Tuesday, July 27, 2021
Home मनोरंजन ब्रेकिंग न्यूज़, अगले मानसून सत्र में इस स्थान को वर्षाकालीन राजधानी घोषित...

ब्रेकिंग न्यूज़, अगले मानसून सत्र में इस स्थान को वर्षाकालीन राजधानी घोषित कर सकती है सरकार

जैसे ही मीडिया के माध्यम से पता चला कि शीतकालीन और ग्रीष्मकालीन राजधानी बन गयी है, लेकिन वर्षा काल के लिए कोई राजधानी नही बनी है। इसी के साथ राज्य में ठोस नीति निर्धारित नही होने से पूरे प्रदेश के मेढक मुखर हो गये है। उन्होनें मानसून सत्र से पहले अपने लिए वर्षाकालीन राजधानी घोषित करने के लिए बिलों से निकलकर टर्राटराना शुरू कर दिया है। अभी उनके मौसम विभाग ने यह घोषणा भी नहीं कि कब मानसून यहॉ पहुॅचेगा लेकिन मेढक अपनी अपनी नदी नालों से टरटराते हुए उछलते कूदलने लगे हैं। एक दिन बड़ी बरसात हुई और पूरे प्रदेश की बड़ी नदियों के सभी मेढक इकठ्ठे होकर उन्होनें आपातकालीन बैठक बुलायी और कहा कि जब सर्दियों में हम मैदान में रहेगें, गर्मियों में हम पहाड़ चढेगें, लेकिन जब हमारा पीक सीजन होता है, जब हम हर्षोल्लास के साथ नाचते कूदते हैं, तब के लिए एक वर्षाकालीन राजधानी बनायी जानी जरूरी है। इस हेतु मेढक समाज ने अपने प्रदेश के मुखिया से सम्पर्क कर एक आपातकालीन बैठक बुलाने हेतु सुझाव दिया।

कुमांऊ मण्डल के काली और शारदा नदी के मेढक, शारदा, कोसी, एंव छोटी बड़ी नदी नालों के मेढक कूदते फॉदते नैनीताल झील में पहॅुचे और वहॉ कुमाऊं मण्डल की एक बैठक रखी गयी। वहीं गढवाल मंडल से नयार, अलकनंदा टौंस, भागीरथी नदी के सब मेढक गंगा नदी में स्नान करते हुए हरिद्वार पहुॅचे सबने हर की पैड़ी में डुबकी लगाकर पहले अपना कीचड़ साफ किया और उसके बाद हर हर गंगा कहते हुए आलीशान कुंऐ में जाकर वर्षाकालीन राजधानी हेतु चर्चा शुरू की।

दोनो मण्डलों से प्रतिनिधि चुने गये और सबने मिलकर ऋषिकेश में त्रिवेणी घाट के किनारे पुनः प्रस्ताव पर चर्चा की और एक संयुक्त ज्ञापन प्रदेश के मुखिया को भेजते हुए अपने लिए वर्षाकालीन राजधानी की मॉेग की। मेढकों ने अपने ज्ञापन में कुछ इस तरह अपनी बात रखी।

माननीय मुखिया साहब, आपने दो राजधानी तो हमारे लिए बना दी है, एक शीतकालीन और एक ग्रीष्मकालीन जिसका हम उछलते उछलते और टर्राते टर्राते आपका धन्यवाद ज्ञापित करते हैं। शीतकालीन राजधानी तो आपने लंदन की तरह और ग्रीष्मकालीन को पेरिस की तरह विकसित कर दिया है। मान्यवर जैसा कि आप जानते हैं कि हमारा पीक सीजन 15 जून से 15 अक्टूबर तक होता है, ग्रीष्मकाल और शीतकाल में हम पाताल लोक में अपनी राजधानी में चले जाते हैं, वहॉ की पाताल देवी ने हमे सब सुविधाओं से लैस किया हुआ है, उस समय हम वहॉ पूरे ऐशो आराम से दिन व्यतीत करते हैं, क्योंकि दोनो समय में हमारा विपक्ष संपेरा समाज भी आराम से बिलों में रहता हैं, तब हमे इतनी चितां नहीं रहती हैं, लेकिन जैसे ही बरसात में बादल उमड़ने घूमड़ने लगते हैं, मोरनी के नाचने की थाप हमें सुनायी देती है, किसानों द्वारा खेतों में हल लगाने की आवाज और बैलों के गले मे बंधी घण्टियों की आवाज हमें सुनायी देती हैं, बरसाती गोबर की खुशबू और जुगनू की सुमधुर संगीत और उनका टीमटीमता प्रकाश और हल्की भीगी मिट्टी की सुगंध हमें पाताल लोक से भूलोक में आने के लिए निमत्रंण दे देती हैं, उसी समय हमारा विपक्ष सपौंला भी चुनावों के बिगुल बजने की तरह बाहर निकल आते हैं, ऐसे में हमें बरसात में सुरक्षा को देखते हुए उचित नदी या स्थान की नितांत आवश्यकता है, क्योंकि हमारा मेढक समाज का अस्तिव समाप्ति की ओर है। ऐसे में हमारे लिए हमारे सीजन के लिए राजधानी घोषित की जाय और वाशिंगटन के तर्ज पर उसका विकास मॉडल हो, नहीं तो चंडीगढ़ जैसे तो बननी जरूरी है।हमें ऐसा स्थान चाहिए जहॉ कोई विकास नहीं हुआ हो, ताकि वहॉ वर्षाकालीन राजधानी बनने से वहॉ पर हमारे उच्च वर्गीय बडे मेढकों की वीआईपी मूवमेंट होने से हमारे लिए आलीशान कुंए, तालाब, नदीयों की सफाई होगी, हम सब लोग रिमझिम होती बरसात में मस्त मगन होकर उछलते कूदते, और अपनी धून में अपना राग गा सकें। क्योंकि ये चार महीने ही तो हमारे हैं, बाकि तो हमने पाताल लोक में चले जाना है। इसके साथ उसे ई कैपीटल बनाना, ताकि कम ही संसाधनों की आवश्यकता हो।

मेढको के इस ज्ञापन पर सरकार ने विचार विमर्श किया और मेढकों के नेता को बुलाकर यह सुझाव मॉगा कि आपके हिसाब से किस जगह को वर्षाकालीन राजधानी घोषित किया जाय। मेढक के मुखिया ने पुनः सभी मेढकों की आपातकालीन बैठक आहुत कर स्थल चयन हेतु मण्डलों और आम कार्यकर्ताओं से सुझाव व्हाटस अप और सोशल मीडिया से मंगवाने हेतु कह दिया है। सभी से कहा गया है कि वर्षाकालीन राजधानी ऐसे स्थल पर बनायी जाय जो मैदान भी न हो और पहाड़ भी नहीं, नदी भी हो और उसमें पानी नहीं, राजधानी के नजदीक हो, लेकिन सबसे पिछड़ा हुआ इलाका हो, जहॉ बरसात मे चार महीनों में सड़क नहीं होने से वह अन्य क्षेत्रों से कट जाय, जहॉ न स्कूल हो, न अस्पताल हो, और न ही दुकानें हो, ऐसे निर्जन स्थल को वर्षाकालीन राजधानी बनाये जाने हेतु सर्वे करने हेतु कहा गया है, ताकि इसका चरणबद्ध विकास हो सके।

सभी जगह से रिपोर्ट आयी सर्वे किया गया तो एक उपयुक्त स्थल जो इन सब शर्तों को पूरा करता था सर्वसम्मति से सरकार की आगामी मानसून सत्र में राजधानी घोषणा हेतु नाम भेज दिया गया है। यह निर्जन स्थल पौड़ी जिला का यमकेश्वर क्षेत्र की विहंगम तालघाटी जो इन सभी शर्तो को पूर्ण कर रही थी, इस संबंध में सरकार से जल्दी ही घोषणा होने के पूरी उम्मीद है कि यह वर्षाकालीन राजधानी घोषित हो सकती है, सभी गणमान्य, मीडिया, एवं सरकारी तंत्र तालघाटी के भ्रमण पर जाने की योजना पर कार्य कर रहे है। अब देखना होगा कि क्या मेढकों के लिए तालघाटी वर्षाकालीन राजधानी चयन योग्य हो पाती है, या यह भी किसी की आपत्ति लगकर किसी और जगह की घोषणा होती है, यह आने वाला मानसून सत्र ही बतायेगा।

नोटः इसका वास्तविक घटनाओं से कोई संबंध नहीं है, यह केवल लेखक का काल्पनिक व्यंग्य मात्र है।

हरीश कण्डवाल मनखी की कलम से।

RELATED ARTICLES

शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा पोर्न फिल्में बनाने और एप पर अपलोड करने के मामले में गिरफ्तार, जानिए राज कुंद्रा कैसे चलाते थे...

मुंबई। शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा को पोर्न फिल्में बनाने और एप पर अपलोड करने के मामले में गिरफ्तार किया गया है। उन्हें...

अक्षय कुमार की फिल्म ‘बेलबॉटम’ की रिलीज डेट में हुई हेरा-फेरी, जुलाई में नहीं अब इस महीने में आएगी मूवी!

मुंबई। बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार इन दिनों कई फिल्मों को लेकर खबरों में हैं। एक के बाद एक अक्षय की कई फिल्में रिलीज होने जा...

रिहाना ने किसान आंदोलन को लेकर पूछा सवाल, कंगना रनौत बोलीं- ‘हम तुम्हारी तरह बेवकूफ नहीं हैं’

पॉप सिंगर रिहाना ने किसान समर्थन में ट्वीट करते हुए सवाल किया तो 'पंगा क्वीन' कंगना रनौत ने उन्हें ट्वीट कर जवाब दिया। मुंबई। किसान...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

उत्तराखंड में 4 अगस्त तक बढ़ा कोविड कर्फ्यू, स्पा और सैलून के साथ खुलेंगे ये संस्थान, नाइट कर्फ्यू अभी रहेगा बरकरार

देहरादून। उत्तराखंड सरकार ने कुछ और रियायतों के साथ प्रदेश में कोविड कर्फ्यू को मंगलवार सुबह छह बजे से चार अगस्त सुबह छह बजे...

उत्तराखंड में पुलिस ग्रेड पे पर बोले सीएम धामी, सरकार ने स्वयं की पहल, सीएम आवास के मिथक पर कही ये बड़ी बात

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी पूजा-पाठ के बाद सरकारी आवास में शिफ्ट हो गए हैं। इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में...

सीएम के चेहरे पर बोले प्रीतम, क्या मेरा चेहरा बुरा है…? कांग्रेस आलाकमान ने चुनाव में कोई चेहरा घोषित नहीं किया, सत्ता में...

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा के नवनियुक्त नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह सोमवार को सुबह 11 बजे विधानसभा भवन में विधिवत रूप से पदभार ग्रहण कर लिया...

उद्योग मंत्री गणेश जोशी ने दिए नवनियुक्त उद्योग सचिव राधिका झा को औद्योगिक विकास में तेजी लाने के निर्देश

देहरादून। आज नवनियुक सचिव, उद्योगिक विकास, लघु, सूक्ष्म, एवं मध्यम उद्यम, खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग राधिका झा ने कैंप कार्यालय में कैबिनेट मंत्री गणेश...

उत्तर प्रदेश:लखनऊ-योगी मुख्यमंत्री पद के लिए पहली पसंद

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,उत्तर प्रदेश:लखनऊ। स्वतंत्र एजेंसी मैटराइज न्यूज ने प्रदेश के 75 ज़िलों में करवाए गए सर्वे में दावा किया है कि...

नई दिल्ली:वैज्ञानिकों की गंभीर चेतावनी, महाविनाश रोकने के लिए लेना होगा एक्शन

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,नई दिल्ली: वैज्ञानिकों ने एक चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि विश्व में चार ऐसे देश हैं, जो दुनिया...

नई दिल्ली:एम्‍स ने दिया बड़ा बयान,जल्द शुरू होगा बच्चो का टिकाकरण,

डी.एस.नेगी/इंडिया टाइम्स ग्रुप हिंदी न्यूज़,नई दिल्ली: दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने राहतभरी खबर दी है। उन्होंने...

शिलान्यास सहित जो घोषणाएं की गई है उनको प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण किया जाएगा- सीएम पुष्कर सिंह धामी

मुख्यमंत्री ने सुनी आम जन सहित विभिन्न संगठनों की समस्यायें। शिलान्यास सहित जो घोषणाएं की गई है उनको प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण किया जाएगा-...

डीएम देहरादून ने किया स्मार्ट सिटी के कार्यों का निरीक्षण, सड़को पर गड्ढे मे जलभराव को लेकर जताई नाराजगी

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आर राजेश कुमार ने देहरादून स्मार्ट सिटी में हो रहे कार्यों का अपने स्थलीय निरीक्षण के दौरान आज सर्वे चैक से...

मीराबाई चानू के सिल्वर मेडल जीतते ही खुशी से झूमा देश, “भारत के झंडे को आप पर गर्व है मीरा”, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम...

देहरादून। मीराबाई चानू ने ये कमाल 49 किलोग्राम भारवर्ग की महिला वेटलिफ्टिंग में किया है। स्नैच राउंड में मीराबाई चानू सभी महिला वेटलिफ्टर्स के...

उत्तराखंड में अपग्रेड होंगे 158 आयुर्वेदिक अस्पताल, तीसरी लहर से निपटने को मजबूत होंगी सुविधाएं

देहरादून। कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए इससे निबटने के लिए ग्रामीण और सुदूरवर्ती क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार को प्रभावी...

ट्रांसफर-पोस्टिंग को लेकर उत्तराखंड सरकार के शासनादेश से हुआ बड़ा खुलासा, राजनीतिक दबाव बनाते हैं अधिकारी…

देहरादून। उत्तराखंड में ट्रांसफर और पोस्टिंग के लिए भारतीय प्रशासनिक सेवा के कतिपय अधिकारी राजनीतिक दबाव बना रहे हैं। प्रदेश सरकार ने आईएएस अफसरों...

उत्तराखंड: रुद्रपुर में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का रोड शो, कार्यकर्ताओं में दिखा उत्साह, किसानों ने किया प्रदर्शन

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी शुक्रवार से ऊधमसिंह नगर जिले के दौरे पर हैं। शक्रवार को जब मुख्यमंत्री रुद्रपुर पहुंचे तो किसानों ने उनके दौरे...

आतंकी साजिश नाकाम: जम्मू-कश्मीर में पुलिस ने मार गिराया ड्रोन, पांच किलो आईईडी बरामद

जम्मू-कश्मीर के कनाचक इलाके में पुलिस ने एक पाकिस्तानी ड्रोन को मार गिराया है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक इस ड्रोन के गिरने पर...

“मिशन 2022” के लिए उत्तराखंड कांग्रेस की नई टीम फाइनल, पंजाब फार्मूला उत्तराखंड में भी हुआ लागू

देहरादून। खबर आ रही है कि उत्तराखंड कांग्रेस की नई टीम के के नामों का ऐलान कल होगा। इस टीम में जिन नामों और...