अब भारत की अर्थव्यवस्था पर चीन की नज़र, स्टार्टअप और पेमेंट-डिलीवरी एप्स का चुरा रहा डेटा

चीन की सेना और खुफिया एजेंसी से जुड़ी कंपनी झेन्‍हुआ डेटा इंफॉर्मेशन टेक्‍नॉलजी कंपनी लिमिटेड ने जो ओवरसीज की इंडिविजुअल डेटाबेस (OKIDB) तैयार किया है, उसमें भारत के अर्थ जगत से कम से कम 1,400 लोग, संगठन या कंपनियां शामिल हैं।

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख में जारी तनाव के बीच सोमवार को हाईब्रिड वॉरफेयर को लेकर चीन की एक बड़ी साजिश का खुलासा हुआ। चीन अपनी एक कंपनी के जरिए भारत के करीब 10 हजार से ज्यादा हस्तियों और संगठनों की जासूसी कर रहा है। अब एक दूसरे खुलासे में पता चला है कि चीन की नजर भारत के अर्थव्यवस्था पर है। अंग्रेजी अखबार ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन भारत के पेमेंट एप, सप्लाई चेन, डिलीवरी एप्स और इन एप्स के सीईओ-सीएफओ समेत करीब 1400 व्यक्तियों और संस्थाओं की निगरानी कर रहा है।

इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी इंवेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग की दूसरी कड़ी में इसका खुलासा किया। रिपोर्ट में बताया गया कि चीन की सेना और खुफिया एजेंसी से जुड़ी कंपनी झेन्‍हुआ डेटा इंफॉर्मेशन टेक्‍नॉलजी कंपनी लिमिटेड ने जो ओवरसीज की इंडिविजुअल डेटाबेस (OKIDB) तैयार किया है। चीन की निगरानी लिस्ट में इंडियन रेलवे में इंटर्नशिप कर रहे इंजीनियरिंग स्टूडेंट से लेकर अजीम प्रेमजी की वेंचर कंपनी के चीफ इन्वेस्टमेंट ऑफिसर तक शामिल हैं। इतना ही नहीं चीन देश के स्टार्टअप्स और ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म और भारत में स्थित विदेशी निवेशक और उनके संस्थापक और मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारियों की भी निगरानी कर रहा है।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *