नहीं रहे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी, देश में राजनीतिक विराम…

अद्भुत-अलौकिक व्यक्तित्व वाले पूर्व प्रधानमंत्री और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी जी का आज देहावसान हो गया। 25 दिसंबर 1924 को मध्यप्रदेश के ग्वालियर में जन्मे अटल बिहारी वाजपेयी जी कई सालों से बीमार चल रहे थे। उन्होंने दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में अंतिम सांस ली। उनके निधन से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, लाल कृष्ण आडवाणी, राजनाथ सिंह सहित भाजपा और अन्य पार्टी के तमाम नेता उनका हालचाल जानने एम्स पहुंचे थे।

अटल बिहारी वाजपेयी जी के जाने से पूरा देश शोकाकुल में डूब गया है। अटल बिहारी वाजपेयी जी के निधन की खबर से देश की राजनीति को बहुत गहरा धक्का लगा है। उनकी कमी कभी पूरी नहीं कि जा सकती है। अटल बिहारी वाजपेयी जी को गुर्दा (किडनी) नली में संक्रमण, मूत्रनली में संक्रमण जैसी स्वास्थ्य समस्याओं के बाद 11 जून को एम्स में भर्ती कराया गया था और आज दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में अंतिम सांस ली।

राष्ट्रपति कोविन्द ने अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर शोक जताते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री व भारतीय राजनीति की महान विभूति श्री अटल बिहारी वाजपेयी के देहावसान से मुझे बहुत दुख हुआ है। विलक्षण नेतृत्व, दूरदर्शिता तथा अद्भुत भाषण उन्हें एक विशाल व्यक्तित्व प्रदान करते थे।उनका विराट व स्नेहिल व्यक्तित्व हमारी स्मृतियों में बसा रहेगा—राष्ट्रपति कोविन्द

पीएम मोदी ने अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर शोक जताते हुए कहा कि अटल जी आज हमारे बीच में नहीं रहे, लेकिन उनकी प्रेरणा, उनका मार्गदर्शन, हर भारतीय को, हर भाजपा कार्यकर्ता को हमेशा मिलता रहेगा। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे और उनके हर स्नेही को ये दुःख सहन करने की शक्ति दे। ओम शांति !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *