Home » s » s

s

इन आंखों ने ख्वाब देखा था मीडिया जगत में एक तारे की तरह टिमटिमाने का लेकिन दिल इस बात से भी वाकिफ था कि यह डगर आसान नहीं। यह रास्ता कांटे भरा बेषक हो सकता है लेकिन कोई भी चुभन मंजिल की ओर बढ़ते कदमों को रोकने का साहस नहीं कर सकती इस हकीकत का एहसास भी था मुझे। तभी तो कठिनाईयों से दोस्ती करके, आम इंसान की आवाज बनने और हकीकत के चेहरे पर पड़े नकाब को बेपर्दा करने के दृढ़ संकल्प के साथ मैंने कदम बढ़ाया। उस पल एहसास हुआ की कामयाबी उसे नहीं मिलती जो इसकी राह तकता है बल्कि कामयाबी उसके कदमों को चूमती है जो मेहनत की सारी हदें पार कर दे। षायद अगर मीडिया की उन पथरीली राहों में एक पल भी मेरा मनोबल धराषायी हो जाता तो यह कभी मुमकिन न होता क्योंकि सभी पाठकों और स्टाफ का सहारा था। जो आज इण्डिया टाइम्स ग्रुप की सच्चाई बन गया है।

2006 में राश्ट्रीय स्तर की पत्रिका इण्डिया टाइम्स के साथ षुरू हुआ कारवां 2013 तक भी नित नए कीर्तिमान स्थापित कर रहा है। इस पहचान को हासिल करना आसान न था, वक्त ने कठिनाईयों के कई रूप दिखाए लेकिन हौसलों ने हार नहीं मानी और उन्हीं बुलंद इरादों की हकीकत आज आपके सामने है। यह इस गु्रप के अथक प्रयासों का ही परिणाम है कि इण्डिया टाइम्स गु्रप का सफर अपने षुरूआती समय से ही अपनी एक अलग पहचान स्थापित करने में कामयाब रहा है। कामयाबी के इसी ग्राफ में एक और नाम जुड़ गया है रीजनल चैनल नेटवर्क 10 का। इण्डिया टाइम्स गु्रप में इस चैनल के षामिल होने के साथ ही अब इण्डिया टाइम्स ग्रुप प्रिंट मीडिया और इलेक्ट्राॅनिक मीडिया दोनों ही मीडिया का एक परफैक्ट पैकज बन गया है। इण्डिया टाइम्स ग्रुप ने अपने इस सफर में कई चुनौतियों का सामना किया कभी आप पाठकों ने हमारी कोषिष की सराहना की तो कभी हमारी खबरों की वजह से हमें षासन प्रषासन की सुननी पड़ी। लेकिन इन तमाम घटनाओं ने हमारे मनोबल पर
सकारात्मक प्रभाव डाला और हमारी हिम्मत को उन विकट परिस्थितियों से लड़ने का जज्बा सौंप दिया। उस पल अगर इण्डिया टाइम्स बिखर जाता तो षायद आज की सच्चाई इस नाम के साथ खुद को जोड़ पाने का सौभाग्य न जुटा पाती। लेकिन ये इण्डिया टाइम्स ग्रुप का प्रयास ही था कि तमाम अड़चनों को दरकिनार करते हुए एक मैगजीन से षुरू पत्रकारिता के इस सफर में आज 2013 तक दो मैगजीन ‘‘इंडिया टाइम्स द परफैक्ट पैकेज’’ हिन्दी में और ‘‘इण्डिया टाइम्स द पावर’’ अंगे्रजी में के अलावा दो सप्ताहिक समाचार पत्र ‘‘इण्डिया  टाइम्स द परफैक्ट पैकेज’’ और ‘‘ग्लांसिंग इंडिया’’ के साथ अब नेटवर्क 10 भी जुड़ गया है। इन तमाम नामों के अलावा इण्डिया टाइम्स ग्रुप की पहचान नेषनल चैनल रफ्तार टाइम न्यूज से भी रही है।

रफ्तार टाइम न्यूज एक ऐसा नाम जिसे इस ग्रुप द्वारा जून 2011 से फरवरी 2013 तक चलाया गया। लेकिन ऊपरी स्तर से हुई कुछ गलतफहमियों की वजह से देहरादून में इस चैनल का प्रसारण रोकना पड़ा। लेकिन ये इण्डिया टाइम्स ग्रुप की मेहनत का ही परिणाम था कि जब तक रफ्तार टाइम न्यूज का प्रसारण देहरादून में चला हर किसी ने उसमें प्रसारित खबरों की सराहना की। रफ्तार टाइम न्यूज के उन बुलंदियों को छूने के बाद अचानक उत्पन्न व्यवधान की वजह से उसे प्रसारण को
रोकने का हमें खेद है लेकिन यह उम्मीद भी अभी कायम है कि हम दोबारा रफ्तार टाइम न्यूज को आपको बीच लेकर आ सकते हैं। कल क्या होगा हमें इसका तो इल्म नहीं लेकिन इस बात की तसल्ली अवष्य है कि मीडिया में हमारी पकड़ हर बीते लम्हे के साथ और मजबूत होती जा रही है। आज विष्वास करने को दिल कहता है कि एक से भले दो ओर दो से भले तीन।

हमें इस बात की खुषी है कि इण्डिया टाइम्स ग्रुप अब और अधिक ताकतवर हो गया है लेकिन इस षक्ति की वजह जितना इस परिवार की मेहनत है उतनी है अहम है इण्डिया टाइम्स ग्रुप के पाठकों की भागीदारी। यह गु्रप कुछ भी न होता अगर आप पाठकों ने हमारा हौसला न बढ़ाया होता और हमारी कमियों को दूर करने में हमारा सहयोग न दिया होता। हम तो अपनी सोच के साथ आगे बढ़ रहे थे लेकिन समय-समय पर आपके सुझावों ने हमारा मार्गदर्षन किया। ये आप सभी का हमारे प्रति प्रेम और विष्वास ही था कि हम मीडिया में एक पहचान हासिल कर सके है।

आप लोगों ने अब तक हमारा साथ दिया तो हम आपसे उम्मीद करते हैं कि हमारे इस नए सफर में भी आप हमारे हमसफर बनकर हमारे साथ चलेंगे। नेटवर्क 10 एक जाना माना नाम है और आप सभी की भावनाएं इस चैनल के साथ जुड़ी हैं लेकिन वो कहते हैं न हर बुरी याद आपको कुछ अच्छा करने के लिए प्रेरित करती है षायद इसी उम्मीद के साथ आपकी भावनाओं को समझते हुए हमने नेटवर्क 10 को कामयाब बनाने का दृढ़ संकल्प लिया है। हमारे इस संकल्प में बेषक मेहनत का नूर हमने साबित करना है लेकिन हमारे इस प्रयास को सफल बनाएगी आपकी हिस्सेदारी। तो आपसे यही आग्रह है कि जिस तरह आज तक आपने इण्डिया टाइम्स को अपने प्रेम से अपने जीवन का अंग बना लिया उसी तरह नेटवर्क 10 को अपने प्यार से सींचने का प्रयास करें क्योंकि हमारी मेहनत तब तक बेमानी है जब तक आपका समर्थन हमें हासिल नहीं होता। इसी उम्मीद के साथ इण्डिया टाइम्स ग्रुप अब अपनी अगली पारी खेलने जा रहा है बस हमारी मेहनत में आपकी रजामंदी की मुहर लग जाए तो हम पत्रकारिता जगत से इस देष में उस बदलाव की नींव रखने का प्रयास कर   सकते हैं जिसका ख्वाब आपने और हमने मिलकर देखा है। तो आइए एक बार फिर षुरूआत करते हैं आपके इन्हीं सपनों और हमारी इसी कोषिष को कामयाबी की मंजिल तक पहुंचाने की ताकि हम अपना कर्म बखूबी निभा सके क्योंकि वो कहते हैं न कर्म ही पूजा है।


where to buy abortion pill open where to buy abortion pills online
abortion pills click here buy the abortion pill online
abortion pills abortion pill buy the abortion pill online
why people cheat in marriage click percentage of women who cheat
why do women cheat black women white men click
open read why do husbands have affairs
buy taladafil viagra generic viagra 20mg pills erections how to prescribe viagra 100mg
buy cheap viagra online uk buy herbal viagra jellys generic viagra softabs
how much viagra is safe viagra soft tabs venta de viagra
marriage affairs beautiful women cheat women who want to cheat
go how women cheat women who like to cheat
link how married men cheat reasons people cheat
what makes a husband cheat My husband cheated on me read
why some women cheat go why do wife cheat on husband
emergency contraceptive abortion pill atlanta ga the cost of abortion pill
abortion pill in chicago redirect where do you get the abortion pill
what makes a husband cheat why do married men cheat website
rifaximin site sildenafil citrate 25mg
free prescription drug cards coupons for prescription drugs manufacturer coupons for prescription drugs
free prescription drug cards site viagra coupon
can i take cymbalta with tramadol click can i take cymbalta with tramadol
can i take antabuse and naltrexone can i take antabuse and naltrexone can i take antabuse and naltrexone
can i take antabuse and naltrexone can i take antabuse and naltrexone can i take antabuse and naltrexone
can i take antabuse and naltrexone can i take antabuse and naltrexone can i take antabuse and naltrexone
lisinopril and vancomycin lisinopril and vancomycin lisinopril and vancomycin
Scroll To Top