संसद सत्र: प्रश्नकाल को लेकर विपक्ष की आंशिक जीत, लिखित में दिये जायेंगे उत्तर


मंत्री प्रल्हाद जोशी ने कहा है कि उन्होंने स्पीकर से अतारांकित प्रश्न लेने का भी अनुरोध किया है (फोटो- ANI)

प्रल्हाद जोशी (Pralhad Joshi) ने यह भी कहा है, “मैंने लोकसभा अध्यक्ष (Lok Sabha Speaker) और राज्यसभा सभापति (Rajya Sabha Chairman) को सुझाव दिया है कि शून्यकाल (zero hour) की अवधि 30 मिनट रखी जाए. वे अंतिम निर्णय लेंगे. सरकार (government) हर मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है.”

  • News18Hindi
  • Last Updated:
    September 2, 2020, 8:41 PM IST

नई दिल्ली. संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी (Parliamentary Affairs Minister Pralhad Joshi) ने कहा है कि विपक्षी दल प्रश्नकाल (question hour) और शून्यकाल (zero hour) पर सवाल उठा रहे हैं. अर्जुन राम मेघवाल (Arjun Ram Meghwal), वी मुरलीधरन (V Muraleedharan) और मैंने इस बारे में प्रत्येक पार्टी से बातचीत की है. टीएमसी (TMC) के डेरेक ओ ब्रायन (Derek O’Brien) को छोड़कर इस संबंध में (प्रश्नकाल को रद्द करने के लिए) सभी ने सहमति व्यक्त की है. हालांकि इसके बाद अतारांकित सवालों के लिखित में जवाब देने पर सहमति बन गई.

प्रल्हाद जोशी (Pralhad Joshi) ने यह भी कहा है, “मैंने लोकसभा अध्यक्ष (Lok Sabha Speaker) और राज्यसभा सभापति (Rajya Sabha Chairman) को सुझाव दिया है कि शून्यकाल (zero hour) की अवधि 30 मिनट रखी जाए. वे अंतिम निर्णय लेंगे. सरकार (government) हर मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है.” हमने स्पीकर से अतारांकित प्रश्न (unstarred questions) लेने का भी अनुरोध किया है.” सरकार के इस कदम का मतलब होगा कि लिखित सवालों के लिखित जवाब दिये जायेंगे.

संसद सत्र: नहीं होगा प्रश्नकाल, विपक्षी दलों ने कहा-प्रश्न पूछने का अधिकार छीन रही सरकार
संसद के आगामी मानसून सत्र में न तो प्रश्न काल होगा और न ही गैर सरकारी विधेयक लाए जा सकेंगे. कोरोना महामारी के इस दौर में पैदा हुई असाधारण परिस्थितियों का हवाला देते हुए शून्य काल को भी सीमित कर दिया गया है. इस कदम, खासकर प्रश्न काल के निलंबन से, विपक्षी दल बुधवार को भड़क उठे और सरकार पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि वह सवाल पूछने के सांसदों के अधिकारों से उन्हें वंचित करना चाहती है. उनका कहना है ऐसा इसलिए किया गया है ताकि विपक्षी सदस्य अर्थव्यवस्था और कोरोना महामारी पर सरकार से सवाल न पूछ पाएं.यह भी पढ़ें: इन 118 चाइनीज ऐप पर सरकार ने लगाया प्रतिबंध, चेक करें पूरी लिस्ट

लोकसभा और राज्यसभा सचिवालय की ओर से जारी अधिसूचना के मुताबिक दोनों सदनों की कार्यवाही अलग-अलग पालियों में सुबह नौ बजे से एक बजे तक और तीन बजे से सात बजे तक चलेगी. शनिवार तथा रविवार को भी संसद की कार्यवाही जारी रहेगी. संसद सत्र की शुरुआत 14 सितम्बर को होगी और इसका समापन एक अक्टूबर को प्रस्तावित है. सिर्फ पहले दिन को छोड़कर राज्यसभा की कार्यवाही सुबह की पाली में चलेगी जबकि लोकसभा शाम की पाली में बैठेगी. (भाषा के इनपुट सहित)





Source link

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *