी हावी बताए जाते रहे हैं और सत्ता के गलियारों में दखल का दवा करते रहे हैं।इनमें से कुछ क्षेत्रीय राजनीति में भी दखल रखते हैं । सनद रहे कि कुछ समय पूर्व आबकारी विभाग द्वारा कोलागाड 2 की गुडिण्डा धार से भारी मात्रा में अवैध शराब की 85 पेटी शराब पकड़ी जा चुकी है हालांकि बाद में मामले को 35 पेटी शराब बरामद दिखाकर रफा दफा कर दिया गया । शराब के इस अवैध व्यापार का मुख्य केंद्र संगलकोटी बाजार है जहां से कोलागाड 1 के कुंजखाल,पनिया,कोला व कोलागाड 2 के गुडिण्डा, बड़ेत, लवीण्ठा ,छिटग्वाली आदि स्थानों को अभी हाल ही में बने सड़क मार्ग से अड्डों तक पहुचाया जाता है । प्रशासन द्वारा शराब माफियाओं पर कोई उचित कार्यवाही ना होने से तस्करों के हौसले इस कदर बुंलन्द है कि वे अवैध शराब के खिलाफ आवाज उठाने वाले सामाजिक कार्यकर्ताओं व क्षेत्रीय लोगों को धमकी तक देने से परहेज नही करते जिसके कारण कोलागाड की महिलाओं व आम जनता में भारी रोष व्याप्त है । प्रसाशनिक लापरवाही क्षेत्र में कभी भी बडे आंदोलन या आपराधिक घटना को जन्म दे सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *